कंस नहीं था महाराज उग्रसेन की संतान. जानिए फिर कौन था कंस का असली पिता?

Kansa was not real son of Maharaj Ugrasen. Kansa real father is a demon. Kansa ke bare mein jankari.


कंस की माँ पद्मावती के थे राक्षस से नाजायज सम्बन्ध, उग्रसेन नही थी कंस के पिता!

इन दिनों कृष्ण लीला से जुडी अनजान बातों पर चर्चा भी हो रही है, ऐसे में एक चर्चा ये भी छिड़ चुकी है की क्या एक मनुष्य का पुत्र इतना निर्दई हो सकता है की वो अपनी सगी बहिन के ही बेकुसूर नवजात को पत्थर पे सर पटक के मार दे? देवकी के पहले छे पुत्रो को निर्ममता से मार था कंस ने और इसके बाद भी मथुरा गोकुल वृन्दावन में जितने भी नवजात थे उन्हें भी मरवा दिया था कंस ने.

ये काम कोई मनुष्य नही कर सकता है और कंस एक मनुष्य नही बल्कि राक्षस का पुत्र था, बिलकुल जनाब कंस महाराज उग्रसेन का नही बल्कि किसी और की ही नाजायज संतान थी. वृहद भगवत के श्रिष्टि खंड में इस बात की पुष्टि की गई है की शादी के बाद उग्रसेन जी की पत्नी पद्मावती कुछ दिन अपने मायके गई थी तब पिता सत्यकेतु के यंहा कुबेर के दूत राक्षस दुर्मिल का आना जाना था.

दुर्मिल का दिल पद्मावती पे आ गया और वो उग्रसेन का भेस बदल के पद्मावती के पास पहुँच गया और सम्बन्ध बनाने का प्रस्ताव दिया जिसे पद्मावती ने स्वीकार किया. जब दोनों हमबिस्तर होने लगे तो दुर्मिल का धैर्य टूट गया और वो अपने राक्षस के रूप में आ गया, लेकिन इस पे भी उसके आकर्षण ने पद्मावती ने विरोध नही किया और दोनों ने राक्षश का बीज गर्भ में पहुंचा दिया.

वही बीज परिपक्व हो कंस के रूप में जन्मा जो की अपने पूर्व जनम में कालनेमि नाम का असुर था और फिर धरती पे आया अत्याचार करने. उसके जुल्म की इम्तेहाँ हो गई तो कृष्ण जन्मे और तीन साल गोकुल में रहने के बाद मथुरा आये और कंस का संहार किया. जय श्री कृष्णा








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *