कच्चा आम खाने के फायदे और नुकसान जानिए।

कच्चा आम खाने के फायदे और नुकसान

कच्चा आम भी सेहत लिए फायदेमंद होता हैं। आज के लेख में कच्चा आम यानि हरा आम खाने के फायदे के बारे में जानेंगे। Health Benefits & Side-effects of Raw Mango in Hindi. गर्मियों के दिनों में आम आपको बाज़ार में आसानी के साथ मिलने लगते हैं। लेकिन ज्यादातर लोग कच्चे आम का इस्तेमाल आम का अचार बनाने के लिए करते हैं।

कच्चे आम का स्वाद खट्टा होता हैं, इसलिए यह बच्चों को बहुत ज्यादा पसंद आता हैं। कच्चे आम की चटनी बना कर खायी जाती है, यह चटनी न सिर्फ खाने में स्वादिष्ट होती हैं, बल्कि गर्मियों के दिनों में लू लगने से भी बचाती हैं। अगर आप पका हुआ हुआ आम खाते हैं तो आपका वजन बढ़ सकता हैं, लेकिन कच्चा आम वजन को कम करने में मददगार होता हैं। कच्चा आम डायबिटीज के मरीजों के लिए भी अच्छा होता हैं। आइये कच्चे आम को खाने से सेहत को क्या-क्या लाभ होते हैं, इसके बारे में जानते हैं। कच्चा आम खाने के फायदे और नुकसान जानने के लिए यह लेख पूरा पढ़े।

कच्चा आम खाने के 12 बेहतरीन फायदे :- 

1. डायबिटीज के मरीजों के लिए लाभकारी

कच्चा आम डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद होता हैं। इससे शुगर लेवल को कम करने में मदद मिलती हैं। इसके लिए डायबिटीज के मरीज़ कच्चे आम को दही और चावल के साथ मिला कर खा सकते हैं।

2. खून साफ़ बनाये

हरे आम में विटामिन सी ज्यादा मात्रा में होता हैं जो खून से जुड़ी समस्याओं को दूर करता हैं। कच्चे आम को खाने से ब्लड वेसल्स का लचीलापन बढ़ता हैं, जिससे ब्लड सेल्स के निर्माण में आसानी होती हैं।

3. दांतों के लिए लाभकारी

कच्चा आम विशेष रूप से मसूडो के लिए फायदेमंद हैं। इसके सेवन से मसूड़ो से खून आना, दांतों की सड़न, मूंह की बदबू आने की समस्या दूर होती हैं।

4. प्रेगनेंसी में फायदेमंद

प्रेग्नेंट महिलाओं को गर्भावस्था के दिनों में खट्टी चीज़े खाने के लिए जी मचलाता हैं। इसलिए वह कच्चे आम को खा कर मोर्निंग सिकनेस को दूर कर सकती हैं।

5. बॉडी की इम्युनिटी मजबूत बनाये

कच्चे आम को खाने से बॉडी की इम्युनिटी बढ़ती हैं। जिससे आप हेल्दी और जवां बने रहते हैं। इसलिए गर्मियों के दिनों में कच्चा आम जरूर खाए।

6. एसिडिटी दूर करे

एसिडिटी की समस्या यानि सीने में जलन होने पर कच्चा आम का सेवन करना चाहिए। इससे एसिडिटी दूर होती हैं, इसके अलावा रोजाना कच्चा आम खाने से एसिडिटी की समस्या से बचने में मदद मिलती हैं।

7. कब्ज़ दूर करे

अगर कब्ज़ से परेशान रहते हैं और पेट की कब्ज़ दूर नहीं हो रही हो तो कच्चा आम जरूर खाईये। कब्ज़ से छुटकारा पाने के लिए कच्चे आम के टुकड़े काट ले और इसपर नमक और शहद लगा कर खाए। इससे पुरानी से पुरानी कब्ज़ भी दूर हो जाती हैं।

8. स्कर्वी रोग में फायदेमंद

शरीर में विटामिन सी की कमी से स्कर्वी रोग हो जाता हैं। गर्मियों के दिनों में कच्चे आम को खा कर स्कर्वी की बीमारी को रोकने में मदद मिलती हैं, क्योंकि कच्चा आम विटामिन सी का बढ़िया स्रोत हैं।

9. लीवर के लिए फायदेमंद

कच्चे आम के सेवन से लीवर से सम्बंधित कई सारी समस्याओं को दूर करने में मदद मिलती हैं। एक कच्चा आम रोजाना खाने से पित्त अम्ल का ज्यादा स्त्राव होता हैं। इसके अलावा यह आंतो को बैक्टीरियल इन्फेक्शन से भी बचाए रखता हैं।

10. शरीर में मिनरल्स बनाये रखे

कच्चे आम के रस को पीने से पसीने से सोडियम क्लोराइड और आयरन जैसे तत्व बॉडी से ज्यादा नहीं निकलते हैं। यानी की कच्चा आम खाने का फायदा यह है की यह शरीर में मिनरल्स को बरकरार रखता है।

11. एनर्जी देता हैं

कच्चे आम को खाने से शरीर को एनर्जी मिलती हैं। गर्मियों के दिनों में दोपहर के समय आलस्य होने लगती हैं। इसलिए दोपहर के समय लंच करने के बाद एक कच्चा आम जरूर खाना चाहिए, इससे आलस्य को कम करने में काफी ज्यादा मदद मिलती हैं।

12. घमौरियों से छुटकारा दिलाये

इसके सेवन से न सिर्फ घमौरियां दूर होती हैं, बल्कि यह सूरज की हानिकारक किरणों से भी आपको बचाता हैं। इसके अलावा यह भी माना जाता हैं की कच्चा आम गर्मियों के दिनों में लू लगने की समस्या से बचने में काफी ज्यादा मददगार हैं।

कच्चा आम खाने के नुकसान :-

जैसा की प्रकृति का नियम हैं की किसी भी चीज़ को ज्यादा मात्रा में लेने से नुकसान ही होते हैं, तो ऐसे में कच्चे आम के भी नुकसान हैं।

कच्चे आम को ज्यादा मात्रा में खाने से गले में जलन, पेचिश, बदहजमी और पेट दर्द की शिकायत हो सकती हैं।

चेतावनी :- कच्चे आम को खाने से पहले एक बात का ध्यान जरूर रखे। कच्चे आम का दूध यानि अर्क (चोप) निकाल कर ही इसे खाए। क्योंकि अगर आप आम का चोप (दूध, अर्क) का सेवन भी करते हैं तो आपको मूंह के इन्फेक्शन, गले का इन्फेक्शन और गेस्ट्रो जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *