किशमिश खाने के फायदे

किशमिश खाने के फायदे

 

अंगूर को जब विशेषरूप से सुखाया जाता है तब उसे किशमिश कहते हैं। अंगूर के लगभग सभी गुण किशमिश में होते हैं। यह दो प्रकार का होता है, लाल और काला। किशमिश खाने से खून बनता है, वायु दोष दूर होता है, पित्त दूर होता है, कफ दूर होता, और हृदय के लिये बड़ा हितकारी तथा हार्ट अटैक को दूर रखने में मदद करता है।

आइये जानते हैं किशमिश खाने के फायदे के बारे में. किशमिश के फायदे. Benefits of Raisin in Hindi. ::-

  1. कब्‍ज – जब किशमिश को खाई जाती है तो यह पेट में जा कर पानी को सोख लेती हैं। जिस वजह से यह फूल जाती है और कब्‍ज में राहत दिलाती है।

 

  1. वजन बढाए – हर मेवे की तरह किशमिश भी वजन बढाने में मददगार साबित होती है क्‍योंकि इसमें फ्रकटोज़ और ग्‍लूकोज़ पाया जाता है जिससे एनर्जी मिलती है। अगर आपको भी अपना वजन बढाना है और वो भी कोलेस्‍ट्रॉल बढाए बिना तो आज से ही किशमिश खाना शुरु कर दें।

 

  1. अम्लरक्तता -जब खून में एसिड बढ जाता है तो यह परेशानी पैदा हो जाती है। इसकी वजह से स्‍किन डिज़ीज, फोडे़, गठिया, गाउट, गुर्दे की पथरी, बाल झड़ने, हृदय रोग, ट्यूमर और यहां तक कि कैंसर होने की संभावना पैदा हो जाती है। किशमिश में अच्‍छी मात्रा में पोटैशियम और मैगनीशियम पाया जाता है जिसको खाने से अम्लरक्तता की परेशानी दूर हो जाती है।

 

  1. एनीमिया – किशमिश में भारी मात्रा में आयरन होता है जो कि सीधे एनीमिया से लड़ने की शक्‍ति रखता है। खून को बनाने के लिये विटामिन बी कॉमप्‍लेक्‍स की जरुरत को भी यही किशमिश पूरी करती है। कॉपर भी खून में लाल रक्‍त कोशिका को बनाने का काम करता है।

 

  1. बुखार :- किशमिश में मौजूद फिनॉलिक पायथोन्‍यूट्रियंट जो कि जर्मीसाइडल, एंटी बॉयटिक और एंटी ऑक्‍सीडेंट तत्‍वों की वजह से जाने जाते हैं, बैक्‍टीरियल इंफेक्‍शन तथा वाइरल से लड़ कर बुखार को जल्‍द ठीक कर देते हैं।

 

  1. शराब के नशे से छुटकारा := शराब पीने की इच्छा हो तब शराब की जगह 10 से 12 ग्राम किशमिश चबा-चबाकर खाते रहें या किशमिश का शरबत पियें। शराब पीने से ज्ञानतंतु सुस्त हो जाते हैं परंतु किशमिश के सेवन से शीघ्र ही पोषण मिलने से मनुष्य उत्साह, शक्ति और प्रसन्नता का अनुभव करने लगता है। यह प्रयोग प्रयत्नपूर्वक करते रहने से कुछ ही दिनों में शराब छूट जायेगी।

 

  1. यौन दुर्बलता :- इस समस्‍या के लिये रोजाना किशमिश खाएं क्‍योंकि यह कामेच्छा को प्रोत्साहित करती है। इसमें मौजूद अमीनो एसिड, यौन दुर्बलता को दूर करता है। इसीलिये तो शादी-शुदा जोडों को पहली रात दूध का गिलास दिया जाता है जिसमें किशमिश और केसर होता है।

 

  1. हड्डी की मजबूती :- किशमिश में बोरोन नामक माइक्रो न्‍यूट्रियंट पाया जाता है जो कि हड्डी को कैल्‍शियम सोखने में मदद करता है। बोरोन की वजह से ऑस्‍टियोप्रोसिस से बडी़ राहत मिलती है साथ ही किशमिश खाने से घुटनों की भी समस्‍या नहीं पैदा होती।

 

  1. आंखों के लिये :- इसमें एंटी ऑक्‍सीडेंट प्रोपर्टी पाई जाती है, जो कि आंखों की फ्री रैडिकल्‍स से लड़ने में मदद करता है। किशमिश खाने से कैटरैक, उम्र बढने की वजह से आंखों की कमजोरी, मसल्‍स डैमेज आदि नहीं होता। इसमें विटामिन ए, ए-बीटा कैरोटीन और ए-कैरोटीनॉइड आदि होता है, जो कि आंखों के लिये अच्‍छा होता है।







इन्हें भी जरूर पढ़े...

2 thoughts on “किशमिश खाने के फायदे

  1. Sunil

    Sir kabz ke upchar me kismis ko bhigo kr morning me khana h to iski kitni matra honi chahiye or iska sevan kya daily kr sakte h. Long time use krne ka koi nuksan to nhi ha. Kabz ke upchar me मुन्नका better h ya kismis.

    Reply
    1. admin Post author

      कब्ज़ की समस्या होने पर आप 15 से 20 किशमिश को पानी में 20 तक उबाले और इसे रात भर के लिए पानी में ऐसे ही भिगो कर रखे, मतलब की जिस पानी में आपने किशमिश को उबाला हैं, उसी में इसे रात भर के लिए भिगो कर रखे, सुबह उठकर खाली पेट इस किशमिश वाले पानी को पीजिये और भिगोये हुए किशमिश को भी खा ले, इससे कब्ज़ दूर होने लगती हैं. रोजाना आप 15 से 20 किशमिश आराम से खा सकते हैं, इससे लॉन्ग टर्म में कोई नुकसान नहीं होता हैं.

      अगर मुनक्का की बात करे तो मुनक्का भी किशमिश का ही एक रूप हैं, कब्ज़ की समस्या होने पर शाम के समय 10 मुनक्के को साफ़ पानी से धो कर एक गिलास दूध में उबाल ले. रात को सोने से पहले मुनक्के के बीज निकाल कर फ़ेंक दे और मुनक्के को खा ले और उपर से गर्म दूध पी ले. इससे कब्ज़ में बहुत ज्यादा लाभ होता हैं. लेकिन जब इस नुस्खे से दस्त होने लगे तो इस नुस्खे को अजमाना बंद कर दे.

      दोनों ही कब्ज़ को दूर करने वाले हैं, आप दोनों में किसी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं… धन्यवाद…

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *