कैंसर को रोकने में मदद करते हैं यह फूड और आहार।

कैंसर को रोकने में मदद करते हैं यह फूड। कैंसर से बचने के लिए क्या खाना चाहिए? कैंसर को रोकने के लिए क्या खाए?

कैंसर की बिमारी भारत में बहुत ही तेज़ी के साथ बढ़ रही हैं। आज के लेख में हम जानेंगे की कैंसर को रोकने में कौन कौन से ऐसी आहार हैं जो फायदेमंद होते हैं। कैंसर के खतरे को कम करने के लिए आपको क्या खाना चाहिए? यह चीज़े ऐसी हैं जिन्हें आप बड़ी ही आसानी के साथ अपनी डाइट में शामिल करे सकते हैं, इन चीजों को खाने से आप कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी होने के खतरे से बचे रह सकते हैं।

Best food for Cancer in Hindi. Cancer ko rokne ke liye kya khaye? Cancer se bachne ke tarike.

कैंसर को रोकने वाले फूड :-

ग्रीन टी

ग्रीन टी में एंटीऑक्सीडेंट, एमिनो एसिड, एंजाइम और लिपिड्स पाए जाते हैं जो ब्रेस्ट कैंसर, ओवेरियन कैंसर और एंडोमेट्रियल कैंसर को रोकने में सहायता करता हैं। रोजाना एक कप ग्रीन टी पी कर कैंसर होने के खतरे से बच सकते हैं।

हरी पत्तेदार सब्जियां

हरी पत्तेदार सब्जियों में फोलेट और विटामिन बी पाए जाते हैं जो कैंसर के हानिकारक प्रभावों से लड़ने में सक्षम हैं। साथ ही इनमे कैल्शियम भी भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं जो हड्डियों को मजबूत बनाता हैं और सेल्स की मुरम्मत करने में भी मदद करता हैं।

मशरूम

मशरूम को बड़े ही चाव के साथ खाया जाता हैं और यह बहुत ही पौष्टिक सब्जी मानी जाती हैं। मशरूम को खाने से बॉडी की इम्युनिटी बढ़ती हैं और कैंसर होने के खतरे से बचा जा सकता हैं। मशरूम में लेक्टिन नाम का प्रोटीन पाया जाता हैं जो कैंसर सेल्स पर हमला करता हैं और उन्हें बढ़ने से रोकता हैं।

छाछ

छाछ सबसे अच्छा प्रीबायोटिक हैं। इसमें 100 से भी अधिक एंजाइम पाए जाते हैं, यह एंजाइम इन्फेक्शन से लड़ने और इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने का काम करते हैं। छाछ में कई एंटीबाडी पाए जाते हैं जो सर्दी-जुकाम से हमें बचाते हैं। छाछ में एंटी कैंसर गुण पाए जाते हैं, इसलिए बटर मिल्क को पीने से कैंसर होने के खतरे से बचा जा सकता हैं।

यह भी पढ़े :- छाछ या लस्सी पीने के फायदे।

समुंदरी शैवाल और समुंदरी सब्जियां

समुंदरी शैवाल और सब्जियों को खाने से कैंसर को रोकने और इसका उपचार करने में मदद मिलती हैं। इन सब्जियों में प्रोटीन, आयोडीन, कैल्शियम और मैग्नीशियम प्रचुर मात्रा में होता हैं। यह शरीर की स्तिथि को सुधारने और नेचुरल रूप से ट्रीटमेंट करने में मददगार हैं।

लहसुन और प्याज

लहसुन और प्याज में सल्फर कंपाउंड पाए जाते हैं जो फेफड़े, बड़ी आंत और प्रोस्टेट कैंसर के सेल्स को नष्ट करने का काम करते हैं। लहसुन के सेवन से ब्लड प्रेशर भी कण्ट्रोल में रहता हैं। यह इंसुलिन के उत्पादन को कम करके बॉडी को ट्यूमर होने के बचाता हैं।

ब्रोकली

ब्रोकली कैंसर से रक्षा करने में आपकी सहायता करता हैं। इसमें फाइटोकेमिकल्स प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। जब आप ब्रोकली को चबाते हैं तो यह एंजाइम आपके शरीर का हिस्सा बन जाते हैं और आपको हॉर्मोन कैंसर से बचाने में आपकी मदद करते हैं। ब्रोकली शरीर को detoxify करने में भी मदद करता हैं, जिससे शरीर के ज़हरीले तत्व बाहर निकल जाते हैं। कई रिसर्च से यह बात साबित हो चुकी हैं की ब्रोकली शरीर में कैंसर सेल्स को बनने से रोकता हैं।

अंडे

अंडे में अच्छी मात्रा में विटामिन बी, डी, ई और प्रोटीन पाए जाते हैं। अंडे में सेलेनियम पाया जाता हैं जो कीमोथेरेपी से होने वाले दुष्प्रभाव को कम करने में मददगार होता हैं। यह मतली, पेट दर्द, बालो का झड़ना और कमजोरी को ख़त्म करता हैं। यानि की आप हर दिन केवल 1 अंडा खा कर कैंसर होने के खतरे से बचे रह सकते हैं।

गाजर

गाजर में कैंसर से लड़ने वाले एंटीऑक्सीडेंट जैसे बीटा कैरोटीन आदि पाए जाते हैं। जो टिश्यू को डैमेज होने से रोकते हैं और कैंसर सेल्स को बढ़ने नहीं देते हैं। डेनमार्क के वैज्ञानिको ने अपनी रिसर्च में यह पाया की गाजर में जीवाणु नाशक फैलकैरिनोल पाया जाता हैं जो कैंसर होने की आशंका को 33% तक कम करने में उपयोगी हैं। इसलिए कैंसर से बचने के लिए गाजर का सेवन जरूर करे।

यह भी पढ़े :- गाजर का जूस पीने के फायदे।

काले

यह एक किस्म की गोभी ही होती हैं जो कैंसर को रोकने में आपकी सहायता करती हैं। इसमें बीटा कैरोटीन, विटामिन के, सी और ल्यूटिन बहुत ही अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं। काले के सेवन से हड्डियाँ मजबूत बनती हैं और वाइट ब्लड सेल्स की संख्या में बढ़ोतरी होती हैं। इसमें सैलफोरैन नाम का केमिकल पाया जाता हैं जो कैंसर से लड़ने में सक्षम हैं।

हल्दी

हल्दी को नेचुरल एंटी कैंसर मसाला माना जाता हैं। यह कैंसर सेल्स को नष्ट करके ट्यूमर को बढ़ने से रोकती हैं। इसके सेवन से कीमोथेरेपी का असर बढ़ता हैं। हल्दी को काली मिर्च और तेल के साथ मिला कर लेने से यह और भी ज्यादा असरकारी बन जाती हैं।

स्ट्रॉबेरी

स्ट्रॉबेरी सिर्फ एक टेस्टी रसीला फल नहीं हैं, बल्कि यह कैंसर विरोधी भी हैं। इसमें पाए जाने वाले फेनोल्स इसे एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइन्फ्लेटरी गुणों से भरपूर बनाते हैं। जिससे यह एक एंटी कैंसर एजेंट की तरह काम करता हैं। स्ट्रॉबेरी में एलेजिक एसिड पाए जाते हैं जो कैंसर को बनाने वाले कारणों और पदार्थो को ख़त्म करने का काम करते हैं।

Acai berries

Acai berries में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इस बेरी में 11 गुणा ज्यादा एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। एक रिसर्च में पता चला की बेरी एक्ट्रेक्ट्स, खास तौर पर काली रसभरी और स्ट्रॉबेरी पेट के कैंसर को रोकने में मदद करते हैं। इन रसभरी के सेवन से भूलने की बीमारी और दिल की बीमारी को कम किया जा सकता हैं।

ताज़ी हरी सब्जियां

ताज़ी सब्जियां जैसे बीन्स, फली और मटर में अत्यधिक मात्रा में विटामिन बी पाया जाता हैं। जो इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता हैं और सेल्स को रिपेयर करने का काम करता हैं। यह बॉडी में रेड ब्लड सेल्स को बढ़ाने में भी मदद करता हैं और कैंसर से रिकवरी करने का काम करता हैं। फूल गोभी और ब्रोकली में शक्तिशाली कैंसर रोधी अणु पाए जाते हैं जो डिटोक्सीफिकेशन एंजाइम के प्रोडक्शन को बढाते हैं, जो कैंसर सेल्स को नष्ट करते हैं और ट्यूमर को बढ़ने से रोकता हैं। इनके सेवन से मूत्राशय, प्रोस्टेट, पेट और फेफड़ो के कैंसर होने के खतरे को कम किया जा सकता हैं।

अंगूर

इनमे एंथोसायनिन और पुलीफेनल्स होते हैं जो कैंसर सेल्स के उत्पादन को कम करने का कार्य करते हैं। इसलिए अंगूर को खाने से कैंसर को रोकने में मदद मिलती हैं।

यह भी पढ़े :- अंगूर खाने के 24 बेहतरीन फायदे। 

दाल और फलियां

दाल और फलियां प्रोटीन का उत्त्चम स्रोत माने जाते हैं, साथ ही इनमे फाइबर और फोलेट भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। जो पैनक्रियाज़ के कैंसर होने के खतरे को कम करता हैं। फलियाँ में प्रतिरोधी स्टार्च होता हैं जो बड़ी आंत की कोशिकाओं की सेहत में सुधार लाता हैं।

पुदीना

पुदीना एक बेहतरीन हर्ब हैं जो कैंसर ट्रीटमेंट के बाद होने वाले साइड-इफ़ेक्ट को कम करता हैं। यह मूंह को सूखने और मतली आने को रोकने का काम करता हैं। मतली को कण्ट्रोल करके आप डीहाइड्रेशन के खतरे को कम कर सकते हैं।

आम और कद्दू

आम और कद्दू में अल्फा और बीटा नाम के कैरटिन नाम के शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। इन दोनों को खाने से मूत्राशय, पेट और ब्रेस्ट कैंसर समेत कई प्रकार के कैंसर की रोकथाम करने में मदद मिलती हैं।

अदरक

ताज़े अदरक में कैंसर सेल्स से लड़ने वाले कुछ विशेष गुण पाए जाते हैं जो ट्यूमर की कोशिकाओं को रोकने में सहायता करते हैं। कैंसर के उपचार में प्रयोग की जाने वाली कीमोथेरेपी और रेडियोथरेपी से होने वाली परेशानी को कम करता हैं। केमोट्रीटमेंट से अगर रोगी अदरक खाता हैं तो उसे मतली कम आएगी।

यह भी पढ़े :- अदरक खाने के फायदे।

तरबूज और टमाटर

यह दोनों लाइकोपीन का श्रेष्ठ स्रोत हैं। लाइकोपिन को एक स्ट्रोंग एंटीऑक्सीडेंट माना जाता हैं जो फ्री रेडिकल्स से आपको बचाता हैं। हफ्ते में खाने का 10वां हिस्सा टमाटर खाने से प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा 18% तक कम किया जा सकता हैं।

सोया

सोया प्रोटीन और एस्ट्रोजन से भरपूर होता हैं। रिसर्च से पता चला की सोया के सेवन से ब्रेस्ट कैंसर से पीड़ित मरीज़ के ट्यूमर के साइज़ को कम किया जा सकता हैं। इसमें जेंसटीन नाम का एक घटक पाया जाता हैं जो कैंसर सेल्स को नष्ट करने का काम करता हैं। साथ ही इससे कैंसर सेल्स का बढ़ना रूक जाता हैं। लेकिन आपको यह भी ध्यान रखना होगा की सोया सबके लिए लाभकारी नहीं होता हैं।

किन्नू, संतरे और पपीता

इन फलों में ऐसे विटामिन और तत्व पाए जाते हैं जो लीवर में पाए जाने वाले कार्सिनोजन को नष्ट करने का काम करते हैं। किन्नू और उसके छिलके में फ्लावोनोइड और नोबिलेटिन नाम के तत्व होते हैं जो कैंसर सेल्स को बढ़ने से रोकते हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *