गर्भावस्था के दिनों में गर्भवती महीला को केसर का सेवन करने के फायदे।

गर्भवती महिला को केसर खाने के फायदे जरूर पढ़े।

केसर को दुनिया का सबसे महंगे मसाले के रूप में जाना जाता हैं। इसे अंग्रेजी भाषा में Saffron कहा जाता हैं। केसर अपने गुणों के कारण विश्व में सबसे प्रसिद्ध मसाला हैं। अमूमन लोग इसका इस्तेमाल रंग को गोरा करने के लिए करते हैं।

केसर में रिबोफ्लेवीन और थाईमिन जैसे तत्व पाए जाते हैं जो सेहत के लिए लाभकारी होते हैं। आम धारणा हैं की गर्भवती महिला को केसर वाला दूध पिलाया जाये तो होने वाला बच्चा गोरा पैदा होता हैं। लेकिन इसके ऊपर की गयी कई रिसर्च ने यह साफ़ कर दिया हैं की यह आपका भ्रम हैं, क्योंकि बच्चे के रंग का गोरा होना उनके माता-पिता के जीन्स पर निर्भर होता हैं।

चाहे केसर से होने वाले बच्चे का रंग गोरा हो या न हो, लेकिन प्रेग्नेंट वुमन को गर्भावस्था में केसर का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए। केसर से गर्भवती महिला को ढेर सारे फायदे होते हैं। Benefits of Saffron in Pregnancy for Pregnant Woman in Hindi.

गर्भावस्था में केसर खाने के फायदे :-

गर्भवती स्त्री को दिन में सिर्फ 4 बार रेशे केसर को दूध में मिला कर पीना चाहिए। इससे उसका ब्लड प्रेशर नार्मल रहता हैं और इससे उसका मूड भी सही बना रहता हैं। इसके साथ ही यह मांसपेशियों के दर्द से भी आराम दिलाता हैं।

गर्भावस्था के पांचवे महीने में गर्भवती महिला को बच्चे के घूमने का अहसास होने लगता हैं। केसर वाला दूध पीने से यह अहसास और भी अच्छी तरह से होता हैं। इसके प्रयोग से शरीर का तापमान सही बना रहता हैं। लेकिन केसर का सेवन ज्यादा मात्रा में भी नहीं करना चाहिए।

केसर रक्त शोधक के रूप में भी काम करता हैं। इससे किडनी और लीवर से सम्बंधित समस्याएं भी दूर होती हैं।

प्रेगनेंसी पीरियड में गर्भवती महिला को पाचन से सम्बंधित समस्याएं शुरू हो जाती हैं। क्योंकि शरीर में रक्त संचार में अनियमितता आने लगती हैं। ऐसे में केसर का सेवन करना लाभकारी होता है, इससे पेट की समस्याएं दूर हो जाती हैं।

प्रेग्नेंट महिला को कई बार आँखों में तनाव महसूस होता हैं। लेकिन केसर को दूध में मिला कर पीने से इससे आराम मिलता हैं। यह विशेष करके उन्हें आँखों की समस्याओं से छुटकारा दिलाता हैं।

गर्भावस्था के समय पेट में ऐंठन होने पर गर्भवती महिला असहज महसूस करती हैं। ऐसे में केसर दर्द निवारक का काम करता हैं, यह दर्द को दूर करने में मदद करता हैं।

चाहे केसर अपने गुणों और लाभ के कारण गर्भावस्था में अच्छा ही क्यों न हो। लेकिन इसे ज्यादा मात्रा में नहीं लेना चाहिए। इसके अलावा बाज़ार में आपको शुद्ध केसर भी आसानी से नहीं मिल पाता हैं। क्योंकि बाज़ार में मिलावटी केसर की भरमार हैं। इसका कारण यह हैं की केसर बहुत ही महंगा हैं, इसलिए इसमें मिलावट की जाती हैं। इस मिलावटी केसर का इस्तेमाल करने से गर्भवती महिला को हानि भी हो सकती हैं। इसलिए जहां शुद्ध केसर गर्भावस्था में फायदा पहुचाता हैं तो मिलावटी केसर आपको नुकसान पहुचाता हैं। इसलिए गर्भावस्था के दिनों में गर्भवती महिला को केसर का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि केसर में होने वाली मिलावट आपके लिए नुकसानदायक ही होगी। लेकिन अगर आपको शुद्ध केसर मिल जाये तो इससे परहेज़ करना भी अच्छी बात नहीं हैं।

और एक बात और भी नोट करले की केसर वाला दूध पीने से या केसर को दूध में मिला कर पीने से बच्चा गोरा पैदा नहीं होता हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...