गर्मियों में इन बीमारियों से ऐसे बचाव करे.

गर्मियों में इन बीमारियों से ऐसे करे बचावगर्मियों का मौसम आते ही अपने साथ कई बीमारी लेकर आ जाती है। इस मौसम में बीमारियों का खतरा सबसे ज्यादा होता है। अगर आप इस मौसम में जरा सा भी चूके तो आप किसी न किसी बीमारी की चपेट में आ जाएगे।

इस मौसम में सबसे ज्यादा बीमारियां सामने आती है वो है- लू, चिकनपॉक्स, स्ट्रोक, डिहाइड्रेशन आदि। इस मौसम में इन बीमारियों से बचाव बहुत ही जरुरी है। जिससे आप इस मौसम में हेल्दी रह सकें। जानिए इस मौसम में आप अपनी देखभाल कर सकती है।

गर्मी में दिल को त्वचा तक रक्त पहुंचाने के लिए काफी जोर लगाना पड़ता है। ऐसे में तापमान के 42 डिग्री पर पहुंचने पर यह जरूरी हो जाता है कि हीट स्ट्रोक, डिहाइड्रेशन, फ्लू, चिकन पॉक्स और डायरिया से बचने के लिए सावधानी बरती जाए। गर्मियों में उम्रदराज लोगों, बच्चों और दिल के रोगियों, डायबिटीज और हाइपरटेंशन के मरीजों को समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए बचाव जरूरी है।

प्यास न भी लगे, तब भी पानी पीते रहना चाहिए। दिल के रोगियों को तीव्र गर्मी में घर के अंदर ही रहना चाहिए, क्योंकि गर्मी में दिल को त्वचा तक रक्त पहुंचाने के लिए काफी जोर लगाना पड़ता है। ज्यादा मेहनत जानलेवा हो सकती है। जंक फूड और सड़क किनारे से कुछ खरीदकर न खाएं, क्योंकि गर्मी में खाना जल्दी खराब होता है।

• हीट स्ट्रोक गर्मी में ज्यादा देर काम करने से शरीर के ओवरहीट होने से होता है। ऐसे व्यक्ति का इमरजेंसी इलाज करना चाहिए, नहीं तो उसके कई अंग काम करना बंद कर सकते हैं। लगातार तरल पदार्थ लेने, गर्मी से बचने, हवादार कपड़े पहनने से काफी राहत मिलती है।

• शरीर में पानी की कमी होने से डिहाइड्रेशन होता है। ज्यादा व्ययाम, गंभीर डायरिया, उल्टी, बुखार या ज्यादा पसीना इसके आम कारण हैं। व्यायाम के वक्त पानी न पीना या गर्मी में वैसे भी डीहाइड्रेशन हो सकता है। छोटे बच्चों, उम्रदराज लोगों और पुरानी बीमारी वालों को ज्यादा खतरा है। इसलिए गर्मी में पानी पीते रहना जरूरी है।

• चिकनपॉक्स और मीजल्स भी गर्मी में होते हैं, क्योंकि तब इसके वायरस तेजी से फैलाते हैं। इसलिए सबको इसका वैक्सीनेशन लेना जरूरी है।

•मूत्र मार्ग में संक्रमण भी बच्चों और बड़ों की आम बीमारी है। औरतों को अक्सर पता नहीं चलता कि उनमें पानी की कमी हो रही है और पानी न पीने से संक्रमण होता है।

गर्मी में भी पानी उबालकर पीना चाहिए, क्योंकिपानी की गुणवत्ता में कमी हो जाती है। पानी में अगर ऑर्सेनिक, जंग, कीटनाशक आदि मिला हो तो उसे पीने से डायरिया, हैजा, टायफायड वगैरह हो सकता है।




Loading...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

पीपल के पेड़ के फायदे
गर्मियों में खीरा खाने के फायदे.
ज्वार के दाने के खाने के फायदे.
भोजन करते समय इन बातों का रखे ख्याल.
लौंग की चाय पीने के फायदे – Benefits of Clove Tea in Hindi.
सीने की जलन दूर करने के उपयोगी घरेलु नुस्खे और उपाय।
इन आदतों की वजह से पुरुषो का स्पर्म काउंट कम होने लगता हैं।
करोंदे (cranberry) का जूस पीने के फायदे और नुकसान।
प्रेगनेंसी पीरियड में तिल खाने से गर्भवती महिला को होते हैं यह बेहतरीन फायदे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *