गर्मियों के मौसम में बिमारियों से बचाव करने के तरीके जानिए।

गर्मियों के मौसम में बिमारियों से बचाव करने के तरीके जानिए।

गर्मियों का मौसम आते ही कई सारी बीमारियाँ भी होने लगती हैं। गर्मियों का मौसम मानों बिमारियों का मौसम होता हैं। अगर गर्मियों के दिनों में तनिक भी लापरवाही की जाए तो आपको कोई न कोई बीमारी हो ही जाएगी। गर्मियों के दिनों में ज्यादातर यह बीमारियाँ जैसे की लू लगना, चिकनपॉक्स, डिहाइड्रेशन होने का ख़तरा काफी बढ़ जाता हैं। इसलिए गर्मियों के दिनों में इन बिमारियों से बचने में ही भलाई हैं।

आइये जानते हैं ऐसे तरीके, जिससे गर्मियों के दिनों में स्वस्थ्य रहने में आसानी होती हैं। आइये जानते है गर्मी के दिन में अपनी सेहत का कैसे ख्याल रखना चाहिए।

गर्मियों के मौसम में दिल को स्किन तक ब्लड पहुचाने में काफी ज्यादा मशक्कत करनी पड़ती हैं। अगर तामपान 42 डिग्री तक हो जाये तो हीट स्ट्रोक, फ्लू, चिकनपॉक्स, डायरिया, डिहाइड्रेशन जैसी समस्याओं से बचने के लिए ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत पड़ती हैं। गर्मियां छोटे बच्चों, बूढ़े व्यक्तियों, डायबिटीज के मरीजों, दिल के पेशेंट, हाइपरटेंशन के रोगियों के लिए काफी खराब होती हैं, इनसे उन्हें काफी ज्यादा नुकसान होता हैं। इसलिए इन लोगो को गर्मियों से सुरक्षा पाने के लिए कोशिश करते रहना चाहिए।

गर्मियों के मौसम में बिमारियों से बचने का सिंपल तरीका यह हैं की प्यास लगे या न लगे, लेकिन तब भी पानी पीते रहना चाहिए। दिल के मरीजों को तेज़ गर्मी के मौसम में घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। क्योंकि गर्मी में दिल स्किन को ब्लड सप्लाई करने में काफी जोर लगाता हैं। ज्यादा मेहनत जानलेवा साबित हो सकती हैं। इसके अलावा गर्मियों के दिनों में सड़क किनारे मिलने वाले फ़ास्ट फ़ूड को खाने से भी बचना चाहिए, क्योंकि गर्मी के दिनों में खाना जल्दी खराब हो जाता हैं।

गर्मियों के दिनों में इन बिमारियों से ऐसे करे बचाव :-

चिकनपॉक्स और मीजल्स गर्मियों के दिनों में ज्यादा होते हैं, क्योंकि तब इसके वायरस बहुत ही तेज़ी के साथ फैलते हैं। इसलिए इन सबसे बचने के लिए वैक्सीनेशन करवा लेना चाहिए।

हीट स्ट्रोक यानि लू लगना गर्मी में ज्यादा देर तक काम करने और शरीर के ओवरहीट होने की वजह से होता हैं। ऐसे में मरीज़ का बहुत जल्दी उपचार करना चाहिए। नहीं तो उसके बॉडी के पार्ट्स काम करना बंद कर सकते हैं। लगातार लिक्विड पिलाते रहना चाहिए, गर्मी से बचने और हफादार कपड़े पहनने से काफी ज्यादा आराम मिलता हैं।

बच्चों और बड़ों में मूत्रमार्ग संक्रमण होना आम बात हैं। स्त्रियों को पता ही नहीं चल पाता हैं की उनके शरीर में पानी की कमी हो रही हैं और पर्याप्त मात्रा में पानी न पीने के कारण उन्हें संक्रमण हो जाता हैं।

गर्मियों के दिनों में शरीर में पानी की कमी नही होने देनी चाहिए। पानी की कमी की वजह से डिहाइड्रेशन होता हैं। ज्यादा कसरत करने, डायरिया, बुखार, उल्टी या ज्यादा पसीना आना डिहाइड्रेशन की वजह बनते हैं। कसरत करते समय पानी न पीना या गर्मी के मौसम के कारण वैसे ही डिहाइड्रेशन हो सकता हैं। छोटे बच्चे, बुजुर्गों और पुरानी बीमारी से ग्रस्त मरीजों को डिहाइड्रेशन होने का ख़तरा ज्यादा रहता हैं। इसलिए गर्मियों के दिनों में लगातार पानी पीते रहने की सलाह दी जाती हैं।

♥ गर्मियों के दिनों में पानी को उबाल कर ही पीना चाहिए। क्योंकि पानी की गुणवत्ता में कमी देखने को मिलती हैं। पानी में अगर ऑर्सेनिक, जंग, कीटनाशक मिला हुआ हो तो इससे डायरिया, टाइडफाईड जैसी बिमारियां हो सकती हैं, इससे बचने के लिए पानी उबाल कर पीना अच्छा उपाय हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...