चोट लगने के बाद टेटनस का टिका क्यों लगवाए?

चोट लगने के बाद टेटनस का टिका क्यों लगवाये

जब भी किसी तरह की चोट लग जाती है तो डॉक्टर टिटनेस का इंजेक्शन लगवाने की सलाह देते हैं। कई बार कुछ लोग लापरवाही में इस इंजेक्शन को लगवाना इग्नोर भी करते हैं, लेकिन इसका कारण यह है कि वो लोग ये नहीं जानते कि ऐसा करना कितना खतरनाक साबित हो सकता है।दरअसल, लोहे या किसी धातु से लगने वाली चोट के बाद टिटनेस का इंजेक्शन लगवाना जरुरी होता है। न लगवाने पर यहां बताई गई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। Chot lagne par Tetanus ka injection kyon lagwana chahiye. Why Tetanus injection after injury. Tetanus ka ijection kyon lagwana kyon hain jaroori? 

1.टिटनेस के जीवाणु मिट्टी, खाद या धूल में पाए जाते हैं। इसे ‘लॉकजॉ’ भी कहा जाता है, क्योंकि यह जबड़े को बंद कर देता है। जिसकी वजह से मुंह खुलना अंसभव हो जाता है। ऐसे में व्यक्ति कुछ भी नही खा पाता है।

2.शरीर में कहीं चोट या घाव होने पर यह जीवाणु वहां चिपक जाते हैं और शरीर में संक्रमण पैदा कर देते हैं। ये खासकर उस जगह पनपते हैं जहां गंदगी होती है।

3. जानवर के काटने, जलने या गलत इंजेक्शन लगाने से भी टिटनेस होने का डर रहता है।

यह रोग संक्रामक नहीं होता है, इसलिए चिंता न करें, किसी को हो जाने पर उसकी मदद करें न कि उसे अलग कर दें।

4.बच्चाें को इसका टीकाकरण जरूर करवाएं, इससे उसके शरीर में टिटनेस के लिए जीवाणु एंटीबॉडी विकसित हो जाएगी।

5. यदि बचपन में आपका टिटनेस का टीकाकरण नहीं दिया गया था, तो अब आप टिटनेस का टीकाकरण करवा लें। यह टीकाकरण 3 चरणों में होता है – पहले टीके को देने के बाद, दूसरा टीका 4 सप्ताह बाद दिया जाता है और तीसरा टीका, 6 से 2 सप्ताह बाद लगाया जाता है।


Loading...


इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *