फास्टफूड (जंक फूड) खाने से सेहत को होते यह नुकसान…

Junk food khane ke nuksan.

बर्गर, पिज़्ज़ा, नूडल्स इनका नाम सुनकर मूंह में पानी आ गया ना. लेकिन यह फ़ास्ट फ़ूड हमारी सेहत के लिए नुकसानदायक होते हैं. आज हम जानेंगे की फ़ास्ट फ़ूड (जंक फ़ूड) खाने से हमारी सेहत को

जब अमेरिकन साइंटिस्ट माइकल जेकबसन ने साल 1972 में “जंक फुड” वर्ड का पहली बार इस्तेमाल किया था तो उनका मतलब कबाड़ जैसे खाने से था. उन्होने ऐसे फुड के बारे में समझने की कोशिश की थी, जो स्वाद में तो अच्छे लगते हैं, लेकिन इसमे पौष्टिक तत्व ना के बराबर होते हैं. साथ, ही यह सेहत के लिए नुक़सानदायक होते हैं. भारत में फास्ट-फुड का बज़ार 2020 तक 27.57 अरब डॉलर का हो जाएगा. इंडियन जितनी तेज़ी के साथ इस फुड की तरफ एट्रेक्ट हो रहे हैं, उतनी ही तेज़ी से बीमारियो का ख़तरा बढ़ रहा हैं. जंक फुड फैट बढ़ने के साथ दिल की कई बीमारियो के लिए ज़िम्मेवार हैं.

बर्गर

मात्रा – 100 ग्राम
कैलोरी – 295
फैट – 14%

बर्गर हाई कैलोरी फुड हैं. यह वजन बहुत ही तेज़ी के साथ बढ़ाता हैं. साथ ही, इससे कोलेस्टरॉल बढ़ने का ख़तरा भी होता हैं. इसमे उपयोग किया जाने वाला सॉस भी फैट बढ़ाता हैं.

इन 3 कारणों के कारण बर्गर हैं हानिकारक

1) Mayonnaise Sauce:- एक डबल हैमबर्गर में 2.16 ग्राम सैचुरेटेड फैट और 172 mg कोलेस्टरॉल होता हैं, जबकि मेयोनेज़ सॉस में 3.5 ग्राम सैचुरेटेड फैट और 26mg कोलेस्टरॉल होता हैं. नॉन-वेज बर्गर में कोलेस्टरॉल का ख़तरा और ज़्यादा होता हैं.

2) तेल और मैदा ;- बर्गर में मौज़ूद मैदे से आँत और दिल की बीमारियो का जोखिम बढ़ता हैं. साथ ही, तेल ब्लड में कोलेस्टरॉल और बॉडी में फैट बढ़ा देता हैं. बर्गर से अनसैचुरेटेड और ट्रांस फैट दोनो ही बढ़ते हैं. हाल में हुए एक रिसर्च से यह पता चला हैं की ट्रांस फैट जानलेवा साबित हो सकता हैं.

3) सोडियम :- मेयोनेज़ के साथ एक डबल हैमबर्गर में 1.08 ग्राम सोडियम होता हैं, जबकि एक व्यक्ति को एक दिन में 2.3 ग्राम से अधिक सोडियम नही लेना चाहिए. इस तरह, हैमबर्गर से ब्लड प्रेशर और किडनी के रोगो का जोखिम बढ़ जाता हैं.

नूडल्स

मात्रा – 100 ग्राम
कैलोरी – 138
सोडियम – 0.8%

नूडल्स भले ही तुरंत तैयार किया जा सकता हैं और यह स्वादिष्ट भी लगते हैं, लेकिन यह कई बीमारियो का पैदा कर सकते हैं. नूडल्स खाने से फैट तेज़ी के साथ बढ़ता हैं, साथ ही दिल की बीमारिया भी हो सकती हैं. इनमे मौज़ूद मैदा आँतो के लिए नुक़सानदायक होता हैं. नूडल्स के ज़रिए मोनो सोडियम ग्लूटामेट (MSG) शरीर में जाता हैं, जो किडनी रोग, माइग्रेन, हाइपरटेंशन और हार्ट अटैक का कारण बन सकता हैं. इनमे न्यूट्रियेंट्स नही के बराबर (लगभग 6%) होते हैं.

1. पैकेजिंग के ख़तरे :- पैक किए हुए नूडल्स भी कम नुकसानदेह नही होते हैं. इन्स्टेंट नूडल्स को preservative के साथ बॉक्स में पैक किया जाता हैं. बंद कप में Plasticizers मिल जाते हैं, जिससे कैंसर का जोखिम बढ़ जाता हैं.

2. रिसर्च की फाइंडिंग :- कन्ज़्यूमर एजुकेशन & रिसर्च सेंटर ने एक रिसर्च में दुनिया के 15 मुख्य नूडल्स brands को शामिल किया. इन नूडल्स में सॉल्ट की मात्रा ज़्यादा और फाइबर की क्वांटिटी बहुत कम पाई गयी. इस रिसर्च से यह साबित हो गया की नूडल्स से माइग्रेन और चिडचिड़ापन हो सकता हैं. फाइबर की कम मात्रा से कोलाइटिस और नमक की ज़्यादा मात्रा से टेंशन की प्राब्लम हो सकती हैं.

पिज़्ज़ा

मात्रा – 100 ग्राम
कैलोरी – 151
सोडियम – 6.75 ग्राम

अधिक पिज़्ज़ा खाने से दिल के रोगो का ख़तरा बढ़ जाता हैं. 28 ग्राम के एक पिज़्ज़ा स्लाइस में 18.5 ग्राम फैट होता हैं. यह शरीर को रोजाना मिलने वाले डेली फैट का 28% होता हैं. अमेरिकन अग्रिकल्चर डिपार्टमेंट की एक रिपोर्ट के अनुसार की नमक (सोडियम) के 3 बिग सोर्स में पिज़्ज़ा भी एक हैं. 10 इंच के एक स्माल चीज़ पिज़्ज़ा में लगभग 1200 कैलोरी होती हैं.

1. रिसर्च की फाइंडिंग ;- पिज़्ज़ा बनाने में इस्तेमाल किया जाने वाला आनाज़ पेट की चर्बी को बढ़ता हैं. यह घातक हो सकता हैं. यह बात अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रियेंट्स के रिसर्च में साबित हुई हैं. इसी तरह, हार्वर्ड मेडिकल स्कूल में हुई एक स्टडी के अनुसार पिज़्ज़ा खाने से आँत संबंधी बीमारियो होने की संभावना काफ़ी बढ़ जाती हैं, वही आब्डॉमिनल फैट से टाइप-2 डायबिटीज, ब्रेस्ट कैंसर और दिल के रोग होने का जोखिम होता हैं.

फास्ट फुड बच्चो के लिए हैं घातक :-

इंटरनेशनल स्टडी ऑफ अस्थमा & एलर्जीस इन चाइल्डहुड ने एक सर्वे किया हैं. इसमे से 100 से अधिक देशों के 6-7 और 13-14 साल के करीब 5 लाख बच्चे शामिल किए गये. इन सर्वे के अनुसार, जंक फुड खाने वाले बच्चो में एलर्जी, Rhinitis और एक्जिमा के मामले ज़्यादा देखे गये.

फास्ट फुड के यह विकल्प अच्छे साबित हो सकते हैं :-

1. मल्टीग्रेन रोटी :- यह बच्चे और बड़े सभी के लिए फायदेमंद होते हैं. यह लो कैलोरी और शुगर फ्री होता हैं. इसमे वीट बिस्किट्स, हाई फाइबर कुकीस और दूसरे बेकरी प्रॉडक्ट्स इस्तेमाल किए जा सकते हैं.

2. कॉर्न :- कॉर्न जंक फुड का गुड आप्शन हैं. इसमे कारबोहाईड्रेट, प्रोटीन, विटमिन्स और अन्य मिनरल्स होते हैं. स्वीट या बेबी कॉर्न भी सलाद और सूप के साथ इस्तेमाल किए जा सकते हैं.

3. दलिया :- दलिया ना सिर्फ़ शरीर को एनर्जेटिक रखता हैं, बल्कि यह वजन पर भी काबू रखता हैं. नमकीन और मीठा, दोनो तरह का दलिया जंक फुड को बेटर आप्शन हो सकता हैं.








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *