जानिए होठों के सूखने की वजह क्या हैं?

जानिए होठों के सूखने की वजह क्या हैं?

अमूमन ज्यादातर लोगो के होंठ फटते ही हैं। फटे हुए सूखे होंठ न सिर्फ आपकी खूबसूरती को खराब करते हैं, बल्कि इससे आपको भी काफी असहज महसूस होता हैं। होंठो के सूखने की वजह से वह फटने लगते हैं, जिससे आपको लोगो के सामने शर्मिंदा महसूस होना पड़ता हैं। होंठो के फटने की समस्या या फिर लिप्स के ड्राई होने की चिंता लड़कियों को ज्यादा रहती हैं। वैसे तो फटे हुए सूखे होंठो को मुलायम और गुलाबी बनाने के उपयोगी घरेलु नुस्खे और उपाय तो हैं ही, लेकिन होंठो के सूखने के वजह क्या हैं, यह जानना और भी जरूरी हैं। क्योंकि जब आप होंठो के सूखने की वजह जान जायेंगे तो इससे बचने में आपको आसानी होगी। What is the cause of dry Lips?

ड्राय लिप्स की प्रॉब्लम आपको परेशान कर सकती हैं। लेकिन यह परेशानी और भी ज्यादा बढ़ जाती हैं, जब आपके होंठ फटने लगते हैं और इनमे दर्द होने लगता हैं। ऐसे में लिप्स के सूखेपन होने के वजहों को जानकर उन्हें दूर करने की जरूरत हैं।

होंठो के सूखने की वजह यह हैं :-

■ गर्मी के कारण

गर्मियों के दिनों में शुष्क और गर्म हवाओं की वजह से होंठों को काफी ज्यादा नुकसान होता हैं। इसके अलावा सूर्य की हानिकारक अल्ट्रा वायलेट किरणें और सॉफ्ट ड्रिंक का सेवन भी होंठो को हानि पहुंचाता हैं। ऐसे में गर्मियों के मौसम में होंठो को सूखने से बचाना बहुत ही ज्यादा जरूरी हैं।

■ दवाओं के ज्यादा सेवन के कारण

कई बार सर्दी-जुकाम, बैचनी, दर्द निवारक, नाक की एलर्जी, डिप्रेशन आदि की दवाइयों के साइड-इफ़ेक्ट के रूप में होंठ फटने लगते हैं। अगर आपको ऐसा लगता हैं दवाइयों के सेवन के कारण आपके होंठ सूख रहे हैं तो अपने डॉक्टर को इसके बारे में जरूर बताये।

■ डिहाइड्रेशन होने के कारण

अगर शरीर में पानी की कमी हो जाये तो भी होंठ सूखने और फटने लगते है। स्किन की भाँती होंठ में भी कोई वसामय ग्रन्थि नहीं होती हैं। जिसके कारण होंठो की नमी बहुत ही जल्दी ख़त्म हो जाती हैं। होंठ शुष्क मौसम में बहुत जल्दी सूखने और फटने लगते हैं। होंठों को सूखने और फटने से बचाने का सबसे आसान और असरदार तरीका यह हैं की आप ज्यादा से ज्यादा मात्रा में पानी पीजिये। एक स्वास्थ्य व्यक्ति को दिन भर में कम से कम 8 से 10 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए। (जरूर पढ़े :- डिहाइड्रेशन से बचने के तरीके।)

■ नाक की बजाये मूंह से सांस लेना

जब आप मूंह से सांस लेते हैं तो होंठो से वायु का स्पर्श ज्यादा होने लगता हैं। जिससे आपके होंठ सूखने लगते हैं। साइनसाइटिस, सर्दी-जुकाम, बंद नाक, स्लीप एप्निया होने पर मूंह से सांस लेना पड़ता हैं। इससे होंठो पर काफी बुरा प्रभाव पड़ता हैं। ऐसे में होंठो को सूखने से बचाने के लिए इन बीमारियों का इलाज करवाना बहुत ही ज्यादा जरूरी हैं।

■ होंठो को दबाने की कारण

कई लोगो की आदत ऐसी हैं की वह अपने होंठो को बार-बार दबाते रहते हैं। होंठो को लिकिंग करने की खराब आदत से होंठो में नमी की कमी हो जाती हैं। जो लोग होंठों को जीभ से चाटते रहते है, उन्हें भी ऐसा नहीं करना चाहिए। क्योंकि होंठो पर पानी की कमी होने और होंठो के ड्राई होने पर कुछ ही समय में होंठो से सलाईवा की कोटिंग समाप्त हो जाती है। जब पानी का सलाइवा ही ख़त्म हो जाता है तो होंठो की नमी भी ख़त्म होने लगती हैं। इसलिए होंठो को दबाने, चबाने और चाटने की बुरी आदत को छोड़ने में ही होंठो की भलाई हैं।

■ एलर्जी होने की वजह से

निकोल और कोबाल्ट की वजह से अगर एलर्जी हो जाये तो भी होंठ फटने लगते हैं। कई सारी लिपस्टिक में प्रोपेल गैलेट और फिनाइल सालिसिलेट होता हैं, तो कुछ टूथपेस्ट ऐसे भी हैं जिनमे गुआईजुलिन पाए जाते हैं, जो होंठो में एलर्जी पैदा कर देते हैं। ऐसे में जिन टूथपेस्ट और लिपस्टिक में ऐसे केमिकल का इस्तेमाल किया गया हो, ऐसे प्रोडक्ट्स का प्रयोग नहीं करना चाहिए। इसके अलावा कई खाने पीने वाली चीज़ों में फ़ूड डाइ मिली हुई होती हैं, जो होंठो में एलर्जी पैदा कर सकती है।

■ घर से बाहर ज्यादा रहने के कारण

सर्दी, गर्मी के दिनों में घर से बाहर ज्यादा समय तक घूमने या रहने की वजह से होंठो को हानि होती हैं। ऐसे में सर्दियों और गर्मियों दोनों ही मौसम में होंठो की सही देखभाल की जरूरत होती हैं। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आपके होंठ सूख जायेंगे और फटने लगेंगे।

■ केमिकल वाला टूथपेस्ट भी है हानिकारक

कई सारे टूथपेस्ट ऐसे हैं जिनमे ऐसे केमिकल मिलाये गये होते हैं जो होंठो पर जलन उत्पन्न करते हैं। जिसके कारण होंठ फटने लगते हैं। टूथपेस्ट में मिलाये गये इस केमिकल को सोडियम लोरेल सल्फेट कहा जाता हैं। ऐसे में नेचुरल टूथपेस्ट का इस्तेमाल करना चाहिए। इसके अलावा च्युइंगगम, मिठाई और टूथपेस्ट में इस्तेमाल होने वाले सिन्नामेट्स भी होंठो के लिए खतरनाक हैं।

√ अन्य कारण :-

होंठो के सूखने की वजह शरीर में नियासिन, विटामिन बी 12 की कमी भी होती हैं। इससे मूंह में दरारे पड़ने लगती हैं। इसके अलावा यीस्ट इन्फेक्शन, हाइपरविटामिनोसिस ए, डायबिटीज, क्वासकी बीमारी की वजह से भी होंठो में सूखापन आ जाता हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *