ज्यादा अदरक की चाय पीने से होते हैं यह नुकसान।

ज्यादा अदरक की चाय पीने से होते हैं यह नुकसान।

अदरक वाली चाय को सर्दियों के दिनों में बहुत ही चाव के साथ पिया जाता हैं। यहाँ तक की प्राचीन आयुर्वेद और चायनीज़ दवाईयों में भी करीब 3000 वर्षो से अदरक का इस्तेमाल एक औषधि के रूप किया जाता रहा हैं। अदरक से बनी चाय को पीने के सेहत को ढेर सारे फायदे होते हैं

अदरक में पोटैशियम, मैग्नीशियम, विटामिन बी6 और विटामिन सी पाए जाते हैं। इसमें शरीर के लिए जरूरी ऑयल्स जैसे की Gingerol, Zingerone, Shogaol, Farnesene, beta-phellandrene, paradols भी प्रचुर मात्रा में होते हैं। इसका मतलब यह हैं की अदरक की चाय पीना सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होता हैं। लेकिन दोस्तों कुदरत ने ऐसे नियम बनाये हैं, जिसके तहत अति किसी भी चीज़ की बुरी होती हैं। इसलिए अदरक वाली चाय को ज्यादा पीने से सेहत को नुकसान भी होते हैं। आइये जानते हैं अदरक वाली चाय पीने के नुकसान क्या हैं? Side-effects of Ginger tea in Hindi.

अदरक वाली चाय पीने के नुकसान :-

खून पतला बनाये और डिसऑर्डर पैदा करे

अगर आप खून को पतला बनाने की दवाई ले रहे तो उसके साथ अदरक का सेवन किसी भी रूप में न करे। इसमें Ibuprofen और Aspirin जैसी दवाइयां भी शामिल हैं। जो लोग हाई ब्लड प्रेशर की दवाई खा रहे हैं, उन्हें कभी भी अदरक का सेवन किसी भी रूप में नहीं करना चाहिए। क्योंकि यह ब्लड प्रेशर को बहुत कम कर देता हैं, जिससे हार्ट Palpitation की समस्या हो जाती हैं। अदरक की जड़ ब्लड प्लेट्स के साथ क्रिया करती हैं। जिसके कारण हीमोग्लोबिन जमने लगता हैं। अदरक के ज्यादा इस्तेमाल से लोगो में Hemophilia जैसे खून दोष हो जाते हैं। इसलिए अदरक की चाय को पीने से पहले डॉक्टर की सलाह ले।

प्रेगनेंसी में सावधानी

गर्भावस्था में अदरक का सेवन करना चाहिए या नहीं यह बहुत ही विवादित मुद्दा हैं। लेकिन गर्भावस्था में गर्भवती को अदरक न खाने की सलाद दी जाती हैं, ऐसा माना जाता हैं की इससे गर्भ में पल रहे बच्चे पर बुरा प्रभाव पड़ता हैं। लेकिन कई जानकार यह कहते हैं की मोर्निंग सिकनेस को दूर करने में अदरक वाली चाय बहुत ही फायदेमंद होती हैं। दूसरी ओर पारम्परिक chinese डॉक्टर्स प्रेगनेंसी के दौरान अदरक का इस्तेमाल माँ और बच्चे दोनों के लिए हानिकारक मानते हैं। उनका यह मत हैं की इससे गर्भपात भी हो सकता हैं। इसलिए अच्छा यह रहेगा की गर्भावस्था में अदरक वाली चाय को पीने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले लेनी चाहिए।

पेट खराब करे

मतली को दूर करने के बावजूद अदरक वाली चाय को खाली पेट पीने से पेट ख़राब हो सकता हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेरीलैंड मेडिकल सेण्टर के अनुसार ऐसा करने से Gastrointestinal ख़राब हो जाता हैं। अदरक की चाय हर व्यक्ति के हिसाब से अलग-अलग मात्रा में ही अच्छी रहती हैं। तो ऐसे में यह कहना मुश्किल होगा की पेट खराब होने से बचने के लिए कितनी मात्रा में अदरक की चाय को पीना सही रहेगा।

डायरिया, मतली और जलन होना

अदरक की चाय को ज्यादा पीने से आपका हाजमा खराब हो जाता हैं। इसके परिणामस्वरूप मूंह में जलन, डायरिया और यहाँ तक सीने में भी जलन होने लगती हैं। इसके अलावा इसे ज्यादा पीने से मानव शरीर में एसिड का निर्माण होने लगता हैं, जिससे आपको एसिडिटी हो सकती हैं। डायबिटीज के रोगियों को किसी भी रूप में अदरक का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, क्योंकि अदरक शरीर में शुगर लेवल को बहुत ही कम कर देता हैं, जिसे Hypoglycemia हो जाता हैं।

गालस्टोन

पित्त की पथरी के रोगियों को डॉक्टर से परामर्श लेने के बाद ही अदरक का इस्तेमाल करना चाहिए। क्योंकि इसके हानिकारक प्रभाव होने के खतरे बहुत ज्यादा रहते हैं। पित्त की पथरी के मरीजों में पित्त का निर्माण काफी दर्दनाक हो सकता हैं। अदरक पित्त के निर्माण में सहायता करता हैं, जिससे आपकी हालत और भी ज्यादा खराब हो सकती हैं।

बेहोशी

सर्जरी से पहले अदरक की चाय नहीं पीनी चाहिए। क्योंकि अदरक बेहोसी के लिए दी जाने वाली दवा के साथ रिएक्शन कर देता हैं। ज्यादा लम्बे समय तक अदरक की चाय पीने वाले लोगो के साथ भी सर्जरी के दौरान यही समस्या होने लगती हैं। Anticoagulants की रिएक्शन के नतीजे पर आदमी को सिंपल रिएक्शन, जख्मो और खून बहने से उबरने में समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं। इसलिए कई डॉक्टर सर्जरी से कम से कम 1 हफ्ते पहले अदरक वाली चाय का सेवन बंद करने की सलाह देते हैं।

नींद न आना

अदरक वाली चाय ज्यादा पीने से आपको नींद न आना और बैचैनी महसूस हो सकती हैं। अदरक की चाय को पीने से कुछ लोगो की नींद उड़ जाती हैं। अदरक की चाय को पीने के बाद आप काफी देर तक नहीं सो पाते हैं, जिससे सीने में जलन होने लगती हैं। नींद न आने के कारण आपको दूसरी समस्याओं का सामना भी करना पड़ सकता हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *