इन आदतों के कारण आप डिप्रेशन के शिकार हो सकते हैं।

इन आदतों के कारण आप डिप्रेशन के शिकार हो सकते हैं।

डिप्रेशन यानि की अवसाद एक ऐसी बीमारी हैं जो युवाओं में ज्यादा होने लगी हैं। ऐसी स्तिथि होने पर व्यक्ति आत्महत्या करने की भी कोशिश करता हैं। ऐसे में इस बीमारी से बच कर रहने की जरूरत हैं। लेकिन क्या आपको पता हैं की आपकी कई आदतें ऐसी हैं, जो आगे चलकर आपको डिप्रेशन का मरीज़ बना सकती हैं।

डिप्रेशन होने की मुख्य वजह खराब लाइफस्टाइल, काम का बोझ, गलत आदतें, बेमेल रिश्ते, दिमाग में हॉर्मोन्स का अनबैलेंस होना शामिल हैं। अवसाद की चपेट में आने से रोगी अपने आप को बहुत ही ज्यादा अकेला और दुःखी महसूस करता हैं। यह बहुत ही भयंकर स्तिथि होती हैं, रोगी जीवन से इतना ज्यादा निराश हो जाता हैं की वह आत्महत्या भी कर सकता हैं। ऐसे में अगर आप ज्यादा उदास हो रहे हैं तो प्लीज इससे बाहर निकलने की कोशिश करे, क्योंकि समय बहुत ही ज्यादा बलवान हैं। जीवन में हमेशा सुख और हमेशा  दुःख नहीं रहता हैं, आज गम हैं तो निश्चित ही कल खुशियाँ भी आपको मिलेंगी। लेकिन आपकी कुछ आदतें आपको आगे चलकर डिप्रेशन का शिकार बना सकती हैं, तो ऐसे में इन आदतों को त्याग देने की जरूरत हैं। आइये जानते हैं इनके बारे में।

डिप्रेशन को बुलावा देती हैं यह आदतें, तुरंत छोड़े :-

1. नकारात्मक लोगो से दूर रहे

अगर आप नेगेटिव लोगो के साथ अपना समय बिताते हैं तो आपको उनके विचारों से अवसाद होने का ख़तरा हैं। इसके अलावा आपको अपनी नेगेटिव सोच को भी त्याग देना चाहिए और हमेशा पॉजिटिव वातावरण में रहना चाहिए। इसलिए डिप्रेशन से बचना चाहते हैं तो आप हमेशा पॉजिटिव सोचे।

2. सोशल मीडिया का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करना

उदासी पर किये गये रिसर्च से यह पता चला हैं की जो सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा एक्टिव रहते हैं। उन लोगो के दिमाग में chemicals बदलाव आने लगते हैं। ऐसे में अगर आप भी अपना ज्यादा समय सोशल मीडिया साइट्स पर बिताते हैं तो आपको सावधान हो जाने की जरूरत हैं। क्योंकि सोशल मीडिया के ज्यादा इस्तेमाल से भविष्य में आप डिप्रेशन के शिकार बन सकते हैं।

3. गर्भनिरोधक दवाईयों का सेवन करना

गर्भनिरोधक गोलियों के सेवन से परिवार नियोजन में मदद मिलती हैं। लेकिन इन दवाइयों के सेवन से शरीर में हॉर्मोन्स में उतार चढ़ाव आने लगता हैं। ऐसे में गर्भनिरोधक गोलियों के सेवन से भी कई बार विषाद की समस्या हो सकती हैं।

4. पैक्ड और प्रोसेस्ड फ़ूड ज्यादा खाना

जो लोग प्रोसेस्ड फ़ूड जैसे की चिप्स, इंस्टेंट नूडल्स आदि नियमित रूप से खाते हैं, उन्हें अवसाद होने का ख़तरा सबसे ज्यादा रहता हैं। क्योंकि प्रोसेस्ड फूड में ऐसे toxins पाए जाते हैं जो ब्रेन में केमिकल लोचा कर देते हैं। यह बात रिसर्च के जरिये साबित हो चुकी हैं,  तो आप भी प्रोसेस्ड और पैक्ड फूड खाने से परहेज़ करे।

5. शारीरिक रूप से एक्टिव न रहना

अगर आप शारीरिक रूप से एक्टिव नहीं रहते हैं, अगर आप व्यायाम या अन्य कोई शारीरिक गतिविधि नहीं करते हैं तो आपको तनाव हो सकता हैं। क्योंकि जब आप एक्सरसाइज नहीं करते हैं तो आपके दिमाग में सेरोटोनिन का लेवल कम होने लगता हैं, जिसकी वजह से आपकी उदासी में बढ़ोतरी होती हैं। तो ऐसे में रोजाना कसरत जरूर करे।

6. हमेशा अकेले रहना

अगर आप अकेले रहते हैं और किसी अन्य व्यक्ति के साथ अपना समय नहीं बिताते हैं तो आपको अवसाद की समस्या हो सकती हैं। क्योंकि अकेलेपन में आपके विचार नेगेटिव होने लगते हैं और अकेला रहने की वजह से आप उदास भी होने लगते हैं। तो ऐसे में एक अच्छा दोस्त जरूर बना ले, जिससे आप बातें कर सके।

7. बीड़ी-सिगरेट पीना

धुम्रपान करना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक माना जाता हैं। और इसके साइड-इफ़ेक्ट की बात करे तो अवसाद भी उनमे से एक हैं। क्योंकि स्मोकिंग करने से शरीर में निकोटिन जमा होने लगता हैं, जिससे आपके दिमाग का केमिकल बैलेंस बिगड़ने लगता हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...