दांतों को स्वस्थ्य रखने के लिए भूल कर भी न करे यह गलतियाँ.

दांतों को सेहतमंद रखने के लिए यह गलतियां नहीं करनी चाहिए.

दांतो की सेहत बनाए रखने के लिए कुछ बातों का ज़हन में रखना ज़रूरी हैं. ऐसा करने से आप लंबे समय तक दांतो की तखलीफ से दूर रह सकते हैं. आदतों में किए गये थोड़े से बदलाव से आप बेहतर नतीज़े पा सकते हैं.

दांतों को स्वस्थ्य रखने के लिए यह गलतियां न करे :-

1- बर्फ चबाना-चूसना

जिन लोगो को बर्फ या ऐसे कोई ठंडी चीज़ो को चबाने या चूसने की आदत होती हैं, उन्हे दांतो की सेहत खराब होने का ख़तरा सबसे ज़्यादा होता हैं. ऐसा करने से दांतो में फ्रैक्चर होने की आशंका बनी रहती हैं. यदि आपको कोई ड्रिंक पीने के बाद बचे हुए बर्फ को चबाने की आदत हैं तो आप इस आदत को त्याग दे. बर्फ चबाने से दांतो में छोटे-छोटे क्रेक बन जाते हैं. जो भविष्य में बड़े होकर दांतो की जड़ो तक पहुच सकते हैं. ऐसा करना बहुत ही घातक होता हैं.

क्या करे ?

ठंडी चीज़ो को कम से कम समय के लिए मूँह में रहने दे. मीठे खाद्य पदार्थो को ज़्यादा देर तक ना चूसते रहे.


2- दांतो को औज़ार समझना

कुछ लोग दांतो को औज़ार की तरह इस्तेमाल करते हैं. वे इससे बोतल की ढक्कन खोलते हैं या नट्स तोड़ते हैं. ऐसा करना दांतो के लिए नुक़सानदायक होता हैं. इससे दांतो की जड़े कमजोर हो जाती हैं. इसके साथ ही दांतो में सेन्सिटिविटी की समस्या पैदा हो जाती हैं. इससे दांतो के किनारे टूट जाते हैं. इसके कारण दांतो में कैविटी होने का ख़तरा सामान्य से अधिक हो जाता हैं. कपड़ो पर लगा छोटे से छोटा टैग भी दांतो से उखड़ना भी हानिकारक साबित हो सकता हैं.

क्या करे ?

दांतो से कोई सख्त चीज़ ना तोड़े. बॉटल के ढक्कन खोलने की गलती कभी मत करे.


3- दाँत पीसना

बहुत से लोगो को दाँत पीसने की आदत होती हैं. ऐसा वे शुरुवाती दौर में गुस्से की वजह से करते हैं. लेकिन बाद में वह उनकी आदत बन जाती हैं. इससे मसूडो पर बहुत ज़्यादा दबाव पड़ता हैं. ऐसा होने से दांतो की जड़े कमजोर होने लगती हैं. लंबे समय तक इस आदत के बने रहने से दांतो के दर्द और कमज़ोरी की समस्या पैदा हो जाती हैं. कुछ लोगो को नींद में दाँत पीसने की आदत होती हैं. यह भी लंबे समय बाद घातक साबित हो सकती हैं. इससे दांतो के कोने घीस जाते हैं और इनमे दरारे पड़ जाती हैं.

क्या करे?

यदि आपको ऐसी आदत हैं, तो खुद पर कंट्रोल करके इसे दूर किया जा सकता हैं.


4- सख़्त ब्रिस्टल वाले टूथब्रश

कुछ लोगो को लगता हैं की जीतने हार्ड टूथब्रश के ब्रिस्टल होंगे उतने ही अच्छे से दाँत साफ होंगे. असल में ऐसा नही होता हैं. सख़्त ब्रिज़्ल के कारण दांतो की जड़ो पर बहुत ज़्यादा प्रेशर पड़ता हैं और सेन्सिटिविटी की समस्या बढ़ जाती हैं. इसके साथ ही कुछ लोग अधिक दबाव बनाकर ब्रश करते हैं. इससे मसूडो को चोट पहुचने का ख़तरा होता हैं. इससे दांतो के आस-पास छाले होने का ख़तरा बढ़ जाता हैं. कुछ समय बाद यह पायरिया का रूप ले सकता हैं.

क्या करे ?

डॉक्टर की सलाह पर टूथब्रश का चयन करे. ब्रश करते समय ज़्यादा ज़ोर ना लगाए.


5- ठीक से ब्रश ना करना

कुछ लोग अभी भी ठीक से ब्रश नही करते हैं. वे इसे फ़िजूल समझकर जल्दी से जल्दी निपटाना चाहते हैं. ऐसा करने से दांतो में कैविटी होने की आशंका ज़्यादा हो जाती हैं. इसके साथ ही रोजाना फ्लोस्सिंग भी की जानी चाहिए. इससे दांतो में फँसे खाने के कण आसानी के साथ निकल जाते हैं. ऐसा ना करने पर दांतो की सड़न की आशंका बढ़ जाती हैं. दिन में सिर्फ़ 1 बार ब्रश करना सही नही हैं. सुबह और रात दोनो बार ब्रश करना चाहिए.

क्या करे ?

रोजाना फ्लोससिंग करे. ब्रश करने को काम ना समझे. आराम से ब्रश करे.








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *