नदी में सिक्के डालने की परंपरा क्यों?

नदी में सिक्के डालने की परंपरा क्यों?

सभी धर्मों में दान मुख्य अंग माना गया है। शास्त्रों के अनुसार दान करना पुण्य कर्म है और इससे ईश्वर की कृपा प्राप्त होती है। दान के महत्व को ध्यान में रखते हुए इस संबंध में कई नियम बनाए गए हैं। ताकि दान करने वाले को अधिक से अधिक धर्म लाभ प्राप्त हो सके। भारत देश में अनेक परंपराएं ऐसी हैं जिन्हें कुछ लोग अंधविश्वास मानते हैं तो कुछ लोग उन परंपराओं पर विश्वास करते हैं।

ऐसी ही एक परंपरा है नदी में सिक्के डालने की। आपने अक्सर देखा होगा कि ट्रेन या बस जब किसी नदी के पास से गुजरती है तो उसमे बैठे लोग या नदी के पास से गुजरने वाले लोग नदी को नमन करने के साथ ही उसमें सिक्के डालते हैं। दरअसल, यह कोई अंधविश्वास नहीं बल्कि एक उद्देश्य से बनाइ गई परंपरा है। इसका पहला कारण तो यह था कि प्राचीन समय में चांदी व तांबे के सिक्के हुआ करते थे।

जब उन सिक्को को नदी में डाला जाता था तो नदी में एकत्रित होने वाले ये सिक्के जल के शुद्धिकरण का काम करते थे। साथ ही, इसके पीछे दूसरा कारण ये भी है कि नदी में सिक्के डालना एक तरह का दान भी होता है, क्योंकि पवित्र नदियों वाले क्षेत्र में कई गरीब बच्चे नदी से सिक्के एकत्रित करते हैं। इसलिए नदी में सिक्के डालने से दान का पुण्य भी मिलता है। साथ ही, ज्योतिष के अनुसार ऐसी मान्यता है कि यदि बहते पानी में चांदी का सिक्का डाला जाए तो अशुभ चंद्र का दोष समाप्त हो जाता है।




Loading...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

जानें साई बाबा की चार बातें, बदल जाएगी आपकी किस्‍मत.
हिन्दू धर्म में मुंडन क्यों करवाया जाता हैं?
इस कारण असंख्य बाणों की शय्या पर लेटे रहे भीष्म पितामह.
पूजा के लिए ताम्बे का बर्तन का ही क्यों इस्तेमाल किया जाता हैं?
आरती में कपूर क्यों जलाते हैं ?
जानिए रुद्राक्ष के बारे में.
पुरी के जगन्नाथ मंदिर के बारे में रोचक और हैरान करने वाले तथ्य.
पन्ना रत्न के बारे में जानिए, इसे कैसे पहने और इससे क्या फायदे होते हैं?
नरक और स्वर्ग में भेजने के लिए यमराज का फैसला.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *