नमक के बारे में जानिए और यह ज्यादा मात्रा में क्यों नहीं खाना चाहिए?

नमक के बारे में जानिए और यह ज्यादा मात्रा में क्यों नहीं खाना चाहिए?

नमक हमारी बॉडी के लिए जरूरी तत्व हैं जो खून को साफ़ करता हैं और बॉडी के खतरनाक बैक्टीरिया को ख़त्म करके होने वाली बीमारियों से हमें सुरक्षा प्रदान करता हैं। लेकिन नमक को एक नियमित मात्रा में ही लेना चाहिए। हमारे शरीर के लिए नमक की मात्रा निर्धारित होती हैं, अगर हम कम या ज्यादा मात्रा में नमक खाते हैं तो संतुलन बिगड़ जाता हैं और कई प्रकार के रोग हमारे शरीर में हो जाते हैं। नमक का ज्यादा उपयोग करने से हाई ब्लड प्रेशर और स्किन से सम्बंधित रोग हो सकते हैं।

नेचुरल नमक कम से कम 25 तरह के होते हैं, जिनमे चूना, आयोडीन, कैल्शियम, फॉस्फोरस, क्लोरिन, गंधक इसके मुख्य रूप हैं, जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही जरूरी तत्व हैं। यह सभी तरह की हरी सब्जियों, साग आदि में पाए जाते हैं। इसलिए आपको अप्राकृतिक यानि की बाहरी नमक को कम खाना चाहिए। प्राकृतिक खाद्य नमक धरती पर मिलने वाले आहारो में आसानी से पाए जाते हैं, जो हमारी अच्छी सेहत के लिए बहुत ही उपयोगी होते हैं। खनिज़ नमक को हम फलो, सब्जियों, अनाजों के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं, इस खनिज़ लवण को हम बाहर से प्राप्त नहीं कर सकते हैं। जब यह खनिज़ लवण अनाज, सब्जियों और फलो के माध्यम से शरीर में प्रवेश करते हैं तो हमारा शरीर इनका भरपूर लाभ उठाता हैं।

इसलिए खाद्य पदार्थो को ज्यादा देर तक पकाने से इनमे से प्राकृतिक नमक नष्ट हो जाता हैं। अगर नेचुरल नमक खाद्य पदार्थो के जरिये हमारे शरीर में नहीं पहुचेगा तो शरीर की विकास की प्रक्रिया, शोधन, शरीर की रचना सभी रूक जाएँगी। अगर शरीर में प्राकृतिक नमक की कमी हो गयी हो तो शरीर के निष्कासन प्रक्रिया में रूकावट आने लगती हैं, जैसे की पसीना कम आता हैं, मल-मूत्र त्याग में भी परेशानी आती हैं।

प्राकृतिक खाद्य नमक हमें दूध, दही, अंडा, मछली आदि से भी मिलता हैं। यह हमें फल, अनाज, सब्जियों से भी प्राप्त होता हैं। शरीर में कभी भी प्राकृतिक खनिज़ लवण की कमी नहीं होने देने चाहिए, वर्ना आपको स्वास्थ्य सम्बन्धी परेशानियों को झेलना पड़ सकता हैं। दैनीक खाद्य पदार्थो से शरीर को जरूरत के अनुसार नमक प्राप्त हो जाता हैं, लेकिन अगर इसकी मात्रा कम हो जाये तो हमें बाहरी नमक की आवश्यकता पड़ती हैं।

नमक कितनी तरह के होते हैं?

1. सेंधा नमक – सफ़ेद और लाल।

2. काला नमक।

3. विड नमक।

4. समुंदरी नमक – यह नमक समुन्द्र से प्राप्त होता हैं। सबसे श्रेष्ठ समुंदरी नमक दक्षिण भारत के राज्यों से हमें प्राप्त होता हैं।

5. सांभर नमक।

6. साधारण नमक – यह उत्तेजक औषिधि के समान हैं। प्राकृतिक चिकित्या में उत्तेजक औषिधि को कोई स्थान नहीं दिया गया हैं। इसका कारण यह हैं की इस प्रकार की चीज़े मनुष्य के स्वास्थय को हानि पहुचाती हैं, जैसे के बिना बीमारी के आप कोई दवाई लेते हैं तो आपको नुकसान ही होगा।

नमक को ज्यादा खाने के नुकसान :-

ज्यादा नमक खाने से ज्यादा प्यास लगती हैं, जब प्यास लगेगी तो पानी पीना पड़ता हैं, जिससे हमारी स्किन ज्यादा एक्टिव हो जाती हैं और ज्यादा पसीना निकलने लगता हैं, पसीना नमकीन होता हैं, जिससे शरीर को बिना वजह ज्यादा परिश्रम करना पड़ता हैं और शरीर की कार्यप्रणाली की क्षमता भी कम हो जाती हैं। ऐसे में आपको कई तरह के रोग हो सकते हैं।

जैसे :-

1. हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती हैं।

2. अधिक नमक का सेवन करने से आपको अनिद्रा की समस्या भी पैदा हो सकती हैं। इसलिए कम नमक के सेवन से आपको अच्छी नींद आती हैं।

3. गर्भावस्था में नमक का सेवन कम करे, इससे कई सारी समस्याएं दूर होंगी।

4. ज्यादा नमक को खाने से आपके बाल झड़ने लगते हैं और आप गंजेपन के शिकार भी हो सकते हैं।

5. ज्यादा नमक खाने से आपको ज्यादा प्यास लगती हैं, इसकी वजह से आपको जुकाम भी हो सकता हैं।

6. अधिक नमक के सेवन से वात रोग को बढ़ावा मिलता हैं, इसलिए कम नमक का सेवन करे।

7. अधिक नमक के सेवन से मोटापा में वृद्धि होती हैं। इसलिए कम नमक का सेवन करना चाहिए।

जैसे सफ़ेद चीनी स्वस्थ्य के लिए हानिकारक हैं, वैसे ही ज्यादा सफ़ेद नमक खाना भी शरीर के लिए खतरनाक हैं।

प्रत्येक आहार को पचाने के लिए एक पाचन रस की जरूरत पड़ती हैं। ज्यादा नमक खाने से वह पाचन रस पैदा ही नहीं हो पाता हैं, जिससे पाचन क्रिया में कई प्रकार की परेशानिया आ जाती हैं।

ज्यादा नमक खाना कैसे कम करे ?

सालो साल से नमक का सेवन करने वाला इंसान एक दम से नमक खाना तो नहीं न छोड़ सकता हैं। लेकिन धीरे-धीरे इसकी मात्रा को कम तो जरूर ही कर सकता हैं। जैसे की आप दही में नमक डालना बंद करदे और भी कई चीज़े ऐसी हैं, जिन पर आप नमक छिड़क कर खाते हैं, उनपर नमक छिड़कना बंद कर दे। नेचुरल नमक हरी सब्जियों में खुद ही पाया जाता हैं। उससे अपना काम चला ले। सलाद, फल आदि के साथ नमक खाना बंद करे।

कहने का तात्पर्य यह हैं की नमक खाए, यह शरीर के लिए जरूरी भी हैं, लेकिन ज्यादा नमक नही खाना चाहिए।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *