नया एयर कंडीशनर (A.C.) खरीदने की टिप्स.

नया A.C. khareedne ki tips.

क्या आप नया एयर कंडीशनर खरीदना चाहते हैं या फिर खरीदने जा रहे हैं? लेकिन आपके दिमाग में यह प्रश्न हैं की कौन सा A.C. खरीदे? एक समय था जब एर कंडीशनर विलाशता का दूसरा नाम था, लेकिन जैसे-जैसे लाइफस्टाइल में परिवर्तन आए और आम आदमी खास करके मिडिल क्लास की खरीदने की क्षमता बढ़ी, A.C. एक ज़रूरत बन गया। New Air conditioner buying tips in Hindi.

गर्मियो के मौसम में एयर कंडीशनर की अभी ज़रूरत भी हैं और समय के साथ स्टेटस की डिमांड भी हैं। दुनिया भर की तमाम छोटी से बड़ी कंपनिया इसका प्रोडक्शन कर रही हैं। विंडो और स्प्लिट के बाद अब पोर्टबल एसी भी बाज़ार में उपलब्ध हैं। लेकिन एक बड़ी कंफ्यूजन हैं की कौन सा एसी खरीदा जाए। एसी की क्षमता क्या हो और कौन सा वेरियेंट बेहतर होगा। वैसे अगर आप भी इन सवालों में उलझे हैं तो आपके लिए हमारे पास कुछ जवाब हैं ;-

बिजली की खपत :- A.C. खरीदने से पहले यह ज़रूर देखे की आपका A.C. कितनी बिजली की खपत करता हैं, क्योंकि महीने के आख़िरी में बिल आपको ही चुकाना हैं। अच्छी बात यह हैं की अब हर एलेक्ट्रॉनिक समान पर बिजली की बचत को लेकर स्टार रेटिंग चिपका होता हैं। जितनी ज़्यादा स्टार रेटिंग उतनी ज़्यादा प्रॉडक्ट की कीमत। लेकिन एसी खरीदते वक़्त कम से कम 3 star रेटिंग वाला प्रॉडक्ट लेना ही सही रहेगा, आप अपनी सुविधा के अनुसार 4 या 5 स्टार वाला एसी भी खरीद सकते हैं।

साइज़ या कैपेसिटी :- एयर कंडीशनर खरीदते समय सबसे बड़ी दुविधा उसके साइज़ या क्षमता को लेकर होती हैं। यह सीधे तौर पर रूम, हॉल या उस जगह के साइज़ पर डिपेंड करता हैं, जहा एसी को इनस्टॉल किया जाना हैं। क्योंकि बड़े कमरों में स्माल एसी कई घंटो की बिजली खपत करने के बाद भी कुछ खास असर नही कर पाते हैं।

स्क्वेयर फीट के लिहाज़ से अगर आपके कमरे का फ्लोर 90Sqft से छोटा हैं तो आपके लिए 0.8 तों का एसी सही रहेगा। जबकि 90-120 Sqft वाली जगह के लिए 1.0 टन का एसी, 120-180 Sqft जगह के लिए 1.5 टन का एसी और 180 Sqft से बड़ी जगह के लिए 2.0 टन का एसी खरीदना सही रहेगा।

विंडो, स्प्लिट या पोर्टबल :- एसी के 3 वेरियंट्स में अपनी-अपनी खूबिया हैं, विंडो एसी अन्य 2 वेरियंट्स के मुक़ाबले थोड़ा सस्ता होता हैं। लेकिन इसकी आवाज़ थोड़ी ज़्यादा होती हैं। यह सिंगल रूम और छोटे कमरो के लिए बेहतरीन हैं। आसानी से इनस्टॉल होता हैं। लेकिन खूबसूरती के मामले में स्प्लिट एसी से पिछड़ जाता हैं।

स्प्लिट एसी में इसके कॉम्पोनेन्ट को बाहर कंही भी इनस्टॉल करने की सुविधा रहती हैं। एयर फ्लो ज़्यादा होने के कारण यह बिग रूम के लिए सही हैं। कॉम्पोनेन्ट बाहर इनस्टॉल होता हैं, लिहाज़ा चलने की वजह से शोर नही होता हैं। दिखने में भी खूबसूरत होता हैं। लेकिन विंडो एसी के मुक़ाबले स्प्लिट एसी थोड़ा महँगा होता हैं। यह बड़े कमरे और हॉल को ठंडा कर देता हैं। यह 2 पार्ट्स में आता हैं, इसका एक पार्ट रूम के बाहर या छत पर लगाया जाता हैं और दूसरा कमरे के अंदर। यानी की इसे एक कमरे और एक जगह पर फिक्स करना पड़ता हैं। जगह बदलने की सुविधा नही होती हैं।

पोर्टबल एसी भी इन दिनों अपनी खूबियो के कारण बहुत पसंद किया जा रहा हैं। इसकी सबसे बड़ी खूबी यह हैं की इसे अपनी ज़रूरत के अनुसार कन्हि भी किसी भी कमरे या हाल के एरिया में रखा जा सकता हैं। इन्स्टलेशन का झंझट नही। आप खुद भी इसे एक जगह से दुर्सी जगह शिफ्ट कर सकते हैं।

फिल्टर, एयर फ्लो, स्विंग :- एक अच्छे एसी का चुनाव इस मायने में महत्वपूर्ण हैं की आप उसकी हवा में साँस भी लेते हैं , यानी की एसी में बढ़िया फिल्टर लगा होना ज़रूरी हैं। एयर फ्लो यह तय करता हैं की आपका एसी आपके कमरे को कितनी जल्दी ठंडा करता हैं। ज़रूरी हैं की एसी में कूलिंग फैन की स्पीड को तय करने की सुविधा हो। कम से कम 2 फैन की स्पीड हो, जिसे आप अपने हिसाब से ऑन कर सके। स्प्लिट और पोर्टबल एसी में स्विंग की सुविधा होती हैं। अब कुछ विंडो एसी में भी यह फीचर आने लगे हैं। हालाँकि की यह थोड़ा महंगा भी होता हैं। एसी को समय-समय पर सर्विसिंग की भी ज़रूरत होती हैं। यह सिर्फ़ इसलिए ज़रूरी हैं ताकि आपका एसी सालों साल चले, बल्कि इसलिए भी ज़रूरी हैं की एसी की सफाई हो और आपको फ्रेश हेल्दी हवा मिले।

दूसरी ज़रूरी बातें :- कई एसी में टाइमर की भी सुविधा होती हैं। यह अलार्म की तरह का एक फीचर हैं, जिसे सेट करने पर यह नियत समय ओं और नियत समय पर ऑफ हो जाता हैं। इससे आपके बिजली की खपत भी कम होती हैं और कमरा ज़रूरत से ज़्यादा ठंडा भी नही होता हैं। इसके लिए कई एसी में सेन्सर भी लगे हुए होते हैं जो कमरे के टेंपरेचर को चेक करते हैं।

वोल्टेज स्टेबिलाइज़र :- एसी के साथ वोल्टेज स्टेबिलाइज़र खरीदने की भी सलाह दी जाती हैं। यह सही भी हैं और ज़रूरी भी हैं। अगर आपका एसी 0.5 से 0.8 टन का हैं तो इसके साथ 2 KVA का स्टेबिलाइज़र सही रहेगा। 1.0 टन से 1.2 टन के एसी के लिए 3 KVA का, 1.2 से 1.6 टन एसी के लिए 4 KWA का , 2.0-2.5 टन के लिए 5 KVA और 3 टन से अधिक क्षमता वाले एसी के लिए 6 KVA का स्टेबिलाइज़र सही रहेगा।




Loading...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

इन टिप्स को करे Follow नहीं आएगा कभी कंप्यूटर-लैपटॉप में वायरस.
गूगल पर भूल कर भी न करे सर्च यह चीज़े...
कम्प्यूटर पर काम करते हुए यह 10 गलतियां आप पर पड़ती हैं भारी.
आलस्य दूर करने के सरल उपाय और तरीके.
पत्नी को खुश करने 10 तरीके.
ATM का करते हैं खूब इस्तेमाल? तो इन बातों का हमेशा रखें ध्यान
ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करते समय इन बातों का रखे ख्याल...
इन तरीको का इस्तेमाल करते हैं हैकर.
आत्म हत्या करने के मजेदार टिप्स.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *