पुरी के जगन्नाथ मंदिर के बारे में रोचक और हैरान करने वाले तथ्य.

Jagannath Mandir ke baare mein interesting facts

हिंदू धर्म के चार धाम में से एक माना जाना वाला भगवान जगन्नाथ का मंदिर उडिसा राज्य के तटवर्ती शहर पुरी में स्थित हैं। इस मंदिर पर भगवान जगन्नाथ के साथ ही भगवान बलराम और देवी सुभद्रा की मूर्ति है जो कि विश्वभर में फेमस है।

ऐसा माना जाता हैं कि जब भगवान विष्णु चारों धामों की यात्रा पर जाते थे तब वो भारत के उत्तरी भाग उत्तराखण्ड के चमोली मे बना बद्रीनाथ में स्नान करते, जिसके बाद पश्चिम में गुजरात के द्वारका में वस्त्र पहनते हैं, फिर पुरी में भोजन करते और दक्षिण के रामेश्वरम में विश्राम करते, जिसके बाद भगवान कृष्ण पुरी में निवास करने लगे और बन गया ये जग के नाथ जगन्नाथ का मंदिर।

हर साल भगवान जगन्नाथ के मंदिर में जून-जुलाई के महीने में विशाल रथयात्रा का आयेजन किया जाता हैं।  जिसमें सम्मिलितक होने के लिए पूरी दुनिया से लोग आते है। माना जाता है कि इस रथ की रस्सी खीचने या छूने मात्र से ही आपको मोक्ष का प्राप्ति हो जाती है। इस रथ यात्रा में को बडे ही धूम-धाम से निकाला जाता है। इसमें तीनों देवी-देवता को अलग-अलग सुसज्जित रथ में विराजित किया जाता है। जो कि अपने आप पर अनोखा है। लेकिन आप जानते है कि विश्व प्रसिद्ध जगन्नाथ जी के मंदिर में कई ऐसे रहस्य है। जिन्हे आप जानकर दंग रह जाएगे। जानि ऐसे रहस्य के बारें मेंय़

हवा के विपरीत लहराता ध्वज
आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इस मंदिर के शिखर में जो लाल रंग का ध्वज लगा हुआ है वो हमेशा हवा के विपरीत दिशा में लहराता है। जो कि एक आश्चर्य से कम नहीं है।  साथ ही प्रतिदिन शाम के समय मंदिर के ऊपर स्थापित ध्वज को मानव द्वारा उल्टा चढ़कर बदला जाता है। ध्वज पर शिव का चंद्र बना हुआ है।

गुंबद की परछाई नहीं बनती
यह विश्व का सबसे भव्य और ऊंचा मंदिर है। यह मंदिर 4 लाख वर्गफुट में क्षेत्र में फैला है और इसकी ऊंचाई लगभग 214 फुट है। मंदिर के पास खड़े रहकर इसका गुंबद देख पाना असंभव है। मुख्य गुंबद की छाया दिन के किसी भी समय अदृश्य ही रहती है। यानी कि कोई परढाई नहीं दिखाई देती है।

रहस्यमयी सुदर्शन चक्र
इस मंदिर में शिखर में लगा सुदर्शन चक्र आप पुरी से कहीं से भी देक सकते है, लेकिन सबसे बड़ी खाशियत य़ह है कि आप किसी भी जगह से देखे ये हमेशा सामने से दिखेगा। इसे नीलचक्र भी कहते हैं। यह अष्टधातु से निर्मित है और अति पावन और पवित्र माना जाता है।

इस मंदिर के ऊपर नहीं उडते एक भी पक्षी
आपको यह बात जानकर हैरान होगे कि इस मंदिर के ऊपर गुंबद के आसपास अब तक कोई पक्षी उड़ता हुआ नहीं देखा गया। साथ ही इसके ऊपर से विमान नहीं उड़ाया जा सकता। मंदिर के शिखर के पास पक्षी उड़ते नजर नहीं आते, जबकि देखा गया है कि भारत के अधिकतर मंदिरों के गुंबदों पर पक्षी बैठ जाते हैं या आसपास उड़ते हुए नजर आते हैं। पुरी के मंदिर का यह भव्य रूप 7वीं सदी में निर्मित किया गया।

यहां की रसोई घर में कभी नहीं होती खाने की कमी
500 रसोइए 300 सहयोगियों के साथ बनाते हैं भगवान जगन्नाथजी का प्रसाद। लगभग 20 लाख भक्त कर सकते हैं यहां भोजन। कहा जाता है कि मंदिर में प्रसाद कुछ हजार लोगों के लिए ही क्यों न बनाया गया हो लेकिन इससे लाखों लोगों का पेट भर सकता है। मंदिर के अंदर पकाने के लिए भोजन की मात्रा पूरे वर्ष के लिए रहती है। प्रसाद की एक भी मात्रा कभी भी व्यर्थ नहीं जाती।

इस मंदिर में प्रसाद अनोखे तरीके से पाकया जाता है।  प्रसाद पकाने के लिए 7 बर्तन एक-दूसरे पर रखे जाते हैं और सब कुछ लकड़ी पर ही पकाया जाता है। इस प्रक्रिया में शीर्ष बर्तन में सामग्री पहले पकती है फिर क्रमश: नीचे की तरफ एक के बाद एक पकती जाती है। यबसे बड़ी बात यही है कि कि नीचे वाले बर्तन का काना न पक कर सबसे ऊपर वाले बर्तन का खाना सबसे पहले पक जाता है।

इस मंदिर में विराजित मूर्ति बदलती रहती है रुप
यहां श्रीकृष्ण को जगन्नाथ कहते हैं। जगन्नाथ के साथ उनके भाई बलराम और बहन सुभद्रा विराजमान हैं। तीनों की ये मूर्तियां काष्ठ की बनी हुई हैं। जो कि प्रत्येक 12 साल में एक बार होता है प्रतिमा का नव कलेवर। मूर्तियां नई जरूर बनाई जाती हैं लेकिन आकार और रूप वही रहता है। कहा जाता है कि उन मूर्तियों की पूजा नहीं होती, केवल दर्शनार्थ रखी गई हैं।




Loading...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

जानिए प्रदोष व्रत के बारे में.
सत्यनारायण व्रत करने का महत्व क्या हैं?
ऐसे शुरू हुई पहचान के लिए फिंगरप्रिंट लेने की शुरुआत
4 वेद कौन से हैं?
अगर आपकी पत्नी में यह 5 गुण हैं तो आप भाग्यशाली हैं.
जानिए 8 ऐसे भ्रम के बारे में जिन्हें हम सच मानते हैं।
गणेश जी से जुड़ी कुछ रोचक बातें और तथ्य।
अंडे के बारे में रोचक जानकारी और बातें, जो शायद ही आपको पता हो?
अगर आप बर्थडे केक पर लगाई गयी मोमबत्तियों को फूंक मारकर बुझाते हैं तो सावधान हो जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *