पेचिश की बीमारी से आराम दिलाते हैं यह घरेलु नुस्खे और उपाय।

पेचिस की बीमारी को दूर करने के घरेलु नुस्खे और उपाय

पेचिश पाचन तंत्र में होने वाली बीमारी हैं, जिसमे डायरिया की समस्या हो जाती हैं। इस बीमारी में मलत्याग से खून और म्यूकस (पीले रंग का चिपचिपा पदार्थ) आने लगता हैं। ऐसे में पेचिस की बीमारी को दूर करने के लिए निम्नलिखित घरलू नुस्खे और उपाय को अजमाने की जरूरत हैं। Home Remedies & Treatment for Dysentery in Hindi.

पेचिश की बीमारी को दूर करने के लिए उपयोगी घरेलु नुस्खे और उपाय :-

छाछ और सेंधा नमक

एक गिलास छाछ में चुटकी भर सेंधा नमक, भुना हुआ जीरा और काली मिर्च का पाउडर मिला कर पीने से पेचिस की बीमारी में लाभ मिलता हैं। इस उपाय को दिन में 2 बार अजमाना चाहिए। इससे अतिसार से काफी आराम मिलता हैं।

अनार का छिलका

250 ml दूध में 50 ग्राम अनार के छिलके को तब तक उबाले, जब तक यह एक तिहाई न रह जाये। फिर पेचिस के मरीज़ को तीन बार बराबर मात्रा में पानी मिला कर पिलाए। यह पेचिश से छुटकारा पाने का काफी असरदार घरेलु नुस्खा हैं।

संतरे का जूस

संतरे का जूस और पानी पेचिस को रोकने का काम करते हैं। संतरे के जूस की जगह पर आप छाछ भी पी सकते हैं। यह दोनों पेट के लिए अच्छे बैक्टीरिया को पैदा करने में मददगार होते हैं। इसके अलावा संतरे के रस और छाछ की जगह पर दही का सेवन भी किया जा सकता हैं। दही और लस्सी दोनों में ही पेट के लिए Good Bacteria मौजूद रहते हैं। जो पेट में एसिड के प्रोडक्शन को कम करते हैं और नुकसानदायक बैक्टीरिया का खात्मा करते हैं।

■ अरंडी का तेल

अरंडी का तेल लुब्रिकेंट और रेचक के रूप में काम करता हैं, और ज़हरीले toxins को बाहर निकाल देता हैं। इस तरह मलत्याग के दौरान रोगी के तनाव को कम करने के लिए मिश्रण के रूप में अरंडी के तेल की छोटी खुराक दी जाती हैं।

बेल फल करे कमाल

बेल यानि बिल्व फल पेचिस को दूर करने का काफी अच्छा तरीका हैं। इसके गुदे को दिन में 2 बार पानी के साथ मिलकर खाए। इससे पेचिस दूर हो जायेगा। इसके अलावा बेल फल के गुदे में गुड़ मिला कर दिन में 3 बार खाने से भी लाभ मिलता हैं। पेचिस से निजात पाने के लिए बिल्व फल के गुदे में सूखी अदरक और छाछ को मिलाकर पीना भी अच्छा रहेगा।








इन्हें भी जरूर पढ़े...