बवासीर (पाइल्स) के इलाज एवं उपचार के लिए उपयोगी घरेलु नुस्खे और उपाय।

बवासीर (पाइल्स) से राहत दिलाने वाले उपयोगी घरेलु नुस्खे और उपाय।

बवासीर होने के कारण क्या हैं?

काफी मसालेदार, ऑयली भोजन अकसर पाचन क्रिया को ख़राब कर देते हैं। साथ ही इन्हें खाने के बाद पानी न पीना भी एक बड़ी वजह होती हैं। खराब पाचन क्रिया से कब्ज़ की समस्या हो जाती हैं। जिससे मलत्याग में बहुत ज्यादा जोर लगाना पड़ता हैं, जिससे आस-पास की त्वचा छिल जाती हैं और इन जगहों के पास मस्से निकल आते हैं जो दर्दनाक होते हैं। इनसे खून भी निकलने लगता हैं। इन्हें ख़त्म करने के लिए ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थो का सेवन करना चाहिए। साथ ही फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थ भी बवासीर से राहत दिलाने में मदद करते हैं।

पेट की बिमारियों का सीधा सम्बन्ध हमारे गलत खान-पान से होता हैं। खाने में तेल और मसाले ज्यादा मात्रा में डालने, रात में देर से भोजन करने, खाने के बाद पानी न पीना यह सभी गंभीर बिमारियों की वजह बन जाते हैं। गैस, एसिडिटी, कब्ज़ और बवासीर ऐसी ही खतरनाक बीमारियाँ हैं। पाइल्स दुनिया भर के लोगो को सता रहा हैं। बवासीर के सबसे ज्यादा मरीज़ विदेशो में होते हैं। इस बीमारी को दूर करने के लिए दवाईओं से लेकर ऑपरेशन तक की सुविधा मौजूद हैं। लेकिन कुछ घरेलु नुस्खे और उपाय को अपना कर भी पाइल्स से छुटकारा पाया जा सकता हैं। Home Remedies for Piles in Hindi.

बवासीर ख़त्म करने और इससे राहत दिलाने वाले घरेलु नुस्खे और उपाय :-

निम्बू

निम्बू के रस को दूध में मिला कर पीने से लाभ मिलता हैं। साथ ही इसमें ग्लिसरीन मिला कर कॉटन की मदद से बवासीर वाले मस्सों पर लगाना भी अच्छा इलाज माना जाता हैं। लेकिन निम्बू को दूध में मिला कर पीने के समय एक सावधानी बरतने की जरूरत हैं। इसे दूध में तुरंत मिला कर दूध के फटने से पहले जल्दी से पी लेना चाहिए।

मेहँदी

मेहँदी की पत्तियों के इस्तेमाल से बवासीर से आराम पाया जा सकता हैं। इसके पत्तो को पानी के साथ पीसकर पेस्ट बनाये। इस पेस्ट को मस्सो वाली जगह पर लगाये, मस्से सूख कर निकल जायेंगे।

मूली

बवासीर की बीमारी को दूर करने में मूली का रस पीना लाभदायक होता हैं। मूली के स्लाइसेस काट ले उसमे ऊपर नमक लगा कर उसे देसी घी में तल कर खाए, इससे बवासीर की समस्या ख़त्म होने लगती हैं। आप मूली की सब्जी भी खा सकते हैं, यह भी बवासीर में राहत दिलाती हैं। इसके पत्तो को सूखा कर पीस ले, और इस पाउडर को खाए, यह बवासीर दूर करने में मदद करता हैं।

जीरा

पानी में जीरा, सौंफ और धनिया पाउडर डाल कर उबाले, 15 से 20 मिनट तक उबलने के बाद इस पानी को छान कर पीजिये। आप चाहे तो इसमें स्वादानुसार नमक और घी भी मिला सकते हैं। यह बवासीर का नेचुरल उपाय साबित होता हैं।

प्याज

प्याज़ को पीसकर इसका रस निकाले, इसमें थोड़ी थोड़ी मात्रा में घी और चीनी मिला कर रोजाना दिन में 2 से 3 बार इस्तेमाल करने पर लाभ मिलता हैं।

अनार

कई लोग खाना खाने के बाद अनारदाना खाते हैं। अनार खाना, इसका जूस पीना और इसके छिलकों को सूखा कर पाउडर बना कर इसका इस्तेमाल करना बवासीर की समस्या को दूर करता हैं। इसके चूर्ण को दही के साथ लेने से बवासीर की समस्या जल्द ही दूर हो जाती हैं।

लीची

बवासीर के मरीजों को लीची जरूर खानी चाहिए। वैसे भी ज्यादा जूसी फलों को खाने से शरीर में पानी की मात्रा बनी रहती हैं, जिससे पाचन क्रिया सही रहती हैं।

कलोंजी

कलोंजी का प्रयोग हम मसाले के रूप में करते हैं। लेकिन आप इसका इस्तेमाल बवासीर के कारगर इलाज में भी कर सकते हैं। इसे पीसकर पानी के साथ मिला कर पेस्ट बनाये और इसे बवासीर के मस्सों पर लगाये।

अमरुद

पाचन क्रिया के दुरुस्त रहने पर बवासीर की समस्या काफी हद तक कण्ट्रोल में रहती हैं। अमरुद को खाने से पाचन क्रिया सही रहती हैं और बवासीर की समस्या दूर रहती हैं।

चाय की पत्ती

चाय की पत्तियों को ग्राइंडर में पीस ले। इस पाउडर को हल्का सा तवे पर गर्म करे और एक से दो बूँद पानी मिला कर बवासीर के मस्से पर लगाये। इससे बवासीर के मस्से धीरे-धीरे सूख कर गिर जाते हैं।

आंवला

आंवले को सूखा कर इसे पीसकर इसका चूर्ण बना ले। अब आप इस पाउडर को दूध, दही या छाछ के साथ मिला कर खाए। यह बवासीर से राहत पाने का बहुत ही कारगर उपचार माना जाता हैं।

मिट्टी का तेल

बवासीर की समस्या से राहत दिलाने में मिट्टी का तेल आपकी मदद कर सकता हैं। फ्रेश होने के बाद ½ मग पानी में लगभग 1 चम्मच के बराबर मिट्टी का तेल मिलाये और इससे बवासीर के मस्सों वाली जगह को धोये।

चुकंदर

चुकंदर को सलाद या जूस के रूप में इस्तेमाल किया जाता हैं। जो खून की कमी को दूर करता हैं। यह बवासीर की प्रॉब्लम से भी छुटकारा दिलाने में कारगर हैं। रोजाना इसके इस्तेमाल से बवासीर के मस्सें धीरे-धीरे ख़त्म हो जाते हैं।

पपीते का दूध

पपीते के सेवन से हाजमा दुरुस्त रहता हैं। वहीँ इससे निकलने वाला दूध मस्सों पर लगाने से बवासीर से राहत मिलती हैं। 15 से 20 दिनों तक इसका इस्तेमाल करने पर आपको फर्क नज़र आने लगता हैं।

अजवाइन

अजवाइन कई सारे रोगों का इलाज हैं। इसे पीसकर इसमें सेंधा नमक मिलाये और इसे दही या छाछ के साथ इस्तेमाल कीजिये। दही जहा पेट को ठंडक प्रदान करती हैं और पाचन क्रिया को सही बनाती हैं तो वहीँ अजवाइन बवासीर के लिए लाभकारी होती हैं।

हरी पत्तेदार सब्जियां

हरी पत्तेदार सब्जियां और हरे साग को खा कर बवासीर की समस्या से बचा जा सकता हैं। हरी सब्जियां खाने और इनका सूप और जूस बना कर पीने से भी बवासीर को दूर किया जा सकता हैं।

भूने हुए चने

काले चने और भूने हुए चनो को खा कर बवासीर की बीमारी से आराम मिलता हैं। चने में प्रचुर मात्रा में फाइबर पाए जाते है जो डाइजेशन सिस्टम को सही बनाये रखता हैं।

लौकी के छिलके

लौकी की सब्जी बनाते समय हम इसके छिलकों को यूँही फ़ेंक देते हैं। लेकीन आप इसेक छिलके को सूखा कर पीस ले। बवासीर में खून की समस्या होने पर रोजाना दिन में 2 बार इसका पाउडर का इस्तेमाल करे। इसे खाने के बाद ठण्डा पानी पीजिये।




Loading...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

रात को सोने से पहले प्याज को मोज़े में रखकर सोने से होने यह फायदे.
नशे की लत को छोड़ने के लिए अपनाये यह घरेलु नुस्खे और उपाय.
बबूल (कीकर) के पेड़ के फायदे और घरेलु नुस्खे जरूर जानिए.
मच्छर दूर भगाने के उपयोगी घरेलु नुस्खे और उपाय.
वेसिलीन (पेट्रोलियम जेली) के 20 फायदे और उपयोग जानिए.
सोंठ के 18 उपयोगी घरेलु नुस्खे और फायदे।
नेचुरल कफ सिरप बना कर पीजिये और खांसी से राहत पाए।
पैर की मोच दूर करने के कारगर घरेलु नुस्खे और उपाय।
चिकनगुनिया को दूर करने के लिए उपयोगी घरेलु नुस्खे और उपाय।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *