ब्रेन ट्यूमर होने के लक्षण यह हैं, इन्हें न करे नज़रअंदाज़।

ब्रेन ट्यूमर होने के लक्षण हैं, इन्हें न करे नज़रंदाज़।

ब्रेन ट्यूमर होने पर दिमाग में कई सारे सेल्स या सिर्फ एक ही सेल्स एबनार्मल तरीके से बढ़ने लगते हैं। ब्रेन ट्यूमर होने पर ब्रेन सेल्स डैमेज होने लगते हैं, जिससे यह जानलेवा बन जाता हैं। ब्रेन ट्यूमर किसी भी उम्र में किसी भी इंसान को हो सकता हैं। लेकिन यह देखा गया हैं की जैसे-जैसे इंसान की उम्र बढ़ती हैं, उसे यह बीमारी होने का ख़तरा ज्यादा होता हैं, यानी की सरल शब्दों में कहे तो उम्रदराज लोगो में ब्रेन ट्यूमर होने की संभावना ज्यादा रहती हैं। इसके अलावा ब्रेन ट्यूमर होने की वजह अनुवांशिक (फैमिली हिस्ट्री) भी होती हैं, तो कुछ मामले ऐसे भी देखे हैं जिसमे व्यक्ति ने किसी केमिकल का ज्यादा इस्तेमाल किया तो उसे ब्रेन ट्यूमर हो गया। इसके अलावा रेडिएशन की वजह से भी ब्रेन ट्यूमर हो सकता हैं।

ब्रेन ट्यूमर 2 तरह का होता हैं, कैंसर वाला ब्रेन ट्यूमर और दूसरा बिना कैंसर वाला ब्रेन ट्यूमर। दोनों ही स्तिथियों में ब्रेन सेल्स डैमेज होने लगते हैं। कई लोगो को ब्रेन ट्यूमर होने के शुरुवाती लक्षणों के बारे में पता ही नहीं चल पाता हैं, क्योंकि उनमे ब्रेन ट्यूमर के कोई संकेत दिखाई ही नहीं देते हैं। जब ट्यूमर बहुत ज्यादा बड़ा या लास्ट स्टेज पर पहुच जाता हैं तो तब जाकर लोग परिक्षण करवाने के लिए जाते हैं। तब तक शायद बहुत ज्यादा देर हो गयी होती हैं। इसलिए आज हम आपको ब्रेन ट्यूमर होने के लक्षण के बारे में बताने जा रहे हैं, ताकि आप इससे सतर्क रह सके। Symptoms of Brain Tumor In Hindi.

ब्रेन ट्यूमर होने के लक्षण और संकेत :-

■ दौरा पड़ना

ब्रेन ट्यूमर होने पर व्यक्ति को दौरे पड़ने लगते हैं। ऐसे में जब रोगी को दौरा पड़ता हैं तो उसे बेहोशी आ जाती हैं।

■ शरीर का बैलेंस बनाने में परेशानी होना

ट्यूमर होने की निशानी यह भी हैं की मरीज़ शरीर का संतुलन बनाने में परेशानी महसूस करने लगता हैं। अगर सेरिबैलम में ट्यूमर हैं तो वह आपकी बॉडी मूवमेंट पर असर डालता हैं।

■ कम सुनाई देना

अगर मष्तिक के टेम्पोरल लोब में ट्यूमर हैं तो सुनने में दिक्कत होने लगती हैं। इसके अलावा कभी कभी ऐसी स्तिथि बन जाती हैं की सुनाई देना बिलकुल ही बंद हो जाता हैं।

■ हमेशा सिरदर्द होना

ब्रेन ट्यूमर होने का सबसे बड़ा लक्षण यह हैं की मरीज़ को हमेशा सिरदर्द होता हैं। रोगी को सुबह के समय सिरदर्द ज्यादा होता हैं और धीरे-धीरे करके यह दर्द और भी ज्यादा तेज़ होने लगता हैं। ऐसी समस्या होने पर तुरंत जांच करवाना चाहिए।

■ बोलने में दिक्कत आना

जैसा की बताया गया हैं की टैंपोरल लोब में ट्यूमर होने पर सुनाई देने में परेशानी होने लगती हैं, उसी तरह टैंपोरल लोब में ट्यूमर होने पर बोलने में भी परेशानी आने लगती हैं। इससे व्यक्ति सही तरह से बोलने में असमर्थ महसूस करता हैं।

■ चीजों को सिखने में परेशानी होना

जिन लोगो को फ्रन्टल लोब में ट्यूमर हैं उन्हें नयी चीजों को सिखने में परेशानी आने लगती हैं। ऐसे लोग अपने व्यवहार पर कण्ट्रोल नही रख पाते हैं।

■ कम दिखाई देना

अगर किसी को आक्सिपिटल के पास ट्यूमर हो गया हैं तो उसे धुंधला दिखाई देने लगता हैं। इसके अलावा उसे रंगों में फर्क करने में भी मुश्किल आती हैं और उसे कम दिखाई देने लगता हैं।

■ सवेंदना महसूस न होना

अगर किसी के दिमाग के पराइअटल लोब में ट्यूमर हैं तो उसे अपनी बाहों और पैरों में सवेंदना कम महसूस होने लगती हैं। क्योंकि ट्यूमर से ब्रेन सेल्स प्रभावित होते हैं, जिससे उन्हें छूने पर उसे कुछ महसूस ही नहीं होता हैं।

■ दैनिक कामों में गड़बड़ी होना

पराइअटल लोब में ट्यूमर होने पर संवेदना पर असर पड़ता हैं। जिससे रोगी को दैनिक कार्यों को करने में भी मुश्किल महसूस होती हैं।

■ उल्टी या मतली आना

ब्रेन ट्यूमर का लक्षण यह भी हैं की सुबह के समय आपको सिरदर्द के साथ उल्टी या मतली भी आने लगती हैं। जिन लोगो को ब्रेन ट्यूमर होता हैं उन्हें खास करके एक जगह से दूसरी जगह पर जाने पर ज्यादा उल्टी या मतली आने लगती हैं।






इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *