मुलेठी खाने के फायदे जानिए।

मुलेठी के फायदे जानिए

मुलेठी में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो सेहत के लिए लाभकारी होते हैं। मुलेठी खाने के फायदे जानने के लिए यह लेख जरूर पढ़े। गले की खराश को दूर करने के लिए मुलेठी चूसना चाहिए। मुलेठी औषधीय गुणों से भरपूर होती हैं, जिससे स्वास्थ्य को ढेर सारे लाभ होते हैं। मुलेठी के फायदे इतने ज्यादा हैं की यह पुरे शरीर के लिए लाभदायक मानी जाती हैं।

क्या आपको पता हैं की मुलेठी की जड़ को उखाड़ने के बाद 2 साल तक भी उसके गुण उसमे मौजूद रहते हैं। मुलेठी का इस्तेमाल प्राचीन काल से ही दवा के रूप में किया जाता रहा हैं। मुलेठी कई प्रकार की बीमारियाँ जैसे की सांस की बीमारियाँ, ब्रेस्ट की बीमारियाँ, योनी की बीमारियाँ आदि को दूर करती हैं। मुलेठी स्वाद में मीठी होती हैं, इस कारण इसे यष्टिमधु भी कहा जाता हैं। मुलेठी का पौधा एक फीट से लेकर 6 फीट तक होता हैं। मुलेठी अंदर से पीली, रेशेदार और हल्की महक वाली होती हैं, वहीं सूखने के बाद यह अम्लीय स्वाद वाली हो जाती हैं।

ताज़ी मुलेठी में 50% तक पानी होता हैं, लेकिन सूखने के बाद इसमें सिर्फ 10% पानी की मात्रा ही रह जाती हैं। Glyceric acid होने की वजह से इसका स्वाद नार्मल शुगर के मुकाबले 50 गुना ज्यादा मीठा होता हैं। आइये जानते हैं मुलेठी के बेहतरीन फायदे और उपाय। Benefits of Mulethi in Hindi.

मुलेठी के फायदे :-

1. पेट के अल्सर के उपचार के लिए मुलेठी बेहद ही फायदेमंद मानी जाती हैं। इससे न सिर्फ गैस्ट्रिक अल्सर बल्कि छोटी आंत के अल्सर को दूर करने में भी मदद मिलती हैं। मुलेठी का पाउडर अपच, अल्सर, हाइपर एसिडिटी आदि को दूर करता हैं। साथ ही अल्सर के घावों को जल्दी भरने में मदद करता हैं।

2. ताज़ी मुलेठी में पानी की मात्रा 50% होती हैं, इसलिए बार-बार मूंह सूखने पर मुलेठी को चूसना चाहिए, इससे प्यास को बुझाने में आसानी होती हैं।

3. हिचकी की समस्या होने पर मुलेठी के चूर्ण को शहद के साथ मिला कर नाक में टपकाने से और 5 ग्राम मुलेठी के चूर्ण को पानी के साथ लेने से फायदा होता हैं।

4. मुलेठी का सेवन टी.बी. की बीमारी में भी फायदेमंद माना जाता हैं।

5. खून की उल्टी होने पर दूध के साथ मुलेठी का चूर्ण लेने से लाभ मिलता हैं। खुनी उल्टी आने की समस्या में इसे शहद के साथ मिला कर भी लिया जा सकता हैं।

6. मुलेठी की जड़ पेट के जख्मो को ख़त्म करती हैं। इससे पेट के जख्म जल्दी भर जाते हैं। पेट में जख्म होने पर मुलेठी की जड़ का चूर्ण इस्तेमाल करना चाहिए।

7. गले की खराश दूर करने के लिए मुलेठी का प्रयोग करना चाहिए। मुलेठी गले को सुरीला बनाने के लिए भी इस्तेमाल की जाती हैं।

8. मूंह सूखने की समस्या हैं तो मुलेठी आपको लाभ पंहुचा सकती हैं।

9. मुलेठी को काली मिर्च के साथ खाने से कफ ढीला होकर निकल जाता हैं। सूखी खांसी होने पर मुलेठी का सेवन जरूर करना चाहिए। इससे खांसी और गले की सूजन दूर होने लगती हैं।

10. मुलेठी स्त्रियों के लिए विशेष रूप से लाभकारी होती हैं। मुलेठी के चूर्ण की एक ग्राम मात्रा नियमित रूप से लेने से स्त्रियाँ अपनी योनी, यौन इच्छा, सौन्दर्य को लम्बे समय तक बनाये रख सकती हैं।

11. अगर आपको हमेशा भोजन करने के पश्चात एसिडिटी की समस्या हो जाती हो तो आपको रोजाना रात को 10 ग्राम मुलेठी को दूध या पानी के साथ लेना चाहिए। इससे एसिडिटी की समस्या दूर हो जाती हैं और भोजन आसानी के साथ पचने लगता हैं।

12. मुलेठी के सेवन से सांस से सम्बन्धित समस्याओं से आराम मिलता हैं।

13. यह खून में होने वाले पी.एच लेवल को नार्मल बनाता हैं, जिससे भोजन आसानी के साथ हजम होने लगता हैं।

14. मुलेठी का नियमित रूप से करने से अमाशय के विकार दूर होते हैं, इसके अलावा यह पेट की जुड़ी समस्याओं को भी दूर करता हैं।

15. मुलेठी का सेवन करने से योनिगत रोग और ब्रेस्ट से रिलेटेड प्रॉब्लम भी दूर होती हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *