मैदे से सेहत को होने वाले नुकसान के बारे में जानिए।

मैदे के नुकसान

मैदा यानि की रिफाइंड आटा सेहत के लिए हमेशा नुकसानदायक ही माने जाते हैं। अगर आप अपनी दिनचर्या में मैदे से बनी चीजों का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं तो निश्चित ही आप बिमारियों को बुलावा भेज रहे हैं। मैदे के ढेर सारे साइड-इफ़ेक्ट होते हैं जो लम्बे समय तक इसका सेवन करने के बाद शरीर में दिखाई देने लगते हैं। Side-effects of Maida (refined Flour) in Hindi.

कई लोग समोसा रोज खाते हैं और समोसा बनाने के लिए मैदे का प्रयोग लाजमी होता हैं। आज बाज़ार में मिलने वाली ज्यादा तली भूनी चीजों को मैदे से ही बनाया जाता हैं। नूडल्स, मोमोस, समोसे, पुड़ी, भटूरे, नान आदि भी मैदे से ही बनाये जाते हैं।  आज के लेख में हम आपको मैदे के नुकसान के बारे में बताएँगे।

मैदे को कैसे बनाया जाता हैं?

मैदा भी आटे की भाँती गेंहू से ही बनाया जाता हैं। सबसे पहले गेंहू को अच्छी तरह से साफ़ कर लिया जाता हैं और इसकी उपरी परत पूरी तरह से हटा दी जाती हैं। फिर इसे benzoyl peroxide से ब्लीच कर दिया जाता हैं, जिससे इसका रंग एकदम से सफ़ेद हो जाता हैं। फिर इसे अच्छी तरह से पीस कर महीन बना दिया जाता हैं। इसमें से फाइबर पूरी तरह से बाहर निकाल दिया जाता हैं, जिसकी वजह से मैदा सेहत के लिए हानिकारक बन जाता हैं।

आपको जानकर हैरानी होगी की चीन और यूरोप के देशो में Benzoyl Peroxide पर बैन लगाया गया है क्योंकि इससे कैंसर होने का ख़तरा ज्यादा हैं।

जैसा की आपको बताया गया हैं की मैदे में से डाइटरी फाइबर पूरी तरह से निकाल दिया जाता हैं, जिसकी वजह से यह मैदे से बनी चीजों को हमारा पाचन तंत्र आसानी से हजम नहीं कर पाता हैं। सही तरह से न पचने की वजह से मैदे के कुछ अंश आँतों में चिपक जाते हैं, जिससे आपको कई तरह की बीमारियाँ होने का ख़तरा रहता हैं।

मैदे के नुकसान :-

बॉडी की इम्युनिटी घटाए

मैदे से बनी चीज़े ज्यादा खाने से बॉडी का इम्यून सिस्टम कमजोर बन सकता हैं। जिससे आपको बीमारियाँ होने का ख़तरा ज्यादा होता हैं। मैदे से बने खाद्य पदार्थो का ज्यादा सेवन करने से आप बार-बार बीमार हो सकते हैं।

गठिया और दिल की बीमारियाँ होने का ख़तरा

मैदे से बनी चीजों को खाने से ब्लड शुगर लेवल बढ़ता हैं, इससे खून में ग्लूकोज़ जमने लगता हैं। इसके बाद शरीर में केमिकल रिएक्शन देखने को मिलता हैं जिससे आपको गठिया और दिल की बीमारियाँ होने का ख़तरा काफी ज्यादा बढ़ जाता हैं।

पेट के लिए घटिया

पेट के लिए सबसे बुरी चीजों की बात करे तो मैदे से बनी चीज़े इसमें सबसे पहले आती हैं। मैदे में फाइबर बिलकुल न होने की वजह से यह पेट के लिए हानिकारक होता हैं। इससे आपको कब्ज़ की समस्या हो सकती हैं।

मधुमेह की बीमारी होना

मैदे के सेवन से ब्लड शुगर लेवल तुरंत ही बढ़ जाता हैं। इसमें ग्लाईसेमिक इंडेक्स काफी ज्यादा होता हैं, इससे आपको मधुमेह होने का ख़तरा काफी ज्यादा रहता हैं। अगर आप डायबिटीज की बीमारी से बचे रहना चाहते हैं तो मैदे से बनी चीजों को खाने से बचे।

मोटापा बढ़ाए

जो लोग मैदे की बनी चीजों को ज्यादा खाते हैं, उनका वजन तेज़ी के साथ बढ़ने लगता हैं। यही नही इसके ज्यादा सेवन से शरीर का कोलेस्ट्रॉल लेवल और ब्लड में triglyceride लेवल भी बढ़ जाता हैं। वजन कम करने वाले लोग कभी भी मैदे से बनी चीजों को नहीं खाते हैं। इसलिए मोटापे से परेशान हैं तो मैदे से बनी चीजों से दूर ही रहे।

हड्डियों के लिए नुकसानदायक

मैदे को बनाते समय इसमें से प्रोटीन ख़त्म हो जाता हैं और यह एसिडिक हो जाता हैं। जो हड्डियों से कैल्शियम को सोख लेता हैं। जिससे हड्डियाँ कमजोर होने लगती हैं। मैदे के नुकसान के बारे में बात करे तो यह हड्डियों को कमजोर बना देता हैं।

फूड एलर्जी होने का खतरा

मैदे में ग्लुटन पाया जाता हैं जो फूड एलर्जी पैदा करता हैं। मैदे में ज्यादा मात्रा में ग्लूटन पाया जाता हैं जो मैदे को मुलायम और लचीला बनाता हैं। जबकि गेंहू के आटे में फाइबर और प्रोटीन ज्यादा मात्रा में पाए जाते हैं।

मैदे से बनी चीज़े तेल को ज्यादा सोखती हैं। ज्यादा मात्रा में तेल के सेवन से पेट में भारीपन की समस्या हो सकती हैं। कब्ज़ भी ज्यादा होती हैं। इसलिए यही सलाह दी जाती हैं की मैदे की बनी चीजों को कम से कम खाना चाहिए।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *