प्रेगनेंसी के शुरुवाती 8 लक्षण के बारे में जानिए।

प्रेगनेंसी के शुरुवाती 8 लक्षण के बारे में जानिए।

आज कल मार्किट में कई सारे उपकरण और विधियाँ आ गयी हैं, जिससे प्रेगनेंसी टेस्ट किया जा सकता हैं। इनसे आप यह आसानी के साथ जान सकती हैं, की आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं। लेकिन क्या आपको पता हैं की प्रेगनेंसी के लक्षण क्या होते हैं? जी हाँ, गर्भ धारण करने के बाद महिला के शरीर में कुछ परिवर्तन आने लगते हैं।

अगर आपके शरीर में यह लक्षण दिखाई देने लगे तो यह गर्भावस्था के शुरुवाती लक्षण हो सकते हैं। इन symptoms के जरिये आप पता लगा सकती हैं, की आप गर्भवती हैं या नहीं। लेकिन इस बात का भी ध्यान रखे की निचे बताये गये लक्षण सिर्फ प्रेगनेंसी के लिए हो यह जरूरी नहीं हैं। लेकिन फिर भी यह सभी लक्षण प्रेगनेंसी के शुरुवाती लक्षण माने जाते हैं।

प्रेगनेंसी होने के शुरुवाती लक्षण :-

■ बॉडी का टेम्परेचर और मूड बदलना

प्रेग्नेंट होने पर बॉडी का टेम्परेचर नार्मल टेम्परेचर से ज्यादा होने लगता हैं। इसके अलावा गर्भवती होने पर मूड भी बार-बार चेंज होने लगता हैं। कभी कोई चीज़ आपको अच्छी लगने लगती हैं और कभी उसी चीज़ से आप घृणा करने लगती हैं।

■ स्तन भारी होने लगते हैं

गर्भावस्था के शुरुवाती लक्षणों में यह काफी कॉमन लक्षण होते हैं। क्योंकि ब्रेस्ट के टिश्यू हॉर्मोन्स के प्रति काफी ज्यादा सेंसटिव हो जाते हैं। गर्भ धारण होने पर हार्मोनल परिवर्तन होने लगते हैं। जिससे ब्रैस्ट में सूजन हो जाती हैं और स्तन भारी होने लगते हैं।

■ क्रेविंग

क्रेविंग भी प्रेग्नेंट होने का संकेत हो सकता हैं। गर्भवती स्त्री को किसी खास चीज़ को खाने की इच्छा बढ़ जाती हैं और हर समय उस चीज़ को खाने का मन करने लगता हैं। कई बार ऐसा भी होने लगता हैं की महिला की रोजाना की डाइट में अचानक से वृद्धि हो जाती हैं।

■ निप्पल का रंग बदलना

अगर आपके निप्पल का रंग कुछ अलग दिखाई दे रहा हैं तो यह भी प्रेगनेंसी के लक्षण हो सकते हैं। गर्भावस्था के दौरान होने वाले हॉमोर्नल चेंज की वजह से Melanocytes प्रभावित होता हैं। यानी की इसका असर उन सेल्स पर पड़ता हैं, जो निप्पल के रंग के लिए जिम्मेवार होते हैं। गर्भ धारण करने के बाद निपल कर रंग काफी डार्क हो जाता हैं।

■ सिरदर्द होना

ब्लड वॉल्यूम के बढ़ने के कारण सिरदर्द की समस्या होने लगती हैं। यह भी प्रेगनेंसी के शुरुवाती लक्षणों में से एक माना जाता हैं। जो की धीरे-धीरे करके खुद ही ठीक हो जाता हैं।

■ मतली आने की समस्या

प्रेगनेंसी के शुरुवाती दौर में दिन की शुरुवात काफी ज्यादा मुश्किल भरी होती हैं। सुबह के समय कमजोरी महसूस होती है, जिसके कारण गर्भवती महिला को मतली भी आने लगती हैं। कई बार कुछ खाने के बाद उल्टी आने जैसा महसूस होने लगता हैं। प्रेगनेंसी के शुरुवाती समय में गर्भवती महिलाओं को उल्टियाँ आना आम बात हैं। अगर आपके साथ भी ऐसा होने लगे तो यह गर्भावस्था के लक्षण हो सकते हैं।

■ कब्ज़ की समस्या होना

Hormonal changes के कारण पाचन क्रिया पर प्रभाव पड़ता हैं। जिससे डाइजेशन प्रोसेस स्लो हो जाता हैं। ऐसा होने पर गर्भवती महिला को कब्ज़ की समस्या होने लगती हैं।

■ बार-बार टॉयलेट जाना

अगर आप पहले के मुकाबले जल्दी-जल्दी और ज्यादा बार टॉयलेट जाने लग गयी हैं? तो यह भी प्रेगनेंसी के symptoms हो सकते हैं। क्योंकि इस समय किडनी ज्यादा एक्टिव हो जाती हैं, जिसके कारण जल्दी-जल्दी टॉयलेट जाना पड़ता हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...