बिमारियों को दूर भगाने और उनसे बचने में मदद करते हैं यह वास्तु उपाय और टिप्स।

वास्तु शास्त्र के अनुसार बीमारियों से बचनें के लिए अपनाएं ये उपाय

वास्तु शास्त्र एक ऐसा शास्त्र हैं, जिसमे कई चीजों को सही ढंग से करने का तरीका बताया गया होता हैं। वास्तु के अनुसार चीज़ों को सही जगह पर रखने से घर में सुख-समृद्धि और खुशहाली आती हैं। आज के लेख में हम आपको ऐसे वास्तु टिप्स और उपाय बताने जा रहे हैं, जिन्हें अपना कर घर से बिमारियों को दूर भगाने और बिमारियों से बचने में मदद मिलती हैं। अगर आपके घर के सदस्य हमेशा बीमार रहते हैं तो आपको निचे बताई गयी वास्तु टिप्स को जरूर अजमाना चाहिए।

क्योंकि जब स्वास्थ्य ही खराब रहेगा तो जीवन में मिलने वाली खुशियों का आनंद आप ले ही नहीं पाएंगे। ऐसे में बिमारियों से दूर रहना जरूरी हैं। माना की बिमारियों से दूर रहने के लिए अच्छी डाइट, नियमित एक्सरसाइज, अच्छी लाइफस्टाइल की जरूरत होती हैं। लेकिन कभी-कभी घर में नेगेटिव एनर्जी दाखिल हो जाती हैं, जिसके कारण आपके जीवन में परेशानियां आने लगती हैं। घर में नकारात्मक ऊर्जा रहने से बीमारियाँ होने का ख़तरा बढ़ जाता हैं और घर के परिवार के सदस्य हमेशा किसी न किसी बीमारी से पीड़ित ही रहते हैं। ऐसे में वास्तु शास्त्र के अनुसार बताये गये कामों को करने से घर में सुख-शान्ति का निवास होता हैं और रोग-शोक सभी दूर हो जाते हैं।

अगर सेहत को अच्छी रखना चाहते हैं और रोगों को घर से बाहर भगाना चाहते हैं तो निचे बताये गये वास्तु उपाय जरूर अपनाए। आइये जानते हैं बिमारियों से बचने और उन्हें दूर करने वाले वास्तु टिप्स और उपाय क्या हैं।

बिमारियों से बचाते हैं यह उपयोगी वास्तु टिप्स :-

1. वास्तु शास्त्र के मुताबिक़ रात को सोने वाले बिस्तर के पास स्टेवलाइजर, कंप्यूटर, टेलीविज़न और मोबाइल नहीं होना चाहिए। अगर आपके बेड के पास यह सभी चीज़े हैं तो इन्हें तुरंत अपने बिस्तर से हटा दे, क्योंकि इन उपकरणों से विद्युत-चुंबकीय तरंगे निकलती रहती हैं, जिससे खून, दिल और दिमाग की बीमारियाँ होने की सम्भावना बढ़ जाती हैं।

2. वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में गर्भवती स्त्री का कमरा दक्षिण-पक्षिम दिशा में ही होना चाहिए। प्रेग्नेंट महिलाओं को पूर्वोत्तर दिशा या ईशान कोण स्थित बेडरूम में सोने से बचना चाहिए। क्योंकि वास्तु के अनुसार ऐसा करने से उन्हें गर्भाशय से जुड़ी परेशानियाँ हो सकती हैं।

3. खाना खाने को लेकर वास्तु शास्त्र का यह मानना हैं की जब भी भोजन करने बैठे तो मूंह पूर्व या उत्तर दिशा में होना चाहिए। इससे सेहत अच्छी बनी रहती हैं। कभी भी दक्षिण दिशा की ओर मूंह करके खाना नहीं खाना चाहिए। जो व्यक्ति दक्षिण दिशा की ओर मुख करके भोजन करते हैं, उन्हें पाचन तंत्र से जुड़ी बीमारियाँ हो सकती हैं।

4. रात को सोते समय इस बात का ध्यान रखे की आपका सिर उत्तर दिशा और पैर दक्षिण दिशा में नहीं होना चाहिए। अगर आप ऐसे ही सोते हैं तो आपको सिरदर्द और अनिद्रा जैसी बीमारियाँ परेशान कर सकती हैं।

5. वास्तु शास्त्र के अनुसार बिमारियों से बचने का तरीका यह भी हैं की कभी भी बेडरूम में पुरानी, फ़ालतू और बेकार की चीजों को जमा नहीं करना चाहिए। क्योंकि जो लोग ऐसा करते हैं, उनके घर में नेगेटिव एनर्जी आ जाती हैं। जिससे एक तो वातावरण में नेगेटिव एनर्जी फैलती हैं, साथ ही इससे मलेरिया और टाइफाइड जैसी बिमारियों के लिए जिम्मेवार वायरस भी पैदा होने लगते है। जिसके कारण आप बीमार हो जाते हैं।

6. ब्लड प्रेशर के मरीजों को अपना बेडरूम दक्षिण-पूर्व दिशा की ओर बनाने से हानि होती हैं। क्योंकि यह दिशा अग्नि से प्रभावित हैं, इस दिशा में रहने से ब्लड प्रेशर और भी ज्यादा बढ़ने लगता हैं।

7. वास्तु शास्त्र के अनुसार घर बनवाते समय बेडरूम की खिड़की पूर्व दिशा में ही होनी चाहिए, क्योंकि सुबह उठकर पूर्व दिशा की सभी खिड़कियों को खोल देने से उगते सूर्य की किरणें कमरों के अंदर आने लगती है, जिससे सेहत को बहुत ज्यादा फायदा होता हैं। इससे घर में मौजूद वायरस और नेगेटिव एनर्जी ख़त्म हो जाती हैं।

8. वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर की दीवारों में सीलन नहीं होनी चाहिए, इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा का असर और भी ज्यादा तेज़ी के साथ होने लगता हैं। ऐसी सीलन वाली जगहों पर रहने से श्वसन तंत्र और स्किन से सम्बंधित बीमारियाँ होने लगती हैं।

9. घर के नवजात शिशु का कमरा वास्तु के अनुसार पूर्व और पूर्वोत्तर दिशा में होना लाभकारी रहता हैं। सोते समय नवजात बच्चे का सिर हमेशा पूर्व दिशा में होना चाहिए।






इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *