सरसों के तेल के फायदे जानिए।

सरसों के तेल के फायदे

भारत में सरसों का तेल खाना पकाने के लिए ज्यादा इस्तेमाल किया जाता हैं। सरसों का तेल न सिर्फ भोजन पकाने के लिए फायदेमंद हैं, बल्कि इसका इस्तेमाल औषिधि के रूप में भी किया जा सकता हैं। सरसों के तेल में भोजन पकाने या तड़का लगाने से खाने का स्वाद बढ़ जाता हैं। अगर सरसों का इस्तेमाल औषिधि के रूप में किया जाये तो भी इसके बहुत फायदे हैं। जैसे की कान के दर्द होने पर लहसुन की कलि को सरसों के तेल में डाल कर तेल को गर्म करके कान में डालने से कान के दर्द से आराम मिलता हैं।

कमर दर्द होने पर अजवाइन, हिंग और लहसुन को सरसों के तेल में मिला कर गर्म करके लगाने से फायदा होता हैं। तो वहीँ गठिया की बीमारी में सरसों के तेल में कपूर मिला कर तेल को गर्म करके मालिश करने से लाभ मिलता हैं। सरसों के तेल के बीजों का इस्तेमाल तड़का लगाने के लिए किया जाता हैं। सरसों के पाउडर को मसाले के रूप में इस्तेमाल किया जाता हैं। आइये जानते हैं सरसों के तेल के फायदे क्या हैं?

सरसों के तेल के फायदे :-

स्किन इन्फेक्शन से बचाता हैं

सरसों के तेल में सल्फर होता हैं जो एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल हैं। इससे स्किन इन्फेक्शन को कम करने में मदद मिलती हैं।

गठिया और मसल्स pain से आराम दिलाये

सरसों के तेल में मैग्नीशियम और सेलेनियम पाया जाता हैं। जो एंटी-इन्फ्लेमेंट्री होने के साथ ही गर्माहट पैदा करता हैं। सरसों के तेल को लगाने से शरीर की मांसपेशियों को गर्माहट मिलती हैं, जिससे मसल्स और गठिया में होने वाले दर्द को कम करने में मदद मिलती हैं।

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर से सुरक्षा देता हैं

सरसों के तेल में फाइटोन्यूट्रीएंट्स होते हैं जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर से सुरक्षा प्रदान करते हैं। रिसर्च के अनुसार सरसों में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो कैंसर विरोधी हैं और नए कैंसर सेल्स को पैदा होने से रोकते हैं।

बॉडी की इम्युनिटी बढ़ाता हैं

सरसों के तेल में कॉपर, मैंगनीज, आयरन जैसे तत्व पाए जाते हैं, जिससे बॉडी की इम्युनिटी बूस्ट होती हैं।

अस्थमा की रोकथाम करे

सरसों के बीजो में सेलेनियम और मैग्नीशियम होता हैं जो की एंटीइन्फ्लेमेंट्री गुणों से भरा हुआ हैं। सरसों का सेवन रोजाना करने से सर्दी-जुकाम, सीने में जमे हुए बलगम से छुटकारा पाने में मदद मिलती हैं। इसके सेवन से अस्थमा को रोकने में आसानी होती हैं।

बालों की देखभाल के लिए

सरसों के तेल से बालों की मालिश करने से बाल घने और मजबूत बनते हैं। इससे सिर की त्वचा का ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता हैं। बालों में सरसों का तेल लगाने के बाद बालों को प्लास्टिक बैग या तौलिया लपेट दे। इससे बाल तेल को अच्छी तरह से सोख लेते हैं। इसे आधे घंटे तक छोड़ दे और फिर शैम्पू से बालों को धो कर साफ़ करले।

बढ़ती उम्र के असर को रोके

सरसों में विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन K, कैरोटीन, ज़ीक्सानथिंस भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। यह सभी विटामिन्स, एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करते हैं। जिससे बढ़ती उम्र के असर को रोकने में मदद मिलती हैं। इससे उम्र के बढ़ने से चेहरे पर होने वाली झुर्रियां आदि दूर होती हैं।

बवासीर और कब्ज़ दूर करे

एक चम्मच सरसों के दाने दिन में 2 से 3 बार खाने से कब्ज़ दूर होती हैं।

कोलेस्ट्रॉल कम करे

इसमें नियासिन यानि विटामिन बी-3 होता हैं जो कोलेस्ट्रॉल को कम करता हैं। जिससे आर्टरी में अथेरोक्लेरोसिस होने की समस्या से बचा जा सकता हैं। यह हाई ब्लड प्रेशर को कण्ट्रोल करता हैं और ब्लड फ्लो को सही बनाये रखता हैं।

वजन कम करने में मददगार

सरसों के दानो में विटामिन बी काम्प्लेक्स जैसे की फोलेट, नियासिन, थायमिन और रिबोफ्लेविन होते हैं। सरसों का तेल मेटाबोलिज्म रेट को सही बनाये रखता हैं, जिससे वजन कम करने में आसानी होती हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *