सावधान! यह आदतें आपके दिमाग को बना रही हैं कमजोर।

सावधान यह आदतें आपके दिमाग को बना रही हैं कमजोर।

क्या आपको पता हैं की कौन सी ऐसी आदतें हैं जिनकी वजह से आपका दिमाग दिन प्रतिदिन कमजोर होता चला जाता हैं? अगर इसका जवाब नहीं हैं तो प्लीज यह लेख शुरू से लेकर अंत तक जरूर पढ़े, क्योंकि आज हम आपको दिमाग को कमजोर बनाने वाली आदतों के बारे में आपको बताएँगे और उम्मीद करेंगे की आप इन आदतों को बदलने की कोशिश करेंगे ताकि आपका दिमाग कमजोर न होकर बल्कि कंप्यूटर से भी फ़ास्ट बन जाये। Bad habits that makes your brain weak, Please avoid them. 

दिमाग ऐसा अंग हैं जो पुरे शरीर को सही तरह से चलाने का काम करता हैं। लेकिन आज की मॉडर्न लाइफ में लोगो की दिनचर्या और आदतें ऐसी हो गयी हैं जो दिमाग की सोचने समझने की शक्ति को कम कर रही हैं। खराब खान-पान और शारीरिक निष्क्रियता के चलते आपका दिमाग कमजोर बनता जा रहा हैं। आज के युग में लोग कम उम्र में ही याददाश्त कम होने की समस्या से परेशान हैं। ऐसा इसलिए हैं क्योंकि ज्यादातर युवा रात को देर से सोते हैं, स्मार्टफ़ोन आदि का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करते हैं और नींद भी पूरी नहीं लेते हैं, परिणामस्वरूप उनकी सोचने समझने की क्षमता पर बहुत ही ज्यादा बुरा प्रभाव पड़ रहा हैं। इसलिए अगर आप दिमाग को शार्प और तेज़ बनाना चाहते हैं आपको नीचे बतायी गयी आदतों को बदल लेना चाहिए।

इन आदतों की वजह से दिमाग बनता हैं कमजोर :-

• सुबह का नाश्ता न करने के कारण

कई लोग ऐसे भी जिन्हें सुबह के समय इतनी ज्यादा जल्दबाजी रहती हैं, की वे सुबह का नाश्ता ही नहीं करते हैं। ऐसे में जो लोग मोर्निंग ब्रेकफास्ट नहीं करते हैं, उनके शरीर में शुगर लेवल कम हो जाता हैं। जिससे दिमाग तक न्यूट्रीएंट्स की सप्लाई नहीं हो पाती हैं। जिससे ब्रेन डीजनरेशन की प्रोब्लम पैदा हो जाती हैं। इससे आपका दिमाग कमजोर बनने लगता हैं। इसलिए आपको हमेशा सुबह का नाश्ता जरूर करना चाहिए।

• दिमाग का इस्तेमाल बहुत कम करना

आज का समय इन्टरनेट का समय हैं, यानी की कोई भी प्रशन के जवाब के लिए हम गूगल बाबा की मदद लेते हैं। यहाँ तक की आज का समय ऐसा हो गया की आज हम अपने किसी परिचित का मोबाइल नंबर भी याद नहीं रख पा रहे हैं, जबकि पहले ऐसा नहीं था। इन सबकी वजह यह हैं की हम अपने दिमाग का इस्तेमाल बहुत कम करने लगे हैं। दिमाग पर ज्यादा जोर न डालने की वजह से हमारा दिमाग सिकुड़ रहा रहा हैं, जिससे यह कमजोर बन रहा हैं। अगर आप अपने दिमाग को तेज़ बनाना चाहते हैं तो इसका इस्तेमाल ज्यादा से ज्यादा करे।

• ज्यादा शराब पीना

शराब पीना सेहत के लिए हमेशा ही नुकसानदायक होता हैं। ज्यादा शराब पीने की वजह से भी दिमाग पर बुरा असर पड़ता हैं। ज्यादा शराब पीने के कारण व्यक्ति की तार्किक क्षमता कम होने लगती हैं। इसके अलावा शराब के सेवन से टेंशन और डिप्रेशन भी पैदा होती हैं, जो दिमाग पर गहरा असर डालते हैं।

यह भी पढ़े :- शराब पीने के नुकसान क्या हैं और शराब क्यों नहीं पीना चाहिए? 

• स्मोकिंग करना

स्मोकिंग करना सेहत के लिए हानिकारक हैं। एक तरह जहाँ धुम्रपान करने की वजह से फेफड़े ख़राब होते हैं, तो दूसरी ओर ज्यादा स्मोकिंग करने से ब्रेन सेल्स काम करना बंद कर देते हैं। स्मोकिंग करने से दिमाग की सोचने समझने की शक्ति पर बुरा असर पड़ता हैं।

• चीनी का ज्यादा सेवन करना

ज्यादा मात्रा में चीनी का सेवन करने से बॉडी में प्रोटीन और पोषण को सोखने की शक्ति कम हो जाती हैं। जिसकी वजह से आपको कुपोषण भी हो सकता हैं और इससे दिमाग भी कमजोर बन सकता हैं। इसलिए शुगर को सही मात्रा में ही लेना चाहिए। ऐसे पदार्थों को कम खाना चाहिए, जिसमे शुगर ज्यादा  हो।

• कसरत न करना

कसरत करने से न सिर्फ ब्रेन एक्टिव रहता हैं, बल्कि इससे आप शारीरिक रूप से फिट भी रहते हैं। यह बात कई सारे अध्यनों से साबित हो चुकी हैं की सुबह के समय कसरत करने से आपका मष्तिक सारा दिन सक्रिय बना रहता हैं। लेकिन आज कल के लोग बहुत कम व्यायाम करते हैं, जिसकी वजह से उनका दिमाग कमजोर होने लगा हैं। इसलिए अगर दिमाग को चुस्त-दुरुस्त बनाना चाहते हैं तो नियमित रूप से एक्सरसाइज करते रहे।

यह भी जरूर पढ़े :- सुबह कसरत करने के फायदे।

• जरूरत से ज्यादा भोजन करना

आज हम इतने ज्यादा बिजी हो गये हैं की एक तो कई घंटों तक भोजन नहीं करते हैं और जब भी खाना हमारे सामने आता हैं तो जरूरत से ज्यादा भोजन हम खा लेते हैं। इससे दिमाग की धमनियां कठोर हो जाती हैं और इससे दिमाग कमजोर होने लगता हैं। इसकी वजह से हमारे सोचने-समझने की क्षमता पर भी बुरा असर पड़ता हैं। इसलिए कभी भी भूख से ज्यादा नहीं खाना चाहिए और हमेशा एक नियमित अंतराल पर भोजन करते रहे।

• नींद कम लेना या फिर ज्यादा देर तक सोना

दिमाग को एक्टिव बनाये रखने के लिए नींद बहुत ही जरूरी हैं। लेकिन अगर आप कम नींद लेते हैं या फिर बहुत ज्यादा नींद लेते हैं तो दोनों ही तरह से आप अपने दिमाग को ख़राब कर रहे हैं। रिसर्च यह बताते हैं की ज्यादा देर तक सोने से टेंशन पैदा होती हैं। ज्यादा नींद लेने से न सिर्फ दिमाग कमजोर बनता हैं, बल्कि आपको डायबिटीज जैसी बीमारी होने का खतरा भी रहता हैं। तो दूसरी ओर कम नींद लेने से आपका दिमाग हमेशा थका-थका सा रहता हैं। इसलिए आपको 7 से 9 घंटे की नींद लेनी चाहिए, इससे कम या ज्यादा नहीं सोना चाहिए।

यह भी पढ़े :- अच्छी नींद लेने के लिए 10 जरूरी टिप्स।

• ज्यादा टेंशन लेने के कारण

टेंशन दिमाग का सबसे बड़ा शत्रु हैं। टेंशन न सिर्फ दिमाग को बीमार बनाता हैं, बल्कि इससे शरीर को कई सारी बीमारियाँ भी होने लगती हैं। आज के समय में किसी भी व्यक्ति को टेंशन होना आम बात हैं। टेंशन से बचने के लिए आपको अपना काम सही समय पर और सही तरीके से करने की जरूरत हैं। इस तरह से आप टेंशन से काफी हद तक दूर रह सकते हैं। अगर आप दिमाग को सही बनाये रखना चाहते हैं तो टेंशन से मुक्ति पाने की कोशिश जरूर करे।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *