स्विमिंग (तैराकी) करने के फायदे के बारे में जानिए।

स्विमिंग (तैराकी) करने के फायदे के बारे में जानिए।

स्वीमिंग यानि की तैराकी करने के फायदे बहुत होते हैं। स्विमिंग को एक बेहतरीन कसरत माना जाता हैं। इसे करने से आपके पूरे शरीर की कसरत हो जाती हैं। तैराकी करने से बॉडी एक्टिव और फ्लेक्सिबल बन जाती हैं। जिम के अपेक्षा तैराकी करने में 15 गुणा ज्यादा मेहनत करनी पड़ती हैं। स्विमिंग करने के जोड़ो और कंधो पर दबाव डाले बगैर सांस लेने छोड़ने और ब्लड सर्कुलेशन में सुधार किया जा सकता हैं। इससे सेल्स, ग्लैंड और स्किन की भी सफाई हो जाती हैं। स्विमिंग करने से बॉडी के कार्य करने की क्षमता में विकास होता हैं।

स्विमिंग को एक्सरसाइज के अलावा एक कला के रूप में भी जाना जाता हैं। आप मात्र आधे घंटे की तैराकी करके 440 कैलोरी को बर्न कर सकते हैं। कई बार स्विमिंग करने से आपको टैनिंग की समस्या हो सकती हैं, इससे बचने के लिए स्विमिंग पूल में जाने से पहले स्किन पर मॉइस्चराइजर लगा लेना चाहिए। आइये जानते हैं स्वीमिंग यानि की तैराकी करने के फायदे क्या हैं? Health Benefits of Swimming in Hindi.

स्वीमिंग (तैराकी) करने के फायदे ;-

ब्लड सर्कुलेशन सही बनाये

स्विमिंग को किसी भी उम्र में किया जा सकता हैं। यह ब्लड सर्कुलेशन को ठीक बनाये रखने में सहायता करती हैं। तैरने से शरीर के रक्त संचार में वृद्धि होती हैं और आपको दर्द एवं टेंशन से राहत मिलती हैं। ब्लड सर्कुलेशन के बढ़ने से आप चुस्त-दुरुस्त रह सकते हैं। इससे आपको कोई काम करने में ज्यादा मन लगता हैं।

अच्छा कोलेस्ट्रॉल बढ़ाये

स्वस्थ्य रहने के लिए शरीर में ख़राब कोलेस्ट्रॉल का कम होना जरूरी हैं। इसलिए शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा का ज्यादा होना जरूरी हैं। हफ्ते में 5 दिन तक तैरने से शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा में बढ़ोतरी होती हैं। बॉडी के कोलेस्ट्रॉल लेवल को ठीक रखने में तैराकी करना अच्छा उपाय हैं। जब कोलेस्ट्रॉल ठीक रहता हैं तो आपको दिल से सम्बंधित बीमारियाँ होने का खतरा कम हो जाता हैं।

दिमाग को एक्टिव बनाये रखे

स्विमिंग दिमाग को चुस्त दुरुस्त बनाती हैं। इससे शारीरिक और मानसिक क्षमता में भी वृद्धि होती हैं। क्योंकि तैरने के दौरान शरीर को ज्यादा मात्रा में ऑक्सीजन की सप्लाई होती हैं। जिस कारण दिमाग ज्यादा सक्रिय बनता हैं।

मोटापा कम करे

मोटापे से परेशान लोगो को तैराकी जरूर करनी चाहिए। कई लोग यह मानते हैं की पानी के तापमान के कारण वज़न कम होता हैं। जबकि सच्चाई यह हैं की स्विमिंग करने से ही वज़न कम होता हैं। यह कैलोरी बर्न करने वाली सबसे अच्छी एक्सरसाइज होती हैं। तैराकी करने से वजन नियंत्रण में रहता हैं। क्या आपको पता हैं की सिर्फ 30 मिनट तक तैराकी करके आप 440 कैलोरी तक बर्न कर सकते हैं।

बॉडी की इम्युनिटी बढ़ाये

तैरते समय सांस पर नियंत्रण रखना पड़ता हैं, जिससे फेफड़ो की भी अच्छी कसरत हो जाती हैं। इससे बॉडी की इम्युनिटी को बढ़ाने में मदद मिलती हैं।

दिल के लिए फायदेमंद

स्विमिंग करके आप ब्लड प्रेशर और हार्ट रेट की अनियमितता को दूर कर सकते हैं। जिससे ह्रदय से सम्बंधित बिमारियों का खतरा कम हो जाता हैं। स्विमिंग को एक प्रकार की एरोबिक एक्सरसाइज माना जाता हैं। जिससे आपकी मांसपेशियां मजबूत बनती हैं। इससे सारा दिन आपका ब्लड सर्कुलेशन सही बना रहता हैं। अध्यनों से यह पता चला हैं की सिर्फ आधा घंटा तैराकी करने से महिलाओं में दिल की बीमारियाँ होने का खतरा 30 से 40% तक कम हो जाता हैं।

शरीर को लचीला बनाये

शरीर को लचीला बनाने में तैराकी अन्य व्यायामों के मुकाबले ज्यादा बेहतर हैं। तैराकी करके आप अपने शरीर के हर हिस्से को लचीला बना सकते हैं।

गठिया की बीमारी से बचाए

तैराकी करने से जोड़ो पर सबसे कम प्रेशर पड़ता हैं। इसका कारण यह हैं की जमीन के मुकाबले पानी में शरीर हल्का महसूस होता हैं। रेग्युलर तैराकी करने से शरीर के जोड़ मजबूत बनते हैं। बॉडी के जॉइंट्स मजबूत होने के कारण फ्यूचर में आपको गठिया की बीमारी होने की आशंका काफी कम हो जाती हैं। गठिया से बचने के लिए दूसरी एरोबिक एक्सरसाइज करने की भी बात कही जाती हैं। गर्म पानी से सिंकाई करने पर भी गठिया के दर्द से आराम मिलता हैं।

टेंशन दूर भगाए

टेंशन होने के कारण आप किसी भी काम को अच्छे तरीके से नहीं कर सकते हैं। स्विमिंग करने से आपको टेंशन से आराम मिलता हैं और आपका दिमाग बेहतर ढंग से काम करता हैं। तैराकी करने से पूरे शरीर की कसरत हो जाती हैं। इसलिए स्विमिंग करना जिम जाने के मुकाबले ज्यादा अच्छा माना जाता हैं।

मांसपेशियां मजबूत बनाये

तैराकी करने से मांसपेशियां मजबूत बनती हैं। इससे कंधे और पसलियों की अच्छी कसरत हो जाती हैं। अगर आप रेग्युलर तौर पर स्विमिंग करते हैं तो आपको दूसरी और कोई कसरत करने की आवश्यकता नहीं हैं। तैरने के दौरान शरीर को पानी में ज़मीन के मुकाबले १२ गुणा ज्यादा परिश्रम करना पड़ता हैं। इससे आपके मांसपेशियां और जोड़ मजबूत बनते हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *