हिंग के फायदे

हिंग के फायदे

Hing ke fayde. Benefits of Asafoetida in Hindi. हिंग के फायदे.  

असाफोटीडा को जिसे हम हींग भी कहते हैं, भारतीय खाने में एक ख़ास जगह है। जब दूसरे मसालों के साथ पकाया जाता है तो हींग की तेज़ खुशबू व्यंजन में एक अलग ज़ायका लाती है। यह ज़्यादातर दाल, सांबर या कई अन्य मसालेदार शाकाहारी व्यंजन में इस्तमाल किया जाता है। यह तड़का लगाने या अचार में भी इस्तमाल किया जाता है। इस जड़ी बूटी की औषधीय विशेषता भी है। हींग पेट में गैस होने पर, सूजन पर, विरेचक औषधि के रूप में भी कारगर होता है। यह विचार शक्ति बढ़ाता है और उपशामक भी है।

हींग अपच, उदरशूल, अजीर्ण, दांत दर्द, जुकाम, खांसी, सर्दी के कारण सिरदर्द, बिच्छू, बर्र आदि के जहरीले प्रभाव और जलन को कम करने में काम आती है। यहाँ पर हींग के कुछ स्वस्थ्य लाभ दिए गए हैं:

हींग के स्वास्थ्य लाभ , Hing ke fayde. 

अपच :-   प्राचीन समय से हींग को अपच दूर करने के लिए इस्तमाल में लाया जाता रहा है और इसलिए आजकल यह ज़्यादातर भारतीय व्यंजन में डाला जाता है। पेट में गैस नहीं बनने देने के कारण यह पचने की दिक्कत जैसे पेट में गड़बड़, आंत की गैस, पेट में गैस और शौच सम्बन्धी परेशानियों से दूर रखता है। आधा कप पानी में हींग के कुछ दाने डाल कर पीने से बदहज़मी से छुटकारा मिल जाता है।

 

मासिक धर्म से सम्बंधित परेशानी :- मासिक धर्म के दौरान होने वाली परेशानियां जैसे पेट में दर्द और मरोड़ या अनियमित मासिक धर्म में हींग का सेवन करने से फायदे होते हैं। यह औषधि कैंडिडा संक्रमण और ल्यूकोरहोइया से भी छुटकारा दिलाने में मददगार साबित होता है।

 

शक्तिहीनता :-   यह औषधि पुरुषों में शक्तिहीनता को मिटाने में भी काफी कारगर साबित हुई है। इससे कामेक्छा में बढ़ोतरी होती है।

 

सांस लेने में आने वाली दिक्कत  :- सांस वाली नाली में हुए संक्रमण को हटाने के लिए हींग का इस्तमाल औषधि के रूप में काफी समय पहले से किया जाता रहा है। इससे छाती में फंसे बलगम और छाती दर्द से निजात पाया जा सकता है। सूखी खांसी, अस्थमा, काली खांसी के लिए हींग और अदरक में शहद मिलाकर लेने से काफी आराम मिलता है।

 

मधुमेह :- हींग की मदद से शरीर में ज्यादा इन्सुलिन बनता है और ब्लड शुगर का स्तर नीचे गिरता है। ब्लड शुगर के स्तर को घटाने के लिए हींग में पका कड़वा कद्दू खाना चाहिए।

 

उच्च रक्तचाप :- हींग में कोउमारिन होता है जो खून को पतला करने में मदद करता है और इसे जमने से रोकता है। हींग बढ़े हुए ट्राइग्लीसेराइड और कोलेस्ट्रोल को कम करता है और उच्च रक्तचाप को भी घटाता है।

 

विचार शक्ति में गड़बड़ी :-   यह औषधि विचार शक्ति को बढ़ाती है और इसलिए उन्माद, ऐंठन और दिमाग में खून की कमी से बेहोशी जैसे लक्षण से बचने के लिए भी हींग खाने की सलाह दी जाती है।

 

दर्द :- पानी में हींग मिलाकर पीने से माइग्रेन और सरदर्द से आराम मिलता है। नीम्बू के रस में हींग का एक टुकड़ा डाल कर रखने से दांत दर्द दूर हो जाता है।

 

अफीम के लिए विषहरण औषधि :-   अफीम के असर को कम करने में हींग मदद करता है। इसलिए इसे विषहरण औषधि भी कहा जाता है।

Cancer ke liye :-  शोध के अनुसार हींग में वह शक्ति होती है जो कर्क रोग को बढ़ावा देने वाले सेल को पनपने से रोकता है।

 

चमड़े की बीमारी :- कई चमड़े पर लगाए जाने वाले पदार्थों में हींग का इस्तमाल होता है क्योंकि यह चमड़े की बीमारी में औषधि की तरह काम करता है। चेहरे के दाग धब्बों से निजात पाने के लिए इसे सीधे चेहरे पर भी लगाया जा सकता है।


Loading...


Related posts:
वीट ग्रास (गेंहू के जवारे) के फायदे.
पपीता क्यों खाना चाहिए?
तुलसी क्यों हैं चमत्कारी पौधा?
हीमोग्लोबिन बढ़ाने के नेचुरल तरीके.
ज्यादा कॉफ़ी पीने के नुकसान.
राजमा खाने के फायदे.
सेंधा नमक खाने के फायदे और इसे कैसे इस्तेमाल करे?
डेंगू और चिकनगुनिया में क्या खाए जिससे ब्लड प्लेट्स की संख्या बढे.
इन चीजों को कभी भी कच्चा नहीं खाना चाहिए।
भुट्टा (मक्की/मकई) खाने के फायदे।
पनीर खाने के फायदे, नुकसान और सावधानी जरूर पढ़े।
अगर पाद में से आती हैं ज्यादा बदबू, तो इसकी वजह यह होती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *