हिचकी दूर करने के घरेलु नुस्खे.

हिचकी दूर करने के घरेलु नुस्खे

हिचकी की समस्या बेहद आम है। यह समस्या किसी को भी हो सकती है। यदि थोड़े समय में हिचकी बंद हो जाए तो यह एक गंभीर समस्या नहीं है, लेकिन लगातार हिचकी आने पर परेशानी होने लगती है। ऐसे में हिचकी को बंद करना जरूरी होता है, क्योंकि लगातार हिचकी आने पर दिमाग काम करना बंद कर देता है। यदि आपके साथ भी कभी-कभी लगातार हिचकी आने की समस्या हो जाती है तो कुछ घरेलू नुस्खे अपनाकर अाप ये समस्या दूर कर सकते हैं।

हिचकी दूर करने के लिए क्या करना चाहिए ? हिचकी दूर करने वाले घरेलु नुस्खे क्या हैं? Home remedies of Hiccups in Hindi.

हिचकी आने के कारण

हमारी छाती व पेट के मध्य डायफ्राम होता है। जब हम सांस लेते या छोड़ते हैं, तो यह ऊपर नीचे होता है। इसी कारण हम बिना कोई विशेष आवाज किए सांस लेने की क्रिया करते रहते हैं, लेकिन कभी-कभी यह डायफ्राम सिकुड़ जाता है। इसके सिकुड़ने के दो मुख्य कारण हैं। पहला जल्दबाजी में भोजन करना। दूसरा पेट में गैस या अम्लता बढ़ना। हिचकी आने के अन्य कई कारण भी हो सकते हैं जैसे अधिक देर तक हंसना, जल्दी में कोई ज्यादा गर्म पेय पी लेना, अधिक शराब पीना, चिंताग्रस्त व दुखी रहना आदि।

घरेलू उपचार

1.पुदीने के पत्ते में हिचकी रोकने के गुण हैं। यदि स्वाद अच्छा न लगता हो तो थोड़ी सी चीनी मिलाकर भी उपयोग कर सकते हैं।

2.प्याज भी हिचकी बंद करता है। इसके रस में थोड़ा सा शहद मिलाकर चाटें, निश्चित ही लाभ होगा।

3. हिचकी आने पर थोड़ी सी काली मिर्च तवे पर गर्म करके जला लें और उसका धुआं लें, हिचकी रूक जाएगी।

4. हींग में हिचकी रोकने का अद्भुत गुण है। हींग खाना अच्छा नहीं लगता हो तो हींग की धूनी लें।

5.सौंफ खाने या सूखा धनिया मुंह में रखकर चूसने से भी हिचकी बंद हो जाती है। छोटी हरड़ को शहद के साथ चाटना भी लाभकारी है।

6.पुराना गुड़ हिचकी रोकने की अचूक दवा है। इसमें थोड़ी सी पिसी हुई साैंठ मिलाकर सूंघने से लाभ होता हैै। चीनी खाने से भी हिचकी बंद हो जाती है।

7.यदि हिचकी बंद नहीं हो रही हो तो एक कप गर्म दूुध पीने से भी लाभ होता है। बकरी का दूध भी हिचकी रोकने के लिए उपयोग किया जा सकता है। इसके लिए उसमें थोड़ी सी सौंठ मिलाकर पीने से लाभ होता है।

8.शुद्ध घी से भी हिचकी बंद हो जाती है। घी को गर्म कर लें। जब वह गुनगुना हो तो तीन चम्मच पी जाएं। हिचकी बंद हो जाएगी।

9. तुलसी और शहद भी हिचकी में गुणकारी है। तुलसी का रस और शहद मिलाकर चाटने से भी हिचकी रुक जाती है।








इन्हें भी जरूर पढ़े...