होली को सुरक्षित ढंग से मनाने की टिप्स जानिए।

होली को सुरक्षित ढंग से मनाने की टिप्स जानिए।

होली रंगों का त्यौहार हैं, जो की भारतीय लोगो का खास पर्व हैं। इस दिन लोग एक दुसरे को रंग एवं गुलाल लगाते हैं। एक दुसरे के उपर पानी वाले रंग, पानी वाले गुब्बारे फेंकते हैं, पानी वाली पिचकारी भर कर एक दुसरे पर छोड़ते हैं। यह दिन काफी खुशियों भरा दिन होता हैं। होली को विशेष कर युवा वर्ग और बच्चे बहुत ज्यादा पसंद करते हैं।

लेकिन जैसा जैसे युग बीतता चला गया, होली को खेलने के लिए जो रंग, गुलाल और अबीर का इस्तेमाल हम सभी लोग करने लगे हैं। उन सभी रंगों में केमिकल का इस्तेमाल ज्यादा होने लगा हैं। यानी की होली खेलना अब स्किन, बालों और आँखों के लिए काफी ज्यादा नुकसानदायक  बन गया हैं। आज के लेख में होली को सुरक्षित ढंग से मनाने के टिप्स के बारे में आपको बताएँगे। Best safety tips for Safe Holi Festival.

होली खेलने के लिए जिन रंगों और गुलाल का इस्तेमाल आप करते हैं, उससे न सिर्फ आपकी आँखों को नुकसान होता हैं, बल्कि इससे आपकी त्वचा और बाल  भी बुरी तरह से प्रभावित होते हैं। अगर होली के दिन थोड़ी सी सावधानी रखी जाये तो होली बेहतर और सुरक्षित ढंग से मनाई और खेली जा सकती हैं। होली के दिन  स्किन, आँखों और बालों की समस्याओं से बचने के लिए कुछ उपयोगी टिप्स और उपाय के बारे में जानिए।

होली के त्यौहार में बालों की देखभाल करने के टिप्स

होली खेलने जाने से पहले बालों में तेल मालिश करले। और हो सके तो बालों को ढक कर रखे।बालों से रंग निकालने के लिए बालों में शैम्पू करना ही काफी नहीं हैं। बालों में शैम्पू करने से पहले बालों को गुनगुने पानी से धो ले। इससे बालों को कम नुकसान होता हैं। इसके अलावा होली वाले दिन को सुबह उठते ही 4 चम्मच मेथी के बीजों को पानी में भिगोने के बाद दही और अंडे की जर्दी मिलाकर बालों के लिए हेयर पैक बना ले। होली के दिन जब आप होली खेलकर नहायेंगे तो नहाने से पहले इस पैक को बालों में 30 मिनट तक लगा कर रखे और उसके बाद बालों को शैम्पू से धो कर साफ़ करले। इस पैक के इस्तेमाल से होली के दिन बालों में होने वाले डैमेज से काफी हद तक बचने में मदद मिलती हैं। बालों को अच्छा बनाने के लिए आप शहद और जैतून के तेल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

आँखों की सुरक्षा के लिए उपाय

होली के त्यौहार में आँखों का विशेष ध्यान रखे। अगर आँखों में अबीर, गुलाल आदि चले गये हो तो उसे तुरंत साफ़ पानी से धोये। क्योंकि इनमे पोटैशियम डीक्लोरामेट नाम का खतरनाक केमिकल होता हैं जो आँखों को हानि पंहुचा सकता हैं। आँखों में रंग पड़ने पर इन्हें रगड़ने से बचे। आँखों में ज्यादा जलन और चुभन हो रही हो तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करे।

कपड़े पहनने के टिप्स

होली के दिन लोग एक दुसरे पर पानी डालते ही हैं। ऐसे में अगर आप हल्के, सफ़ेद और ट्रांसपेरेंट कपड़े पहनते हैं तो पानी पड़ने के कारण आपके शरीर के कई ऐसे अंग दिखाई दे सकते हैं, जिसके कारण आपको शर्मिंदगी उठानी पड़ जाये। इसलिए होली वाले दिन थोड़े से मोटे और गहरे रंग वाले कपड़े ही पहने।

स्किन को होली के दिन सुरक्षित रखने के टिप्स :-

1. होली खेलने से एक दिन पहले रात को त्वचा की मालिश करे। इसके लिए आप किसी भी तेल जैसे की बादाम का तेल, ओलिव ऑयल या नारियल के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा जब भी होली खेलने के लिए जाये तो स्किन पर ऑयल लगा कर ही जाये। इससे होली के केमिकल वाले रंग आपकी त्वचा पर नहीं लग पायेंगे।

2. होली खेलने के पश्चात अगर स्किन रूखी और बेजान हो जाये तो स्किन को सही बनाने के लिए मलाई में हल्दी मिला कर स्किन की मसाज करे। इसके अलावा दही में शहद और हल्दी मिला कर भी स्किन मसाज की जा सकती हैं। स्किन को मसाज करने के बाद पानी से धो कर साफ़ करले।

3. कुछ लोग ऐसे भी जिन्हें स्किन पर तेल लगाना अच्छा नहीं लगता हैं। और वह होली के दिन स्किन पर तेल नहीं लगाते हैं, जिससे उनकी स्किन खराब हो जाती हैं। अगर आप भी उन लोगो में से हैं तो इस समय आप सनस्क्रीन का इस्तेमाल कर सकते हैं। होली खेलने जाने से 20 मिनट पहले त्वचा पर सनस्क्रीन लगा ले। इससे त्वचा पर रंगों का बुरा असर नहीं पड़ता हैं और नहाते समय रंग आसानी से उतर जाते हैं।

4. स्किन अगर काली दिखाई देने लगे :- कई बार होली खेलने के बाद त्वचा से होली के रंग निकल जाते हैं, लेकिन स्किन काली दिखाई देने लगती हैं। ऐसे में अपनी स्किन का रंग पहले जैसा करने के लिए आप कच्चे दूध में हल्दी और बेसन मिला कर पेस्ट बनाये। इस पेस्ट को चेहरे पर लगाए। इस फेस पैक के इस्तेमाल से एक हफ्ते के अंदर आपका रंग पहले जैसा हो जायेगा। जिन लोगो की स्किन ऑयली हैं, वे लोग दही में निम्बू का रस और बेसन मिलाकर फेसपैक बनाकर लगाये।

5. खुजली की समस्या होने पर :- होली के दिन रंगों के इस्तेमाल से स्किन में खुजली की समस्या भी हो सकती हैं। इसे दूर करने के एक मग पानी में 2 चम्मच सिरका मिलाये। फिर इस पानी को स्किन पर लगाये। इससे खुजली की समस्या से काफी ज्यादा आराम मिलता हैं। अगर इस उपाय को अजमाने से आपको कोई फायदा नहीं हो रहा हैं तो इसका मतलब हैं की आपको स्किन एलर्जी हो गयी हैं और बिना देर किये डॉक्टर से सम्पर्क करे।

छोटे बच्चों का विशेष ध्यान रखे

होली वाले दिन होली को मनाते समय छोटे बच्चों का विशेष रूप से ध्यान रखे। इस दिन कुछ ऐसे गंदे लोग होते हैं जो आपके बच्चे पर बुरी नज़र रखते हैं। कई लोग ऐसे गंदे होते हैं जो रंग लगाने के बहाने आपके बच्चे को गलत तरीके से छूते हैं। इसलिए इस दिन अपने बच्चे का खासतौर पर ध्यान रखे, अगर वह लड़की हैं तो इस दिन उसका पूरा ख्याल रखे। अपने बच्चों को पहले से समझा दे की वह होली वाले दिन घर से कंही बाहर न जाये और आपके आसपास ही ज्यादा रहे। इसके अलावा अपने बच्चे को गलत टच के बारे में भी बताये, ताकि अगर कोई दुष्ट व्यक्ति आपके बच्चे को गलत जगहों पर छूए तो बच्चा आपको खुद इसके बारे में तुरंत बता सके।

नेचुरल हर्बल कलर (प्राकृतिक रंगों) से होली खेलने के फायदे :-

नेचुरल हर्बल कलर के इस्तेमाल से न सिर्फ होली मज़े के साथ खेली जा सकती हैं, बल्कि इससे आपको कोई नुकसान भी नही होता हैं। केमिकल वाले रंगों से बालों के गिरने और डैंड्रफ आदि की प्रॉब्लम हो सकती हैं। जबकि हर्बल रंगों के इस्तेमाल से इन सभी समस्याओं का होना लगभग नामुमकिन ही हैं। बाज़ार में मिलने वाले सिंथेटिक रंगों से होली खेलने पर आपको स्किन एलर्जी भी हो सकती हैं। जिससे स्किन में जलन, खुजली आदि हो सकती हैं। परन्तु नेचुरल कलर से होली खेलना एकदम सुरक्षित हैं और आपको किसी भी प्रकार की स्किन प्रॉब्लम्स नहीं होती हैं।

नेचुरल हर्बल होली के कलर (रंग) बनाने के तरीके :-

बाज़ार में मिलने वाले रंग केमिकल से बने हुए होते हैं। ऐसे में आप घर पर ही होली खेलने के लिए प्राकृतिक रंग तैयार कर सकते हैं। आइये जानते हैं घर में ही नेचुरल हर्बल कलर कैसे बनाया जाता हैं।

लाल रंग बनाने का तरीका :-

लाल रंग को बनाना बहुत ही ज्यादा आसान हैं। इसके लिए चुकंदर को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट ले। फिर रात भर के लिए इन टुकड़ों को पानी में भिगो दे। फिर सुबह पानी को छान ले। एक चुकंदर से आप ढेर सारा लाल रंग बना सकते हैं। लाल रंग बनाने के लिए आप लाल चन्दन पाउडर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

पीला रंग बनाने का तरीका :-

हल्दी में बेसन मिला दे। फिर इस मिश्रण को गेंदे के फूलों से बने पानी में मिला दे और इस मिश्रण को उबाल कर छान ले। लीजिये आपके सामने गीला पीला रंग तैयार हैं।

हरा रंग बनाने का तरीका :-

हरा रंग बनाने के लिए मेहंदी के पत्तियों को सूखा ले। इन पत्तों को पीस कर गिला करले। लीजिये आपके सामने प्रस्तुत हैं हरा रंग।

नोट :- होली खेलते समय गहने आदि भी न पहने, इससे गहने गूम भी हो सकते हैं और आपको चोट लगने का भी ख़तरा रहता हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *