अच्छी सेहत के लिए यह हैं 10 तरह के जूस जरूर पिए.

अच्छी सेहत के लिए यह जूस जरूर पिए

अगर आप हेल्दी रहना चाहते हैं तो हम आपको 10 ऐसे जूस के बारे में बताने जा रहे जिन्हें पी कर आप स्वस्थ्य रह सकते हैं. अच्छी सेहत के लिए जरूर पिए यह जूस.

○ सेब को छीलकर जूस निकालें और उसमें एक चम्मच शहद और चुटकी भर दालचीनी डालकर ब्रेकफास्ट में लें। एक एक नेचुरल एंटीऑक्सिडेंट है जो कि लीवर और किडनी के हानिकारक तत्वों को शरीर से बाहर निकालता है। विटामिन C और एसकॉर्बिक एसिड से भरपूर जूस बूढ़े होने की रफ्तार को भी कम करता है। यह कार और सिगरेट के धुएं से मिलने वाले टॉक्सिन्स के निगेटिव इफेक्ट से भी बचाता है।

○ अनानास में ढेरों प्राकृतिक एंजाइम्स होते हैं जो कि हमारे शरीर को कई बीमारियों से बचाते हैं। इनमें पाए जाने वाले एंटी-इंफ्लेमेटरी एंजाइम शरीर से जहरीले तत्वों को निकाल देते हैं। पाइनेप्पल में विटामिन C और एंटीऑक्सिडेंट्स होते हैं जिससे होंठ पीले और चमकदार रहते हैं। साथ ही विटामिन सी से चोट के घाव को जल्दी भर जाते हैं।

○ पपीते का जूस आपके पाचन तंत्र को स्वस्थ और मजबूत रखने में मदद करता है। पपीते में कैरोटेनॉइड और लाइकोपीन भरपूर होते हैं जो कि आंख, किडनी और शरीर के ऊतकों को प्रोटेक्ट करने में मददगार हैं। सप्ताह में 2-3 दिन पपीते का जूस जरूर लें। पपीते का जूस बनाने के लिए आधे पपीते को टुकड़ों में काट लें तथा ब्लेंडर में डालकर, साथ में 2 चम्मच फ्रेश नींबू का रस, 2 चम्मच शक्कर या शहद और एक चुटकी काली मिर्च और ½ कप पानी में ब्लेंड कर लें।

○ एलोवेरा यानि घृतकुमारी बहुत ही गुणकारी औषधि है। इसके कुछ पत्ते धोकर चाकू से उसके किनारे के कांटे वाले भाग को काटकर निकाल दें। इसके बाद बचे मांसल मुलायम पत्तों के छोटे टुकड़े कर लें। पत्तियों के ऊपर का हरा वाला छिलका निकालकर अलग कर दें। अब इसे मिक्सी में 2 मिनट चला दें। आप चाहें तो इसमें फलों का जूस भी मिला सकते हैं।

एलोवेरा में कार्बोहाइड्रेट्स, एंटीऑक्सिडेंट्स और डाइजेस्टिव एन्जाइम होते हैं जो इन्फेक्शन के खतरे को काफी हद तक कम करते हैं। इसका रस शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है, तथा कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। कम करता है तथा ब्लड में शुगर की मात्रा को कंट्रोल करता है।

○ गाजर का जूस विटामिन C, एंटीऑक्सिडेंट्स और मिनरल्स का एक बहुत अच्छा सोर्स है। इसमें आयरन भी काफी मात्रा में होता है जो ब्लड में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ाता है। इससे आप सारा दिन एनर्जेटिक रहते हैं। लेकिन यदि गाजर के साथ नींबू का रस मिला लिया जाए तो इसके फायदों की संख्या और बढ़ जाती है। इसे बनाने के लिए 4 गाजर लें और इसे अच्छे से साफ करके छोटे टुकड़ों में काट लें। इसमें 1 चम्मच शक्कर, 3-4 चम्मच ठंडा पानी और पिसा हुआ थोड़ा सा अदरक मिलाकर ब्लेंड कर लें। अब एक गिलास में छानकर इसमें1 चम्मच नींबू का रस मिलाकर लें।

○ चुकंदर का जूस न सिर्फ डिटॉक्सिफाइंग होता है बल्कि यह ब्लड प्रेशर को भी कंट्रोल में रहता है। यह लीवर को भी हेल्दी रखता है। साथ ही कोलेस्ट्रॉल बैलेंस रखता है। सप्ताह में 2-3 बार यह जूस पीने से स्वास्थ्य ठीक रहता है। इसे बनाने के लिए एक छोटा चुकंदर लें, धोकर काट लें। दो गाजर भी धोकर काट लें। ब्लेंडर में साथ में ब्लेंड कर लें। छानकर पिएं। अगर चाहें तो नींबू का रस भी मिला सकते हैं।

○ रोज एक गिलास पत्तागोभी का जूस कैंसर, अल्सर और कोलोन की प्रॉब्लम्स से आपको दूर रखने में कारगर है। पत्तागोभी का जूस विटामिन C और  अमीनो एसिड का अच्छा स्त्रोत है। साथ ही यह कोलेस्ट्रॉल को भी कम करता है। इसे बनाने के लिए 3 कप बारीक कटी हुई पत्तागोभी लें और इसे आधा कप पानी के साथ ब्लेंड कर लें। इसे एक जार में प्लास्टिक रैप से ढंककर 3 दिन रूम टेम्परेचर पर रखें। तैयार जूस को छानकर ब्रेकफास्ट में लें।

○ यूं तो नींबू पानी पीना बॉडी को डिटॉक्सिनेट करने का सबसे आसान और अच्छा तरीका है। कई लोग सुबह-सुबह उठकर और सोने से पहले एक गिलास नींबू पानी पीते भी हैं। इसके ढेरों फायदे हैं। यह प्रतिरक्षा तंत्र को दुरुस्त रखने से लेकर पिंपल्स दूर करने तक सब में फायदेमंद है। यह झुर्रियों को भी कम करता है। नींबू के रस को बनाने के लिए एक गिलास पानी में एक नींबू का रस निकालकर चुटकी भर नमक या एक चम्मच शहद के साथ स्वादानुसार सुबह लें। इसे हल्के गरम पानी में भी ले सकते हैं।

○ जूसों की बात करें तो अदरक के रस का चाय में क्या महत्व है यह सभी जानते हैं। अदरक की चाय शरीर और दिमाग को शांत करती है। रात को एक कप अदरक की चाय लेने से दिन भर का तनाव दूर होगा और आपका शरीर हेल्दी और क्लीन रहेगा। यह एक नेचुरल दर्द निवारक भी है जो पेट, चेस्ट और आर्थराइटिस के दर्द को कम करने में मदद करता है।

○ गर्मियों में टेस्ट और ठंडक देने के साथ पिपरमिंट की चाय पाचन ठीक रखने में भी मदद करती है। यह अच्छी नींद लाने में भी मदद करती है। साथ ही साइनस और थ्रोट इन्फेक्शन से बचाती है। इसे लेने के लिए मुट्‌ठी भर पुदीने की पत्तियां धोकर एक पॉट में रखें और ऊपर से उबलता हुआ पानी डालें। इसे 3-7 मिनट ढंककर रख दें। अब कप में छान लें। अगर चाहें तो एक चम्मच शहद डालकर लें।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...