अजवाइन के 23 फायदे, घरेलु नुस्खे और उपाय जानिए।

Ajwain ke fayde aur gharelu nuskhe. Benefits of Ajwain in Hindi. अजवाइन के कुछ उपयोगी घरेलु नुस्खे और उससे होने वाले फायदे.

अजवाइन एक महा औषिधि हैं जो न सिर्फ भोजन पकाने के लिए इस्तेमाल की जाती हैं। बल्कि अजवाइन खाने के फायदे बहुत सारे हैं। साथ ही अजवाइन का इस्तेमाल खास करके पेट से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता हैं। अजवाइन के घरेलु नुस्खे और उपाय भी काफी ज्यादा हैं। अजवाइन सिर्फ मसाले के रूप में ही नहीं उपयोगी हैं, बल्कि प्राचीन काल से अजवायन का इस्तेमाल घरेलु नुस्खे, इलाज आदि में किया जाता रहा हैं। अजवाइन के घरेलु उपायों के द्वारा छोटी-मोटी बीमारियाँ का उपचार झट से हो जाता हैं। ग्रामीण इलाकों में अजवाइन का प्रयोग देसी नुस्खों में किया जाता है, चलिए अजवाइन के घरेलु नुस्खे, उपाय और फायदे आदि के बारे में जानते हैं।

अजवाइन का वैज्ञानिक नाम Trachyspermum ammi हैं। यह सेहत के लिए बहुत ही ज्यादा गुणकारी हर्ब हैं। ज्यादातर घरों में अजवाइन का खट्टा-मीठा चूर्ण बना कर रखा जाता हैं, जिसे हमेशा खाना खाने के बाद खाया जाता हैं। ऐसा लोगो में विश्वास हैं की इससे भोजन आसानी से हजम हो जाता हैं। अजवाइन को खाने से पाचन क्रिया बेहतर बनती हैं और दादी-नानी के नुस्खे में अजवाइन अपना विशेष महत्व रखती हैं।

अजवाइन डायबिटीज के मरीजों के लिए लाभकारी होती हैं, यह उन्हें इन्फेक्शन आदि से बचाने में मदद करती हैं। अजवाइन को हमेशा ताज़ा ही लेना चाहिए, क्योंकि जब यह पुरानी हो जाती हैं, तो इसमें मौजूद ऑयल समाप्त हो जाते हैं, जिसके कारण यह सेहत को उतना लाभ नहीं पहुचा पाती हैं, जितना की इससे उम्मीद की जाती हैं।

अजवाइन खाने के फायदे, इसके घरेलु नुस्खे और उपाय :-

1. खांसी का उपचार

अजवाइन के रस में एक चुटकी काला नमक मिला कर लेने के बाद ऊपर से गर्म दूध पीने से खांसी आना बंद हो जाता हैं। इसके अलावा जिन्हें रात में खांसी ज्यादा होती है, उन लोगो को पान में अजवाइन डाल कर चबाना चाहिए। खांसी के इलाज के लिए आप अदरक के रस में थोड़ा अजवाइन का चूर्ण मिला कर भी ले सकते हैं, इससे भी खांसी से तुरंत आराम मिलने लगता हैं।

2. दमा की बीमारी में फायदेमंद

अजवाइन के रस की आधे कप की मात्रा में इतना ही पानी मिला कर भोजन करने के बाद सुबह-शाम लेने से दमा की बीमारी दूर हो जाती हैं। अगर अजवायन के बीजों को भून कर सूती कपड़े में लपेट कर रात को तकिये के पास रख दिया जाये, तो दमा, सर्दी और खांसी के मरीजों को रात के समय सांस लेने में दिक्कत नहीं होती हैं।

अस्थमा के उपचार के लिए अजवाइन के बीज और लौंग को बराबर मात्रा में मिला कर चूर्ण बना ले। इस चूर्ण की 5 ग्राम मात्रा रोजाना सेवन करने से अस्थमा के रोगी को काफी ज्यादा लाभ मिलता हैं। इसके अलावा अजवाइन को मिट्टी के बर्तन में जला कर उसका धुंआ सूंघने से भी अस्थमा के रोगी को साँस लेने में आसानी होने लगती हैं।

3. पीरियड्स में होने वाले दर्द के लिए

पीरियड्स के समय अगर ज्यादा दर्द होता हैं तो 15 से 30 दिनों तक खाना खाने के बाद या बीच में गुनगुने पानी के साथ अजवाइन लेना चाहिए। इससे पीरियड्स में होने वाले तेज़ दर्द से छुटकारा मिलता हैं। अगर पीरियड्स ज्यादा आते हो और गर्मी ज्यादा हो तो इस नुस्खे का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। सुबह खाली पेट 2 से 4 गिलास पानी पीने से अनियमित मासिक स्राव से निजात मिलती हैं।

4. पेट दर्द दूर करे

पेट में दर्द होने पर अजवाइन के दाने लगभग 10 ग्राम, काला नमक 2 ग्राम और सौंठ 5 ग्राम लेकर अच्छी तरह से मिला ले और इनका चूर्ण बना ले। पेट दर्द की समस्या होने पर मरीज़ को दिन भर में 4 से 5 बार इस चूर्ण की 3 ग्राम मात्रा गुनगुने पानी के साथ लेने की सलाह दी जाती हैं। इससे पेट दर्द गायब होने लगता हैं।

5. एसिडिटी दूर करे

एसिडिटी को दूर करने के लिए थोड़ी अजवाइन और थोड़े से जीरे को एक साथ मिला कर भून ले। फिर इन्हें पानी में डाल कर उबाल ले। फिर इस अजवाइन जीरे वाले पानी को छान कर इसमें चीनी मिलाये। इस अजवाइन-जीरे वाले पानी को पीने से एसिडिटी से तुरंत राहत मिलने लगती हैं।

हाइपर एसिडिटी होने पर आधा चम्मच कच्चा जीरा और आधा चम्मच कच्चे अजवाइन को एक साथ मिला कर लेने से बहुत ही जल्दी आराम मिलता हैं। इस उपाय को प्रत्येक 4 घंटे के अंतराल पर करते रहना चाहिए। यह एसिडिटी को दूर भगाने का रामबाण नुस्खा हैं।

6. बेड पर पेशाब करने की समस्या में

अगर आपका बच्चा भी रात को सोते समय बिस्तर पर पेशाब कर देता हैं तो उन्हें रात में लगभग आधा ग्राम अजवाइन खिलाना चाहिए। इससे बच्चे रात में बिस्तर पर पेशाब नहीं करते हैं।

7. बदहजमी दूर करे

पान के पत्तों के साथ अजवाइन के बीज मिला कर चबाने से गैस, पेट मरोड़ और एसिडिटी से छुटकारा मिलता हैं। बदहजमी की शिकायत होने पर भूनी हुई अजवाइन की लगभग एक ग्राम मात्रा को पानी में डाल कर चबाने से बदहजमी से तुरंत आराम मिलता हैं।

जरूर पढ़े :- बदहजमी दूर करने के घरेलु नुस्खे और उपाय।

8. जुकाम के साथ हल्का बुखार होने पर

देसी अजवाइन की 5 ग्राम मात्रा को 1 ग्राम सतगिलोय के साथ मिला कर 150 ml पानी में रात भर के लिए भिगो कर रख देना चाहिए। सुबह उठकर इसे मसल कर छान ले। फिर इसमें नमक मिला कर दिन में 3 बार पीने से जुकाम के कारण होने वाले बुखार को कम करने में मदद मिलती हैं।

9. पेट की गैस दूर करे

काला नमक, सौंठ और अजवाइन को पीस कर चूर्ण बना ले। भोजन करने के बाद इस चूर्ण को फांकने से पेट में गैस बनना यानि अजीर्ण, अशुद्ध वायु का बनना व ऊपर चढ़ना समाप्त हो जाता हैं।

10. नपुसंकता का इलाज

अजवाइन, इमली के बीज और गुड़ को बराबर मात्रा में लेकर इन्हें घी में अच्छी तरह से भून ले। फिर इसे रोजाना कुछ मात्रा में लेते रहने से नपुंसकता की बीमारी समाप्त होने लगती हैं। हर्बल जानकारों की माने तो यह मिश्रण मर्दाना ताकत बढ़ाने वाला हैं, साथ ही इससे वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या भी बढ़ने लगती हैं। साथ ही इसे नुस्खे के प्रयोग से शीघ्रपतन से भी निजात मिल जाता हैं।

11. मसूड़ो की बीमारियाँ दूर करे

अजवाइन को भून कर पीस ले और इसका मंजन बना ले। इसके मंजन का इस्तेमाल नियमित रूप से करने से मसूड़ो में होने वाली बीमारियाँ ख़त्म हो जाती हैं।

12. पाचन क्रिया बेहतर बनाये

बरसात के दिनों में पाचन क्रिया शिथिल पड़ने लगती हैं, ऐसे में अजवाइन का सेवन करना लाभकारी होता हैं। इससे अपच को दूर करने में मदद मिलती हैं।

13. खट्टी डकारे आने से रोके

सेंधा नमक, यवाक्षार, सूखा आंवला, हींग और अजवाइन को बराबर मात्रा में लेकर पीस ले और इनका चूर्ण बना ले। इस चूर्ण की एक ग्राम मात्रा को रोजाना सुबह-शाम शहद के साथ मिला कर चाटने से खट्टी डकारे आने की समस्या से निजात मिलता हैं।

14. सूजन कम करे

अजवाइन, अदरक, कपूर और कूंदरू के फल को बराबर मात्रा में लेकर कूट ले और इन्हें सूती कपड़े में लपेट कर हल्का-हल्का गर्म करके सूजन वाली जगह पर धीरे-धीरे करके सेंकाई करे। इससे सूजन कम होने लगती हैं।

15. पिम्पल दूर करे

4 चम्मच दही में 2 चम्मच अजवाइन पीस कर मिलाये और पेस्ट बनाये। इस पेस्ट को रात को सोने से पहले पुरे चेहरे पर लगा कर सो जाये। सुबह उठकर गुनगुने पानी से चेहरे को धो कर साफ करले। इससे चेहरे पर होने वाले मुहांसे ख़त्म होने लगते हैं।

16. शराब पीने से उल्टी आने पर

अगर किसी व्यक्ति ने ज्यादा शराब पी ली हो और उसे उल्टियाँ आ रही हैं तो उस व्यक्ति को अजवाइन जरूर खिलाना चाहिए। इससे उसे उल्टी आनी बंद हो जाती हैं और उसे काफी अच्छा महसूस होता हैं, साथ ही उसे भूख भी अच्छी तरह से लगने लगती हैं।

जरूर पढ़े :हैंगओवर उतारने के उपयोगी घरेलु उपाय और तरीके।

17. किडनी के दर्द से आराम दिलाये

पीसी हुई कच्ची अजवाइन को गुड़ के साथ बराबर मात्रा में मिला कर रोजाना एक-एक चम्मच दिन भर में 4 बार लेने से किडनी में होने वाले दर्द से आराम मिलता हैं।

18. माइग्रेन से राहत दिलाये

माइग्रेन के मरीजो अजवाइन का धुँआ लेना चाहिए। इसके अलावा अजवाइन को पीस कर माथे पर लगाने से भी माइग्रेन में होने वाले सिरदर्द में काफी ज्यादा आराम मिलता हैं।

19. गठिया में फायदेमंद

गठिया की बीमारी में अजवाइन के पाउडर की पोटली बनाकर हल्का सा गर्म करके सेंकने से गठिया में होने वाले दर्द से काफी ज्याद राहत मिलती हैं। इसके अलावा अजवाइन के आधे कप रस को पानी में मिला कर ऊपर से आधा चम्मच पीसी हुई सौंठ को खाने से गठिया की बीमारी ठीक होने लगती हैं।

20. गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद

प्रेगनेंसी पीरियड में गर्भवती स्त्रियों को अजवाइन जरूर खाना चाहिए। क्योंकि इससे एक तो उनका खून साफ बनता हैं, साथ ही इससे पुरे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन भी बेहतर बना रहता हैं।

21. दाद-खाज का उपचार

दाद-खाज हो गया हैं या फिर शरीर में कंही पर भी दाने निकल आये हैं तो अजवाइन को पानी के साथ मिला कर गाढ़ा पीस ले। दिन में 2 बार इसका लेप करने से दाद-खाज की समस्या में फायदा होता हैं। इस पेस्ट को आप घाव और जले हुए जगहों पर पर भी लगा सकते हैं, इससे भी काफी ज्यादा आराम मिलेगा और निशान भी मिट जाते हैं।

22. कान का दर्द दूर करे

कान में दर्द होने पर अजवाइन के तेल की कुछ बूंदे कान में डालनी चाहिए। इससे कान के दर्द से निजात मिलती हैं।

23. झाईयां ख़त्म करे

खीरे के रस में अजवाइन पीस कर मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरे पर हुई झाइयों की समस्या से छुटकारा मिलता हैं। इससे चेहरे के झाइयाँ ख़त्म होने लगती हैं।







अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *