अश्वगंधा के फायदे और नुकसान (Benefits & Side-effects) क्या हैं?

अश्वगंधा के फायदे और नुकसान क्या हैं? Benefits & Side-Effects of Ashwagandha in Hindi. अश्वगंधा का सेवन क्यों करना चाहिए?

अश्वगंधा को भारतीय गिन्सेंग माना गया हैं। यह एक झाड़ीदार पौधा हैं, जिससे शरीर को कई सारे फायदे होते हैं। अश्वगंधा के फल, बीज, छाल और इसकी जड़ो का इस्तेमाल कई तरह की बीमारियों के इलाज में में किया जाता रहा हैं। इससे कई शक्तिवर्धक दवाइयां बनायीं जाती हैं ताकि लोगो की सेक्स समस्याएं दूर हो सके।

आज के लेख में अश्वगंधा के फायदे और इससे होने वाले नुकसान के बारे में हम जानेंगे। Benefits & Side-effects of Ashwagandha in Hindi. इसमें ऐसे गुण पाए जाते हैं जो बॉडी को एनर्जी और यौन समस्याओं को दूर किया जा सकता हैं। अश्वगंधा के फायदे और नुकसान जानने के लिए आपको यह लेख पूरा पढ़ना चाहिए।

अश्वगंधा के फायदे :- Benefits of Ashwagandha in Hindi. 

प्रजनन क्षमता को बढ़ाये

अश्वगंधा के सेवन से प्रजनन क्षमता में बढ़ोतरी होती हैं। इससे स्पर्म काउंट बढ़ता हैं और वीर्य भी अच्छी मात्रा में बनता हैं।

यौन शक्ति बढ़ाये

अश्वगंधा के सेवन से शरीर में नया जोश आता हैं, जिससे पूरे शरीर से आलस्य दूर होता हैं। कई बार संभोग करने के दौरान थकान होने लगती हैं। ऐसे में जिन लोगो को सेक्स के दौरान अकसर थकान होने की शिकायत रहती हैं, उन्हें अश्वगंधा का सेवन नियमित रूप से करते रहना चाहिए, इससे उन्हें काफी फायदा मिलता हैं। सेक्स की किसी भी प्रकार की कमजोरी को दूर करने में अश्वगंधा बहुत ही फायदेमंद साबित होता हैं। यौन दुर्बलता में आप अश्वगंधा के तेल की मालिश भी कर सकते हैं। यह शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता हैं।

चेहरे की झुर्रियां मिटाए

National Institute of Advance Science & Technology के साइंटिस्ट ने यह माना हैं की अश्वगंधा के नियमित सेवन से स्किन पर पड़ने वाले झुर्रियो से बचा जा सकता हैं। अगर किसी व्यक्ति को चर्म रोग हैं तो अश्वगंधा के चूर्ण को तेल में मिला कर मालिश करने से चर्म रोग दूर होता हैं।

अनिद्रा दूर करे

अगर आपको नींद नहीं आती हैं और अनिद्रा की शिकायत रहती हैं तो अश्वगंधा के सेवन से अच्छी नींद आती हैं।

टेंशन दूर भगाए

अश्वगंधा के सेवन से टेंशन और डिप्रेशन जैसी बीमारियों से निजात मिलता हैं। इससे दिमागी कमजोरी भी दूर होती हैं।

गठिया में फायदेमंद

अश्वगंधा के सेवन से गठिया दूर होता हैं। इससे गठिया में होने वाले दर्द से भी राहत भी राहत मिलती हैं।

पाचन क्रिया में फायदेमंद

अश्वगंधा के सेवन से पाचन क्रिया दुरुस्त बनती हैं। गैस की समस्या को दूर करने में यह पौधा बहुत लाभदायक होता हैं। इसमें पेट को साफ़ करने का गुण पाया जाता हैं।

फोड़े-फुंसियाँ मिटाए

अश्वगंधा के पत्तियों में फोड़े-फुंसी को मिटाने वाले गुण पाए जाता हैं। शरीर पर कंही भी फोड़े-फुंसी, घाव और जख्म को भरने के लिए यह अत्यंत लाभकारी होती हैं। अश्वगंधा के पत्तो को पीस कर लगाने से शरीर की सूजन, शरीर में विकृत ग्रन्थि और फोड़े-फुंसी को मिटाया या ख़त्म किया जा सकता हैं।

ब्लड प्रेशर सही रखे

इस हर्ब के सेवन से ब्लड प्रेशर सही रहता हैं। हाई ब्लड प्रेशर के रोगियों को अश्वगंधा चूर्ण को दूध के साथ नियमित सेवन करना चाहिए इससे उनका ब्लड प्रेशर नार्मल हो जायेगा। इसे खाने से तनाव भी कम होगा।

टी.बी. रोग में फायदेमंद

टी.बी. की बिमारी में अश्वगंधा का सेवन बहुत ही फायदेमंद होता हैं। इसके सेवन से शरीर में आयरन की मात्रा बढ़ जाती हैं। सांस सम्बंधित समस्याओं को को दूर करने के लिए अश्वगंधा को शहद और घी के साथ मिला कर लेने से फायदा होता हैं। यह खांसी को दूर करने में भी लाभकारी हैं।

डायबिटीज में फायदेमंद

इसके सेवन से डायबिटीज को भी कम किया जा सकता हैं।

कोलेस्ट्रॉल कम करे

इस चमत्कारी पौधे में कोलेस्ट्रॉल को कम करने की शक्ति होती हैं।

ल्यूकोरिया में लाभकारी

ल्यूकोरिया की बिमारी होने पर महिलाओं की योनी से चिपचिपा सफ़ेद रंग का पदार्थ निकलता रहता हैं। जिससे उनमे काफी कमजोरी होने लगती हैं। इससे उनकी प्रजनन क्षमता भी कम होने लगती हैं। अगर वे महिलाएं अश्वगंधा का सेवन नियमित रूप से करे तो उन्हें इस बिमारी में बहुत आराम मिलेगा। इसमें आयरन भी अच्छी मात्रा में पाया जाता हैं। स्त्रियों की प्रजनन क्षमता भी बढ़ेगी।

कैंसर में फायदेमंद

कैंसर की दवाएं न सिर्फ कैंसर सेल्स को ख़त्म करती हैं, बल्कि यह नार्मल सेल्स को भी नुकसान पहुचाती हैं। जिससे दूसरी बीमारियाँ होने का खतरा बढ़ जाता हैं। लेकिन कैंसर की दवाओं के साथ अगर अश्वगंधा का सेवन किया जाये तो आपको बहुत फायदा होगा। अश्वगंधा के सेवन से सिर्फ कैंसर सेल्स और न्युरान्स ही नष्ट हुए, जबकि दुसरे सेल्स को कोई क्षति नहीं पहुची।

अश्वगंधा के नुकसान :- Side-Effects of Ashwagandha in Hindi.

आयुर्वेद में अश्वगंधा से कई सारी बीमारियों का उपचार होता हैं। लेकिन प्रकृति का यह नियम हैं की किसी भी चीज़ की अति फायदा पहुचाने की जगह नुकसान ही पहुचाती हैं। जैसी की हर वस्तु और पदार्थ के जहा कुछ लाभ होते हैं तो उसी वस्तु के ज्यादा सेवन से हानि का सामना भी करना पड़ता हैं। आइये जानते हैं अश्वगंधा के क्या क्या नुकसान होते हैं।

शरीर में परिवर्तन आना

जो लोग बहुत ज्यादा अश्वगंधा का सेवन करते हैं, उनके शरीर में परिवर्तन आने लगते हैं। उनके शरीर का तापमान बढ़ने लगता हैं, जिससे उनको बुखार हो जाता हैं। अगर आपको भी तापमान बढ़ने की समस्या का सामना करना पड़ रहा हैं तो अश्वगंधा का सेवन करना तुरंत भी बंद कर देना चाहिए। अगर परेशानी बहुत बढ़ जाये तो डॉक्टर से सम्पर्क करे।

पेट की समस्याएं

वैसे तो अश्वगंधा पेट के लिए अच्छा होता हैं, लेकिन इसका ज्यादा सेवन करने से पेट पर विपरीत असर पड़ता हैं। इससे पेट से सम्बंधित परेशानियाँ होने लगती हैं, जैसे की पेट में गैस बनना, दस्त लगना, उल्टी आना आदि। इसके अलावा अश्वगंधा का ज्यादा सेवन करने से आंतो भी नुकसान होता हैं। इसलिए अश्वगंधा का सेवन ज्यादा नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़े :- दस्त को दूर करने घरेलु नुस्खे और उपाय।

दूसरी दवा असर नहीं करेगी

अगर आप लम्बे समय से अश्वगंधा का सेवन करते हैं तो आपके शरीर पर अन्य कोई दूसरी दवा असर नहीं कर पाती हैं। इसलिए दूसरी कोई बिमारी होने पर दवाई खाने से भी कोई लाभ नहीं हो पाता हैं, क्योंकि अश्वगंधा के साइड-इफ़ेक्ट की वजह से वह दवाई असर ही नहीं कर पाती हैं और मरीज़ और ज्यादा बीमार होने लगता हैं। अगर आप अश्वगंधा का सेवन कर रहे हैं तो डॉक्टर की सलाह पर ही कोई दूसरी दवाई का इस्तेमाल करे।

नींद में परेशानी

जैसा की पहले भी बताया गया हैं की अश्वगंधा के सेवन से नींद अच्छी आती हैं। लेकिन जब व्यक्ति अश्वगंधा का ज्यादा सेवन करने लगता हैं तो उसे ज्यादा नींद आने लगती हैं और फिर बाद में नींद आना ही बंद हो जाता हैं। जो सेहत के लिए ज्यादा हानिकारक होता हैं। जब भी आप अश्वगंधा का उपयोग करे तो किसी चिकित्सक से परामर्श जरूर ले।

जो लोग डायबिटीज, गठिया, ब्लड प्रेशर आदि से बचने के लिए अश्वगंधा का सेवन करते हैं, उन्हें भी इसका सेवन ज्यादा नहीं करना चाहिए। अल्सर के रोगी, गैस की समस्या से परेशान लोग और गर्भवती महिलाओं को अश्वगंधा का सेवन बिलकुल भी नहीं करना चाहिए। अश्वगंधा शरीर के लिए जितना फायदेमंद साबित होता हैं, यह शरीर के लिए उतना ही नुकसानदेह भी होता हैं। इसलिए अश्वगंधा का सेवन हमेशा डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए।

तो दोस्तों आपने आज जाना अश्वगंधा के फायदे और नुकसान के बारे में। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर जरूर करे। इसके लिए आप निचे दिए गये फेसबुक या ट्विटर शेयर बटन पर क्लीक करे और अपनी प्रोफाइल में जरूर शेयर करे। आप फेसबुक पर हमारे पेज को भी Like कर सकते हैं।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

5 thoughts on “अश्वगंधा के फायदे और नुकसान (Benefits & Side-effects) क्या हैं?

  1. gsutam kumar

    Sir mera umar 17 sal h or main pdhai me concentration nhi bna pata but mai pdhai me but badhiya hu kya mai ashwagandha tablets kha Sakt hu or mai dupla ptla bhut hu or kamjor hu mai fit bhi hona chahta hu mai kitna dawa daily kha skta hu

  2. umashankar

    Sir aswagandha b swet musli khane se dhat thik ki ja sakti h esko khane ke upay ese kese khana chahiy esko wator ke sath khaya ja sakta h

  3. Ashish Kumar

    Sir I’m 16 year old nd I’m taking it from today only with milk at night for increasing my height. So it will beneficial for me nd it will not harmful for me . And even I haven’t taken advice from doctor,just seen on the net only.

  4. नवीन

    वजन बढ़ाने के लिये इसकी कितनी मात्रा ले जो नुकसान न दे।

Comments are closed.