इन चीजों को ज्यादा खाने से होता हैं सिरदर्द।

इन चीजों को ज्यादा खाने से होता हैं सिरदर्द।

वैसे तो सिरदर्द होने की कई सारी वजहें मानी जाती हैं। लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी की खाने-पीने वाली कुछ चीज़े ऐसी भी हैं, जिनके ज्यादा सेवन से सिरदर्द होने की संभावना काफी ज्यादा बढ़ जाती हैं। जी हाँ यह बात बिलकुल ही सत्य हैं, खाने पीने वाले कुछ फ़ूड ऐसे हैं जो आपके सिरदर्द को और भी ज्यादा बढ़ा देते हैं। आइये जानते हैं की कौन सी चीजों को ज्यादा नहीं खाना पीना चाहिए, ताकि आप सिरदर्द की समस्या से बचे रह पाए। These Food make headache so be careful.

सिरदर्द को बढ़ाने का काम करती हैं यह चीज़े, इन्हें खाने से बचे :-

• अल्कोहल

अगर आप ज्यादा शराब, बियर, रेड वाइन, ब्रांडी आदि पीते हैं तो आपका सिर हमेशा ही दर्द करता रहता हैं। वैसे तो अल्कोहल वाली चीजों को बिलकुल भी पीना नहीं चाहिए, क्योंकि शराब सेहत के लिए नुकसानदायक ही होती हैं। परन्तु अगर आपको शराब, बियर आदि पीने की आदत हैं तो एकदम से इसे छोड़ देने पर भी सिरदर्द हो सकता हैं। शराब आदि जैसी चीजों को कम से कम मात्रा में ही पीना चाहिए। ज्यादा मात्रा में पीने से आपको सिरदर्द की शिकायत रहती ही हैं। लेकिन कोशिश यही करे की इन बुरी आदतों को जितना जल्दी हो सके छोड़ दे।

यह भी पढ़े :- शराब पीने के नुकसान क्या हैं और इसे क्यों नहीं पीना चाहिए?

• खट्टे फल

खट्टे फलों में विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं। विटामिन सी की वजह से आपका शरीर भोजन में से ताम्बे का अवशोषण ज्यादा करने लगता हैं। ताम्बा आपके सिरदर्द को बढ़ाता हैं¸ इसलिए अगर आपको सिरदर्द की समस्या हैं तो खट्टे फलों को कम खाना चाहिए। माइग्रेन के मरीजों को खट्टे अचार और चॉकलेट को बिलकुल भी नहीं खाना चाहिए। क्योंकि इससे सिरदर्द और भी तेज़ी के साथ होता हैं।

• प्रोटीन वाले आहार

क्या आपको पता हैं की प्रोटीन वाली चीजों के ज्यादा सेवन से भी सिरदर्द हो सकता हैं। क्योंकि जिन चीजों में प्रोटीन ज्यादा मात्रा में होता हैं, उनमे ट्रिप्टोफेन नाम का एमिनो एसिड भी होता हैं जो आपके सिरदर्द को बढ़ाने का काम करता हैं। स्मोक्ड मछली को खाने से भी सिरदर्द में बढ़ोतरी होती है, इसलिए इस तरह की मछली को खाने से बचना चाहिए। क्योंकि इनमें टाईरामाँइन होता है जो सिरदर्द को बढ़ाने में उत्प्रेरक का काम करता है । कुछ लोगों का शरीर टाईरामाँइन को तोड़ नहीं पाता और अगर आपका शरीर टाईरामाँइन को नहीं तोड़ पायेगा तो आपको सिरदर्द होने लगेगा और यदि पहले से सिरदर्द है तो उसमें और भी ज्यादा वृद्धि होगी।

• कॉफ़ी

वैसे तो कॉफ़ी पीने से तरोताजगी आ जाती हैं और मूड फ्रेश हो जाता हैं। लेकिन कॉफ़ी पीने से कुछ लोगो में सिरदर्द होने की समस्या देखी गयी हैं। इसलिए जिन लोगो को माइग्रेन या सिरदर्द होने की समस्या हैं, उन्हें कॉफ़ी कम मात्रा में या फिर बिलकुल ही नहीं पीना चाहिए। लेकिन जिन लोगो को कॉफ़ी पीने की आदत हैं, उन्हें कॉफ़ी पीना एकदम से बंद नहीं करना चाहिए, वरना आपके सिर में और भी ज्यादा दर्द होने लगेगा। कॉफ़ी को पीना धीरे-धीरे करके कम कर दे।

• पनीर

पनीर में भी टाईरामाँइन नाम का एंजाइम होता हैं, जो आपके ब्लड प्रेशर को बढ़ा सकता हैं। जब आपका ब्लड प्रेशर बढ़ता हैं तो निश्चित ही आपको सिरदर्द होने लगता हैं। यह बात भी सच नहीं हैं की पनीर खाने के तुरंत बाद ही आपका सिरदर्द होने लगे। हो सकता हैं पनीर खाने के 2-3 घंटे के बाद या फिर 6-7 घंटे बाद आपके सिर में दर्द पैदा हो जाये। अगर आपको सिर में हमेशा दर्द रहता हैं तो आपको यह जानने की जरूरत हैं की कंही पनीर के सेवन से आपका सिर दर्द तो नहीं न कर रहा हैं। दही में भी टाईरामाइन होता हैं, इसलिए जिन लोगो को हमेशा सिर में दर्द रहता हैं, उन्हें भी दही कम मात्रा में खाना चाहिए।

यह भी पढ़े :- पनीर खाने के फायदे, नुकसान और सावधानी।

नोट :- उपरोक्त बताई गयी बातें अपनी जगह पर सही हैं, लेकिन यह भी जरूरी नहीं हैं की यह चीज़े खाने से अगर किसी एक व्यक्ति के सिर में दर्द होता हैं तो दुसरे व्यक्ति के साथ भी ऐसा ही होगा। क्योंकि अलग-अलग व्यक्तियों के शरीर एक दुसरे से भिन्न हैं, जिन व्यक्तियों का शरीर ट्रिप्टोफेन और टाईरामाईन एसिड को तोड़ नहीं पाता हैं, उनमे सिरदर्द होने की समस्या ज्यादा होती हैं।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...