कान छिदवाने के फायदे.

कान छिदवाने के फायदे

कान छिदवाना आज के युग में एक फैशन बन गया हैं। प्राचीन युग से ही स्त्रियों में कान छिदवाना भारतीय परम्परा रही हैं। लेकिन फैशन के ज़माने में पुरुष भी अपने कान छिदवाने लगे हैं। प्राचीन काल से लड़कियां अपने कान और नाक दोनों ही छिदवाती रही हैं। आइये जानते हैं कान छिदवाने के फायदे क्या है? कान क्यों छिदवाना चाहिए? Benefits of Piercing ears in Hindi.

भारत के ज्यादातर राज्यों में आज भी कर्णवेध संस्कार किया जाता हैं। जिसमे लड़के-लड़कियों के कान को छेदा जाता हैं। खास करके कन्याओं के कान-नाक छेदे ही जाते हैं। अन्य संस्कारों की तरह हिन्दू धर्म में इसे करना जरूरी माना गया हैं। कान छिदवाने की यह रीती यूँही नहीं बनाई गयी हैं, बल्कि इससे कई शरीर को कई सारे फायदे होते हैं, इसलिए स्त्रियों के लिए कान छिदवाना जरूरी माना जाता हैं।

कान के बीच की सबसे महत्वपूर्ण स्थान पर जब प्रेशर लगाया जाता हैं तो इसकी सभी नसें सक्रिय हो जाती हैं। चाहे लोग अब फैशन के लिए ही कान क्यों न छिदवा रहे हैं, लेकिन इससे स्वास्थ्य को होने वाले लाभों को नकारा नहीं जा सकता हैं।

कान छिदवाने के फायदे जानिए :-

■ टेंशन से मुक्ति दिलाये

एक्यूपंचर के मुताबिक जब कान को छेदा जाता हैं तो केंद्र बिन्दु पर प्रेशर पड़ता हैं। जिससे ओसीडी (किसी बात पर जरूरत से ज्यादा चिंता करना), घबराहट, मानसिक बीमारी आदि से छुटकारा पाने में आसानी होती हैं।

■ लकवा होने से बचाए

साइंटिफिक नजरिये से यह माना जाता हैं की कान छिदवाने से लकवे की बीमारी से बचने में मदद मिलती है।

जरूर पढ़े :- लकवे के उपचार में मददगार हैं यह उपयोगी घरेलु नुस्खे और उपाय।

■ आँखों की रोशनी बढ़ती है

एक्युपंचर की माने तो कान के निचले हिस्से पर केंद्रीय बिंदु होता हैं। जहाँ से आँखों की नसें पास होती हैं। इस बिंदु को दबाने से आँखों की रोशनी तेज़ बनती हैं।

■ एकाग्रता बढ़ाये

प्राचीन काल में गुरुकुल जाने से पहले बालक की मेधा शक्ति बढ़ाने और ज्ञान अर्जित करवाने के लिए उसके कर्णवेध की प्रथा निभाई जाती थी। ऐसा इसलिए किया जाता था, क्योंकि कान छेदने से ब्रेन मेमोरी बढ़ती है। इससे एकाग्रता में वृद्धि आती हैं। इसलिए भारत में कई जगहों पर बच्चे के एक साल होने से पहले ही उसके कान छिदवा दिए जाते हैं।

■ दिमाग के लिए फायदेमंद

महान ऋषि सुश्रुत के अनुसार कान के निचले हिस्से में एक पॉइंट होता हैं, जो ब्रेन के राईट और लेफ्ट हिस्से से जुड़ा हुआ होता हैं। जब इन पॉइंट पर छेद किया जाता हैं तो मस्तिष्क के यह हिस्से सक्रिय हो जाते हैं। इसलिए जब बच्चे बढ़ रहे होते हैं तो उनके कान छिदवा दिए जाते हैं, जिससे उनके दिमाग का विकास सही तरह से हो पाता हैं।

■ प्रजनन अंग हेल्दी रहते हैं

इयर लोब्स के बीच में कई प्रेशर पॉइंट्स होते हैं, जिससे प्रजनन अंगो को हेल्दी बनाने में मदद मिलती हैं।

जरूर पढ़े :- गलती से भी इन अंगो को हाथ न लगाये।

■ वजन कम करे

जिस जगह पर कान छेदा जाता हैं, वहां पर भूख लगने वाला पॉइंट होता हैं। इसलिए कान छिदवाने से पाचन क्रिया भी अच्छी बनती हैं और मोटापा दूर करने में आसानी होती हैं।

■ कान बनते हैं हेल्दी

जिस जगह पर कान छेदा जाता हैं, उस स्थान पर एक पॉइंट होता है जो साफ सुनाई देने में आपकी सहायता करता हैं।

■ लड़कों को भी मिलता हैं फायदा

लड़के अगर कान छिदवाते हैं तो इससे उन्हें अण्डकोष और वीर्य के संरक्षण में फायदा होता हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *