खर्राटे को आने से रोकने या कम करने वाले फूड और टिप्स।

खर्राटे को दूर करने वाले फूड और टिप्स। खर्राटो से छुटकारा दिलाने वाले आहार और घरेलु नुस्खे.

क्या आपको भी नींद में खर्राटे लेने की आदत हैं? क्या आप भी सोने के दौरान खर्राटे लेते हैं? तो दोस्तों आज का आर्टिकल खास तौर पर खर्राटो से बचने के लिए क्या क्या खाना चाहिए? इसे दूर या कम करने वाले घरेलु नुस्खे और उपाय एवं टिप्स के क्या हैं? Best food & Tips for get rid from snoring in Hindi के बारे में लिखा गया हैं।

रात को सोते समय खर्राटे आने से शायद आपको कोई परेशानी न हो लेकिन आपके पार्टनर की नींद खराब हो ही जाती हैं। खर्राटा एक आम समस्या हैं जो पुरुष और महिला दोनों में पाई जाती हैं। लेकिन अगर यह समस्या बहुत ज्यादा बढ़ गयी हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। खर्राटे की समस्या उम्र बढ़ने के साथ-साथ बढ़ती चली जाती हैं। खर्राटे आने के कई कारण हो सकते हैं जैसे नाक या गले में रूकावट की वजह से, गले के फूलने से, मोटापे की वजह से या फिर गलत सोने के कारण आदि।

खर्राटा धीरे धीरे एक बीमारी बन जाती हैं। खर्राटा तब आता हैं जब नर्म तालू हवा के गुजरने के कारण बजने लगता हैं। खर्राटे आने का सम्बन्ध दिल की बिमारियां होने के खतरे को भी बढ़ावा देते हैं। लेकिन ठहिये आप अपने खान-पान में कुछ बदलाव करके इन खर्राटो से छुटकारा पा सकते हैं।

आइये जानते हैं खर्राटो से छुटकारा पाने के लिए क्या खाना चाहिए? खर्राटो का घरेलु उपचार और इलाज क्या हैं? खर्राटों से निजात दिलाने वाले टिप्स क्या हैं?

खर्राटे कम करने वाले टिप्स और आहार :-

बकरे के मीट की जगह मछली खाए

खर्राटे आने में बकरे का मीट भी जिम्मेवार होता हैं। बकरे के मीट में सैचुरेटेड फैट होता हैं जो धमनियों में ऐंठन पैदा कर सकता हैं। इसके सेवन से इन्फ्लेमेशन और गले में सूजन भी आ जाती हैं। इसलिए खर्राटो से छुटकारा पाने के लिए आपको मीट नहीं खाना चाहिए, लेकिन अगर आपको नॉन-वेज़ खाने का शौक हैं तो आप मछली को खा सकते हैं।

हल्दी वाला दूध

हल्दी में एंटीबायोटिक और एंटीसेप्टिक गुण पाए जाते हैं, जिससे नासाद्वार साफ हो जाता हैं। इसलिए रात को सोने से पहले दूध में हल्दी पकाकर यानि की हल्दी वाला दूध पीने से सांस लेने में आसानी होगी और आपको खर्राटो से राहत मिलेगी।

सोया मिल्क

गाय के दूध में लेक्टोज होता हैं जो लोग लेक्टोस को सहन नहीं कर पाते हैं, उन्हें खर्राटे लेने की आदत पड़ जाती हैं। क्योंकि गाय का दूध पीने से ऐसे लोगो की नाक जाम हो जाती हैं और खर्राटे आने लगते हैं। साथ ही यह म्यूकस का उत्पादन बढ़ा देता हैं। इसलिए जिन लोगो को खर्राटे की समस्या हैं उन्हें गाय के दूध की बजाये सोया मिल्क पीना चाहिए।

लहसुन

साइनस की समस्या को दूर करने में लहसुन मदद करता हैं। लहसुन में हीलिंग पॉवर होती जो श्वसन तंत्र को साफ़ करता हैं जिससे आपको बिना खर्राटे वाली चैन की नींद लेते में फायदा होता हैं।

मधु

शहद का सेवन करने से खर्राटो को दूर करने में मदद करता हैं। मधु में एंटीइन्फ्लैमेटोरी और एंटी माइक्रोबियल गुण पाए जाते हैं जो हवा के मार्ग में आने वाली किसी भी तरह की रुकावट को दूर करता हैं। इसके सेवन से आपका गला भी नहीं फूलता हैं।

यह भी पढ़े :- शहद खाने के फायदे और घरेलु नुस्खे। 

पुदीने का तेल

पुदीने में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो नासाछिद्रों और गले की सूजन को दूर करने में मदद करते हैं। जिससे सांस लेने में आसानी होती हैं। इसलिए पेपरमिंट तेल की कुछ बूंदे पानी में डाल कर गरारे करे। इस उपाय को नियमित कुछ दिनों तक अपनाने से आपको फायदा होगा।

ज्यादा खाना न खाए

रात को ज्यादा खाना खाने से बचे। तुरंत खाना खाने के बाद सोने के लिए न जाये। खाना खाने के बाद थोड़ी देर के लिए टहले, इससे खाना आसानी से हजम हो जायेगा। रात को डिनर में कम खाने से खर्राटे आने की समस्या को आप कम कर सकते हैं।

चाय

खर्राटो को रोकने के लिए चाय एक बेहतरीन उपाय हैं। यह गले के संकुचन को कम कर देता हैं। अगर आप खर्राटे को कम करना चाहते हैं तो कैमोमाइल टी, ब्लैक टी, ग्रीन टी और नार्मल चाय का सहारा ले सकते हैं। अगर आप खर्राटे को असरकारी तरीके से रोकना चाहते हैं तो चाय में निम्बू और शहद मिला कर पीजिये।

इलायची

इलायची को श्वसन तंत्र को खोलने वाला मसाला माना जाता हैं, जिससे सांस लेने की प्रक्रिया में आसानी होती हैं। सोने से पहले गुनगुने पानी के साथ इलायची के दानो को खाने से रात में खर्राटे कम आते हैं।

यह भी पढ़े :- इलायची खाने के फायदे। 

जैतून का तेल

जैतून का तेल गले क्राउडिंग को नर्म तालू से लेकर कंठ तक कम कर देता हैं, जिससे खर्राटे को रोकने में मदद मिलती हैं। ओलिव आयल खर्राटे को रोकने का सबसे कारगर उपाय हैं, इसमें एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण होता हैं जो श्वसन तंत्र की प्रक्रिया को सुचारू बनाये रखने में मदद करता हैं।

खर्राटे को कम करने के लिए क्या नहीं खाना पीना चाहिए :-

डेयरी प्रोडक्ट्स

अगर आप खर्राटे आने से बचना या इन्हें रोकना चाहते हैं तो अपनी डाइट में से डायरी उत्पादों को बाहर निकाल दे। डेरी प्रोडक्ट्स में लेक्टोस होता हैं जो खर्राटे आने की वजह बन जाता हैं। अगर आप डायरी प्रोडक्ट खा रहे हैं तो यह आपको रात को सोने से 5-6 घंटे पहले ही खाना या पीना चाहिए।

शराब

अगर आप शराब का सेवन करते हैं तो उपरोक्त बताये गये सभी टिप्स बेकार हैं। क्योंकि शराब पीने से नर्वस सिस्टम पर असर पड़ता हैं। चाहे ही आप खर्राटे रोकने वाले भोजन क्यों न खाए, लेकिन शराब पी कर आप खर्राटे को रोकने वाले उपायों पर पानी फेर देते हैं, इसलिए आपको शराब नहीं पीना चाहिए।

खर्राटे कम करने वाले अन्य उपयोगी टिप्स :-

हमेशा हाइड्रेट रहे

जब आपका शरीर पूरी तरह से हाइड्रेट नहीं होता हैं तो आपके नाक और गले में कुछ चिपचिपाहट सी बनी रहती हैं, जिससे आपको ज्यादा खर्राटे आते हैं। इसलिए शाम को 7 बजे के बाद आपको ज्यादा पानी पीना चाहिए, जिससे आपकी बॉडी हाइड्रेट रह सके।

Nasal Spray का इस्तेमाल

अगर आपको खर्राटे आने की वजह nasal congestion हैं तो कोई भी बढ़िया सा Nasal Spray का इस्तेमाल करे। Throat Spray पर पैसा खर्च करने की जरूरत नहीं हैं, क्योंकि यह किसी काम के नहीं होते और इनसे खर्राटे भी नहीं रूक पाते हैं, लेकिन Nasal Spray के इस्तेमाल से आप अपनी बंद नाक को खोल सकते हैं और आपको सांस लेने भी आसानी होगी और आपको खर्राटे कम आयेंगे।

सोने की पोजीशन बदले

कई बार सही पोजीशन में नहीं सोने की वजह से भी खर्राटे आने लगते हैं। जब भी ऐसी स्तिथि हो तो तुरंत करवट बदले। पीठ के बल न सोये, वर्ना आपको ज्यादा खर्राटे आयेंगे। चाहे तो आप साइड में तकिया रख ले और सोये, इससे आपके शरीर को भी सहारा मिल जाता हैं।

सोने से पहले गर्म पानी से नहाये

खर्राटे जब भी आते हैं तो नाक और गले के मार्ग अप्राकृतिक तरीके से बंद और ब्लोक हो जाते हैं। लेकीन जब आप जागते हैं तो ऐसा नहीं होता हैं। ब्लॉकेज की वजह से हवा ठीक तरह से पास नहीं हो पाती हैं और आपको खर्राटे आने लगते हैं। ऐसे में सोने से पहले गर्म पानी से नहा ले, इससे किसी भी तरह का ब्लॉकेज को ख़त्म किया जा सकता हैं।

डस्टबिन को दूर रखे

अध्यन यह बताते हैं की कमरे में अगर धुल साफ़ करने वाले ब्रश या कपडा या डस्टबिन रखा हो तो इससे भी आपको एलर्जी हो सकती हैं और आपको खर्राटो की समस्या हो जाती हैं। जहा तक हो सके इन सभी सामानों को कमरे से दूर या कमरे से बाहर रखना चाहिए।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...