गुरूवार के दिन क्या करना चाहिए?

गुरूवार के दिन क्या करना चाहिए?

गुरूवार के दिन को भगवान बृहस्पति की पूजा की जाती हैं। शास्त्र भगवान बृहस्पति को साधू संतो के देवता मानते हैं। बृहस्पतिवार के दिन इनकी पूजा पीले रंगों के फूलो से करनी चाहिए। वह आप पर अपनी कृपा बनाये रखेंगे। आइये जानते हैं उन्हें पीला रंग क्यों पसंद हैं?

भगवान विष्णु को पसंद हैं पीला रंग

गुरूवार के दिन देवगुरु बृहस्पति का माना जाता हैं। इनकी कृपा से धन-समृद्धि, शिक्षा और पुत्र रत्न की प्राप्ति होती हैं। पीला रंग और पीली वस्तुएं इन्हें बहुत प्रिय होती हैं। इस दिन को भगवान विष्णु के लिए भी जाना जाता हैं। बृहस्पतिवार के दिन पीले रंग के वस्त्र पहनने चाहिए, पीली वस्तुओं का दान करना चाहिए और घर में पीले रंग के व्यंजन बनाने चाहिए। इसलिए इस दिन लोग पीले रंग को बहुत ही महत्व देते हैं। गुरूवार के दिन भगवान् सत्यनारायण की पूजा का विशेष महत्व हैं।

विवाह की चिंता ख़त्म होती हैं

अगर आपके विवाह होने में परेशानी और रुकावट आ रही हैं तो गुरूवार के दिन आप व्रत रखे। उसी दिन आप भगवान विष्णु को पीले रंग के फूल अर्पण करे। इसके अलावा पीला चावल, पीली मिठाई, चना दाल आदि का भोग भगवान विष्णु को लगाये।

भगवान विष्णु को प्रसन्न करने का उपाय

गुरूवार के दिन केले के पेड़ की पूजा करे। साथ ही प्रसाद के तौर पर लोगो को केला बांटे। पीली वस्तुओं का दान करे। सुबह उठकर नहाने के बाद पीले रंग के कपड़े पहने। गुड़ और चना की दाल को एक साथ मिला कर प्रसाद बनाये, यह प्रसाद भगवान् विष्णु को सबसे ज्यादा पसंद आता हैं।

गुरूवार के दिन क्या नहीं करना चाहिए?

इस दिन घर में पोछा नहीं लगाना चाहिए। न ही कपड़ो को धोये और न ही उन्हें प्रेस करे। किसी को पैसे न दे। जो लोग इस दिन व्रत रखते हैं उन्हें इस बात का हमेशा ध्यान रखना चाहिए, की इस दिन नमक बिलकुल भी नहीं खाना हैं। इस दिन पीला भोजन करे, इससे भगवान् विष्णु आप पर जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

जानिए माँ गंगा ने अपने ही पुत्रों को नदी में क्यों बहाया?
तांबे के बर्तन का इस्तेमाल पूजा में क्यों किया जाता है?
भगवान को फूल क्यों चढ़ाये जाते हैं ?
श्री हनुमान चालीसा.
क्यों मनाते हैं लोहड़ी और इसकी कथा क्या हैं?
जानिए, आखिर एक ही समय और जगह जन्में व्यक्ति की किस्मत अलग क्यों होती है?
दीवाली की तरह दुनिया में मनाए जाने वाले प्रकाश पर्व.
गौ माता का पूजन कैसे करे और इससे क्या लाभ होता हैं.
जीवित्पुत्रिका व्रत (जिउतिया) की कथा और इसे कैसे मनाया जाता हैं।
इन सपनो से मिलता हैं विवाह और शादी होने के संकेत।
शनि देव को प्रसन्न करने के सरल उपाय।
भगवान सूर्य की मूर्ति इन दिशाओं में लगाने से होता हैं फायदा।