इस तरह से चावल को पका कर खाने से नहीं बढ़ता हैं वजन।

चावल को कैसे बना कर खाए, ताकि वजन यानि मोटापा न बढ़ पाए.

चावल खाना तो हर किसी को पसंद होता हैं। लेकिन चावल खाने से वजन तेज़ी के साथ बढ़ने की समस्या होती हैं। जिस वजह से कई लोग चावल खाते ही नहीं हैं। चावल भारत समेत दुनिया के कई देशो का प्रमुख्य आहार हैं। सफेद चावल में स्टार्च और कार्बोहाइड्रेट ज्यादा मात्रा में होते हैं। बॉडी में कार्बोहायड्रेट की ज्यादा मात्रा बाद में फैट में परिवर्तित हो जाती हैं। इसलिए चावल के सेवन से वजन तेज़ी के साथ बढ़ने लगता हैं। वजन के बढ़ने की वजह चावल में मौज़ूद स्टार्च के भंग होना हैं, इससे बॉडी के अंदर शुगर की मात्रा बढ़ जाती हैं, नतीज़न शरीर में मोटापा आना स्वभाविक हैं।

चावल को खाने से खास करके सफेद चावल के सेवन से डायबिटीज होने का खतरा ज्यादा होता हैं, क्योंकि इससे ब्लड शुगर लेवल की मात्रा ज्यादा बढ़ जाती हैं। लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं हैं की चावल खाना बुरी बात है, अगर आप ज्यादा मेहनत भरा काम करते हैं तो आप आसानी के साथ इसकी कैलोरी को बर्न कर सकते हैं। इसलिए चावल खाने वाले लोगो को शारीरिक मेहनत और कसरत जरूर करनी चाहिए।

अगर आपको भूख लगी हैं और एनर्जी की कमी हो गयी हैं तो चावल को खाने से आपको तुरंत उर्जा भी प्राप्त होती हैं। लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं की बिना वजन बढ़ाए चावल को कैसे खाया जा सकता हैं?

चावल में नारियल का तेल मिला कर पकाये

चावल को उबालने के बाद इसमें एक से तीन बूंदे नारियल के तेल की मिलाये। फिर चावल को अलग रख दे और पानी के सूखने की प्रतीक्षा करे। फिर चावल को 12 घंटे तक फ्रिज में स्टोर करे और दुबारा से गर्म करके इसका सेवन करे।

नारियल का तेल कैसे हैं फायदेमंद?

चावल में 2 तरह के स्टार्च होते हैं। इन दोनों स्टार्च में से एक स्टार्च आसानी के साथ पचने वाला हैं, जबकि दूसरा स्टार्च ऐसा हैं जो जल्दी हजम नहीं हो पाता हैं, जिसकी वजह से आपका वजन तेज़ी के साथ बढ़ने लगता हैं।

चावल में उपस्तिथ होता हैं अपाच्य शुगर

चावल में अपाच्य शुगर कम मात्रा में होती हैं और यह स्टार्च फैट में परिवर्तित नहीं होता हैं। ऐसा इसलिए हैं क्योंकि इस अपाच्य स्टार्च को बॉडी अवशोषित नहीं कर पाती हैं और यह हजम नहीं हो पाता हैं। जिससे आपका सिर्फ पेट ही भरता हैं और जब तक यह पेट में रहता हैं, तब तक आप मलत्याग नहीं कर पाते हैं।

नारियल का तेल पाच्य स्टार्च को अपाच्य चीनी में बदलता हैं

जब आप नारियल के तेल को चावल में मिक्स करते है तो पाच्य स्टार्च के साथ रिएक्शन होने लगता हैं और यह अपाच्य शुगर में तब्दील हो जाता हैं। इस स्टार्च को बॉडी के जरिये भंग नहीं किया जा सकता हैं, जिससे वजन बढ़ने की समस्या नहीं होती हैं। इससे चावल में उपस्तिथ कैलोरी की 60% मात्रा को कम किया जा सकता हैं।

■ अपाच्य स्टार्च के होते हैं यह फायदे

चावल में पाए जाने वाले अपाच्य स्टार्च के लाभ भी हैं, जो नारियल के तेल के मिलाने से पैदा होता हैं। इस स्टार्च को रेसिस्टेंट स्टार्च भी कहा जाता है। यह ब्लड ग्लूकोज़ के लेवल को कम करता हैं, बॉडी में इन्सुलिन के प्रभाव को बढ़ाता हैं, कब्ज़ होने से बचाता हैं और पाचन में सहायता करता हैं। इससे आपका पेट लम्बे समय तक भरा हुआ रहता हैं। इससे मोटापा कम करने में भी आसानी होती हैं और साथ में कई दूसरी बिमारियों से भी बचने में मदद मिलती हैं।

नारियल के तेल का इस्तेमाल सभी तरह के स्टार्च वाले आहार में जरूर करे

आप चाहे तो नारियल के तेल के इस नुस्खे का इस्तेमाल दुसरे स्टार्च वाले आहार में भी कर सकते हैं। चावल को 12 घंटे फ्रिज में रख कर खाने से आपको मोटापे की समस्या नहीं होगी। इसी तरह ओट्स, आलू, पास्ता और दुसरे स्टार्च वाले फूड को आप नारियल के तेल में बना कर खा सकते हैं। नारियल के तेल में इन चीजों को बना कर खाने से इनमे मौजूद कैलोरी की मात्रा को कम करने में आसानी होती हैं।

चावल से पानी निकाल कर फेंकना

अगर आप चावल से कैलोरी की मात्रा को कम करना चाहते हैं, इसका सबसे आसान उपाय हैं की आप इसका पानी यानि मांड निकाल कर फ़ेंक दे। चावल को उबाले के बाद जब चावल का पानी गाढ़ा हो जाये तो इसे फेंक दे। इस चावल के पानी में स्टार्च ज्यादा होता हैं। यह पानी काफी ज्यादा गाढ़ा हो जाता हैं जिसे बाद में गोंद की तरह भी इस्तेमाल किया जा सकता हैं। वैसे तो चावल के इस पानी को आम बोल चाल की भाषा में माढ (मांड) कहा जाता हैं। मांड पीने के अपने ही फायदे होते हैं



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...