जानिए मोहिनी एकादशी व्रत के बारे में…

Mohini Ekadashi Vrat

मोहिनी एकादशी व्रत की कथा, मोहिनी एकादशी व्रत कब करना चाहिए? Story About Mohini Ekadashi Vrat in Hindi.

हिंदू पंचाग के अनुसार मोहिनी एकादशी वैशाख मास की एकादशी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन ऐसे कोई भी काम न करें। जिससे आपके द्वारा किए गए पुण्य के काम पाप में बदल जाएं। जोकि आपके आने वाले जीवन के लिए नुकसानदेय साबित हो सकता है। इस दिन पूजा-पाठ करने से आपकी हर मनोकामना भी पूर्ण हो जाती है।

पद्मपुराण के अनुसार इस एकादशी के बारें में श्री कृष्ण ने कहा है कि इस व्रत को करने से लोक और परलोक में सौभाग्य की प्राप्ति होती है। साथ ही सभी प्रकार के पापों का नाश होता है। साथ ही माना जाता है कि इस व्रत को करने से आपको 10 हजार सालों की तपस्या के बराबर फल मिलता है।

हिंदू धर्म के शास्त्रों के अनुसार जो इंसान विधि-विधान से एकादशी का व्रत और रात्रि जागरण करता है उसे वर्षों तक तपस्या करने का पुण्य प्राप्त होता है। इसलिए इस व्रत को जरुर करना चाहिए। इस व्रत से कई पीढियों द्वारा किए गए पाप भी दूर हो जाते है।

इस एकादशी के दिन जो व्यक्ति व्रत रखता है। वह इस दिन प्रात: स्नान करके भगवान को स्मरण करते हुए विधि के साथ पूजा करें और उनकी आरती करनी चाहिए साथ ही उन्हें भोग लगाना चाहिए। इस दिन भगवान नारायण की पूजा का विशेष महत्व होता है। साथ ही ब्राह्मणों तथा गरीबों को भोजन या फिर दान देना चाहिए। यह व्रत बहुत ही फलदायी होता है। इस व्रत को करने से समस्त कामों में आपको सफलता मिलती है। जानिए इसकी पूजा-विधि, और कथा के बारे में।

एकादशी व्रत पूजा विधि

इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर भगवान का मनन करते हुए सबसे पहले व्रत का संकल्प करें। इसके बाद सभी कामों से निवृत्त होकर स्नान करें। इसके बाद पूजा स्थल में जाकर भगवान श्री कृष्ण की पूजा विधि-विधान से करें। इसके लिए धूप, दीप, नैवेद्य आदि सोलह चीजों से करने के साथ रात को दीपदान करें। इस दिन रात को सोए नहीं।

सारी रात जगकर भगवान का भजन-कीर्तन करें। इसी साथ भगवान से किसी प्रकार हुआ गलती के लिए क्षमा भी मांगे। अगले दूसरे दिन यानी की 4 मई, बुधवार के दिन सुबह पहले की तरह करें। इसके बाद ब्राह्मणों को ससम्मान आमंत्रित करके भोजन कराएं और अपने अनुसार उन्हे भेट और दक्षिणा दे। इसके बाद सभी को प्रसाद देने के बाद खुद भोजन करें।

व्रत के दिन व्रत के सामान्य नियमों का पालन करना चाहिए। इसके साथ ही साथ जहां तक हो सके व्रत के दिन सात्विक भोजन करना चाहिए। भोजन में उसे नमक का इस्तेमाल बिल्कुल नहीं करना चाहिए। इससे आपको हजारों सालों की तपस्या के बराबर फल मिलेगा।

मोहिनी एकादशी व्रत कथा

सरस्वती नदी के किनारे भद्रावती नाम का नगर था। वहां धृतिमान नाम का राजा राज्य करता था। उसी नगर में एक बनिया रहता था, उसका नाम था धनपाल। वह भगवान विष्णु का परम भक्त था और सदा पुण्यकर्म में ही लगा रहता था। उसके पांच पुत्र थे- सुमना, द्युतिमान, मेधावी, सुकृत तथा धृष्टबुद्धि। धृष्टबुद्धि सदा पाप कर्म में लिप्त रहता था। अन्याय के मार्ग पर चलकर वह अपने पिता का धन बरबाद किया करता था।

एक दिन उसके पिता ने तंग आकर उसे घर से निकाल दिया और वह दर-दर भटकने लगा। भटकते हुए भूख-प्यास से व्याकुल वह महर्षि कौंडिन्य के आश्रम जा पहुंचा और हाथ जोड़ कर बोला कि मुझ पर दया करके कोई ऐसा व्रत बताइये, जिसके पुण्य प्रभाव से मेरी मुक्ति हो। तब महर्षि कौंडिन्य ने उसे वैशाख शुक्ल पक्ष की मोहिनी एकादशी के बारे में बताया। मोहिनी एकादशी के महत्व को सुनकर धृष्टबुद्धि ने विधिपूर्वक मोहिनी एकादशी का व्रत किया।

इस व्रत को करने से वह निष्पाप हो गया और दिव्य देह धारण कर गरुड़ पर बैठकर श्री विष्णुधाम को चला गया। इस प्रकार यह मोहिनी एकादशी का व्रत बहुत उत्तम है।




अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

आसानी से हजम हो जाने वाले खाद्य पदार्थ कौन से हैं?
लम्बा जीवन जीने के लिए अपनाये यह तरीके।
सरसों के तेल के फायदे जानिए।
गर्मियों के मौसम में बिमारियों से बचाव करने के तरीके जानिए।
नारियल पानी पीने के फायदे.
पान के पत्ते के फायदे और घरेलु नुस्खे.
क्या दांतों में टूथपिक का इस्तेमाल करना चाहिए?
सूरजमुखी के बीज खाने से सेहत को होते हैं यह कमाल के फायदे।
लगातार नींद की गोलियां खाने से सेहत हो होते हैं यह नुकसान।
दालचीनी से होने वाले नुकसान के बारे में जानिए।
अखरोट वाला दूध पीने से पुरुषो को होने वाले फायदे।
नींद में बड़बड़ाना रोकने के लिए उपयोगी उपाय एवं टिप्स।
कोल्डड्रिंक न पीने से शरीर को होते हैं यह फायदे।
आँखों के रंग से इन बिमारियों के होने का मिलता हैं संकेत।
जानिए शादी के बाद लड़कियां मोटी क्यों हो जाती हैं? वजन घटाने के उपयोगी तरीके...
जिमीकंद (सूरन) की सब्जी खाने के फायदे जानिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *