हाइपरएक्टीव थायरोइड के बारे में जरूरी जानकारी।

जानिए हायपरएक्टिव थायराइड के बारे में जानकारी

इसमें थायराइड ग्रंथि बहुत ज्यादा एक्टिव हो जाती हैं और टी थ्री, टी फोर हार्मोन ज्यादा मात्रा में निकलकर खून में घुलनशील हो जाता है। थायराइड की दूसरी प्रॉब्लम हैं अर्थात थायराइड ग्रंथि के अधिक कार्य करने की प्रवृत्ति। यह जिंदगी के लिए ज्यादा खतरनाक होती हैं। । थायराइड ग्रंथि की अधिक हार्मोन निर्माण करने की स्थिति से चयापचय (बीएमआर) बढ़ने से भूख लगती है। इससे इंसान ज्यादा ज्यादा खाना खाने लगता है, लेकिन उसका वजन फिर भी घटता ही चला जाता हैं। इसके लिए इंसान का भावनातक या मानसिक तनाव ही प्रमुख कारण होता है।

1. इसमें कोलेस्ट्रॉल का लेवल ब्लड में कम हो जाता हैं। हार्ट बीट रेट बढ़ कर एकांत में सुनाई देने लगती हैं। पसीना ज्यादा आने लगता हैं, आँखों में चौड़पन, गहराई बढ़ना, , नाड़ी स्पंदन 70 से 140 तक बढ़ जाता है।

2. इस बीमारी में मसल्स कमजोर होने लगते हैं, साथ ही हड्डियाँ सिकुड़ने लगती हैं, जिससे आदमी की हाइट कम हो जाती हैं और कूबड़ निकल आता हैं। कमर आगे की तरह झुक जाती हैं।

3. अगर किसी व्यक्ति को यह बीमारी हो जाये तो उसका वजन बहुत ही तेज़ी के साथ कम होने लगता हैं। मरीज़ को बहुत ही ज्यादा मात्रा में पसीना आता हैं। इस बीमारी के मरीज़ गर्मी को ज्यादा बर्दास्त नहीं कर पाते हैं। इन्हें भूख भी काफी ज्यादा और बार-बार लगने लगती हैं। वे काफी ज्यादा दुबले होने लगते हैं। उनमे निराशा काफी ज्यादा होने लगती हैं।

4. इस बीमारी के चपेट में आने से हाथों में कंपकंपी होने लगती हैं। आँखों में हमेशा नींद छाई रहती हैं। दिल की धड़कने तेज़ हो जाती हैं। मरीज़ को दस्त भी लग जाते हैं। साथ ही इससे प्रजनन क्षमता भी बुरा असर पड़ता हैं। पीरियड में हैवी ब्लीडिंग होने लगती हैं और यह अनियमित हो जाता हैं। प्रेग्नेंट महिलाओं को मिसकैरिज होने का ख़तरा ज्यादा बढ़ जाता हैं। हायपर थायराईड की समस्या 20 साल की उम्र की लड़कियों को ज्यादा होता हैं।

5. थायराइड ग्रंथि के साथ ही पैराथायराइड ग्रंथि होती है। यह थायराइड के पास उससे आकार में छोटी और सटी होती हैं। इस एक्टिविटी से हड्डियों और दांतों के निर्माण में मदद मिलती हैं। भोजन से विटामिन डी और कैल्शियम के इस्तेमाल करने के लिए यह ग्रंथि मदद करती हैं। इसके द्वारा प्रदत्त संप्रेरक की कमी से खून के कैल्शियम कैल्शियम बढ़ कर किडनी में जमा होने लगते हैं।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

केसर से होते हैं यह बेमिसाल फायदे
वेसिलिन (पेट्रोलियम जैली) के फायदे और नुकसान के बारे में जानिए।
दिल को बिमारियों से बचाए रखने के लिए याद रखे यह 8 जरूरी बातें।
मीठा खाने वाले लोग चीनी की जगह पर यह चीज़े खा सकते हैं।
बड़ी इलायची खाने के 12 बेमिसाल फायदे.
प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स और वसा की कितनी मात्रा लेनी चाहिए?
रोहू मछली खाने के फायदे जानिए।
इन कारणों से शरीर की एनर्जी जल्दी ख़त्म हो जाती हैं।
डकार कम करने या रोकने के उपयोगी घरेलु नुस्खे और उपाय।
होली को सुरक्षित ढंग से मनाने की टिप्स जानिए।
इस तरह से चावल को पका कर खाने से नहीं बढ़ता हैं वजन।
चेरी का जूस पीने से होते हैं कई फायदे, अनिद्रा भी होती हैं दूर।