तुलसी क्यों हैं चमत्कारी पौधा?

तुलसी हैं चमत्कारी पौधा

तुलसी के पौधे को न सिर्फ आयुर्वेद गुणवान मानता हैं, बल्कि एलोपैथी ने भी अब तुलसी के गुणों को स्वीकार किया है। साइंटिस्टों की माने तो तुलसी का सेवन करने से बॉडी की इम्युनिटी बूस्ट होती हैं। इससे डेंगू, सर्दी-जुकाम, मलेरिया, खांसी जैसी बिमारियों से बचने में आसानी होती हैं। तुलसी के इन्ही गुणों पर कई सालों तक रिसर्च करते हुए कानपुर के निवासी रामेश्वर कुशवाहा ने जड़ी-बूटियों और तुलसी के मिश्रण से पञ्च तुलसी अर्क (पंचामृत) को बनाया हैं। तुलसी के अर्क का सेवन करने से कई तरह की बीमारियाँ दूर हो जाती हैं।

कुशवाहा यह कहते हैं की 14 साल पहले उन्होंने तुलसी के पौधे के चमत्कारी नुस्खे आयुर्वेद की एक किताब में जब पढ़े, तो उन्हें इस पर अध्यन करने की जिज्ञासा जागृत हुई। इसके बाद उन्होंने तुलसी के पौधे पर अध्यन करना शुरू कर दिया। इस दौरान उन्होंने आसवन विधि से तुलसी अर्क को तैयार कर लिया। इस अर्क में विभिन्न प्रकार की बिमारियों के इलाज करने की शक्ति हैं, जिससे कई सारे मरीजों को फायदा मिल चूका हैं।

उन्होंने यह भी बताया की उन्हें एक समय तुलसी के पौधे लोगो में बांटने का शौक चढ़ गया। इस शौकिया मुहीम को पूरा करते करते उनका कारोबार काफी पीछे रह गया और 2 साल से अपना बिजनेस बेटे के सौंप कर लोगो को फ्री में अर्क वितरित कर रहे है।

तुलसी के इस विशेष अर्क में पञ्च अमृत यानि श्यामा, रमा, कपूरी, बरबरी और जंगली पांच तरह की तुलसियों के पत्तों के मिश्रण से निकाला गया अर्क हैं। इनकी पत्तियों को गर्म पानी के ड्रम में डालकर वाष्प के माध्यम से अर्क निकालकर आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का मिश्रण मिला कर अलग-अलग रोगों के उपचार हेतु चमत्कारी तुलसी का अर्क बनाया जाता हैं।

इस तुलसी के अर्क को लेने से एसिडिटी, उलटी, दस्त, सर्दी-जुकाम, ब्लड कोलेस्ट्रॉल, कफ, मोटापा, आँख का दर्द, ब्लड प्रेशर, दिल के रोग, मलेरिया, डेंगू, खांसी, दमा, दाद-खाज, नकसीर, पथरी, पेचिश, कोलाइटिस, फेफड़ों की सूजन, डायबिटीज, मूत्र से सम्बंधित बीमारियाँ, पायरिया आदि जैसी बिमारियों के इलाज में मदद मिलती हैं। परन्तु गर्भवती स्त्रियों को इसका सेवन बड़ी ही सावधानी और डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही करनी चाहिए।

तुलसी के अर्क को तैयार करने वाले कुशवाहा यह कहते हैं की तुलसी अर्क की 2-2 बूंदे सुबह और शाम नियमित रूप से सेवन करने से शरीर कई प्रकार की बिमारियों से बचा रहता हैं। इसके अलावा तुलसी के पत्त्तों से बनाई गयी चाय भी काफी ज्यादा फायदेमंद होती हैं।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...