दूध पीने के फायदे.

Doodh Peene ke fayde. Benefits of Milk In Hindi.

दूध हमेशा से ही हमारी डाइट का एक अहम हिस्सा रहा हैं. लेकिन जब बात फिटनेस की आती हैं तो इससे जुड़े कुछ स्वाल हमारे मन में उठते हैं. जैसे क्या दूध पीने से मोटे होते हैं या बज़ार में उपलब्ध तरह-तरह के दूध में से किसे अपनाना चाहिए. दूध पीने क्या फायदे हैं? Health Benefits of Drinking milk in Hindi.

दूध मोटापा बढ़ाता हैं ?

साइंटिस्ट के कई रिसर्च से यह साबित हो चुका हैं की कैल्शियम में हमारे बॉडी फैट को बर्न करने की क्षमता होती हैं. इसके अलावा इसमें मौज़ूद मिल्क प्रोटीन भी फैट बर्न करने में मदद करता हैं. इसका मतलब हैं की दूध पीने से वजन बढ़ता नही , कम होता हैं. हालांकि सही मात्रा का नियम यहा भी लागू होता हैं. यानी की ज़रूरत से ज़्यादा दूध नुकसानदेह हैं. 250मिली. व्होलमिल्क (मलाई युक्त दूध) में करीब 150 कैलोरी होती हैं. अगर आप पर्याप्त मात्रा में दूध लेना चाहते हैं तो आप स्किम्ड मिल्क (लो फैट मिल्क) अच्छा विकल्प साबित हो सकता हैं. क्योंकि इसमे होल मिल्क की तुलना में कम कैलोरी (120 कैलोरी) होती हैं.

दूध मसल्स बनाता हैं ?

अगर आप वर्काउट करते हैं और अपनी मसल्स को बढ़ाना चाह रहे हैं तो आपको दूध ज़रूर पीना चाहिए. दूध में मौजूद प्रोटीन में 20% वे (छाछ) और 80% casein होता हैं. यह दोनो हाई क्वालिटी प्रोटीन हैं. इनमे से ‘वे’ को फास्ट प्रोटीन के नाम से जाना जाता हैं , क्योंकि इसे खून जल्दी से अब्ज़र्व कर लेता हैं. वही casein धीरे-धीरे पचता हैं जिससे शरीर को लंबे समय तक थोड़ी-थोड़ी मात्रा में प्रोटीन मिलता रहता हैं. इन दो तरह के प्रोटीन्स के परफेक्ट कॉम्बिनेशन के कारण दूध मसल्स के लिए अच्छी ड्रिंक माना जा सकता हैं और रोजाना एक ग्लास दूध वर्काउट के फायदे को बढ़ा सकता हैं.

कितने प्रकार के दूध होते हैं ? How Many Types of Milk found?

बाज़ार में दूध के कई विकल्प मौज़ूद हैं. इसलिए अच्छी सेहत के लिए सबसे बढ़िया विकल्प कौन सा हैं?

1- गाय का दूध

गाय के दूध को ओमेगा-3 के विकल्प के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता हैं. इससे मोटापा नही बढ़ता हैं, लेकिन इसे हेल्दी डाइट के साथ लिया जाना चाहिए. यह प्रोटीन, विटामिन बी और पोटैशियम का अच्छा सोर्स हैं.

2- बकरी का दूध

पहाड़ी इलाक़ो में ज़्यादा इस्तेमाल होने वाले बकरी का दूध हड्डियो को कमजोर होने से रोकता हैं, साथ ही मेटाबॉलिज़म भी बढ़ाता हैं. कम फैट होने के कारण यह गाय के दूध से बेहतर माना जाता हैं.

3- सोया मिल्क

जिन्हे सामान्य दूध से एलर्जी की शिकायत हैं या जो दूध को नॉन-वेजिटेरियन की लिस्ट में रखते हैं, उनके लिए सोया मिल्क अच्छा विकल्प हैं. वही इसमें मौज़ूद ओमेगा-3 और 6 भी काफ़ी फायदेमंद हैं.

4- कोकनट मिल्क

दक्षिण भारत में बहुत मात्रा में इस्तेमाल होने वाला नारियल का दूध प्रोटीन का बहुत ही बढ़िया सोर्स हैं. यह वजन कम करने और पाचन तंत्र को मजबूत करने में मददगार हैं. इसी तरह बादाम दूध भी फायदेमंद होता हैं, जो लो फैट होता हैं.

5- कच्चा या pasteurized

कच्चे और pasteurized दूध में से किसे चुना जाए , यह प्रश्न हमेशा विवादो में रहा हैं. आर्गेनिक फुड के समर्थनकर्ता कच्चे दूध को प्राथमिकता देते हैं , क्योंकि उनका मानना हैं की कच्चे दूध में प्रोटीन, कारबोहाईड्रेट, फैट, विटमिन्स और मिनरल्स होते हैं जो की उबालने पर कम हो जाते हैं. हालांकि की वैज्ञानिकों का कहना हैं की कच्चे दूध में बैक्टीरिया भी होते हैं जो Pasteurized के बाद ख़त्म हो जाते हैं और दूध की न्यूट्रीशनल वैल्यू में कोई फ़र्क नही पड़ता हैं.


○ स्किम्ड मिल्क यानी की मलाई रहित दूध ही क्यों?

क्रीम युक्त दूध की तुलना में मलाई रहित दूध पीना सेहत के लिहाज से अधिक फायदेमंद माना जाता हैं. अमेरिका के एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट की माने तो स्कीम मिल्क पीने से कार्डियोवॅस्क्युलर बीमारियो का ख़तरा कम हो जाता हैं. मलाई रहित दूध में वसा की मात्रा कम होती हैं. यानी की यह कोलेस्टरॉल कम करने के लिए अच्छा आहार हैं. मलाई रहित दूध में फैट नही होता हैं, लेकिन बाकी सभी ज़रूरी पौष्टिक तत्व होते हैं.

आइए जानते हैं स्कीम मिल्क पीने के क्या फायदे होते हैं.

1. हड्डियो को मजबूत बनाए

उम्र बढ़ने के साथ हड्डियो का घनत्व कम होने लगता हैं. जिसे बरकरार रखने के लिए दूध का सेवन ज़रूरी हैं. मलाई रहित दूध में कैल्शियम, फॉस्फोरस और प्रोटीन के साथ विटामिन डी भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं, जो हड्डियो को मजबूत बनाता हैं.

2. हड्डियो की बीमारी से बचाव

बढ़ती उम्र के साथ हड्डियो की बीमारी होने का ख़तरा बढ़ जाता हैं , और 40 के उम्र के बाद ऑस्टियोपोरोसिस, गाउट, गठिया आदि होने की संभावना होती हैं. लेकिन आप रोज 1 ग्लास मलाई रहित दूध का सेवन करते हैं तो ऑस्टियोपोरोसिस की आशंका कम हो जाती हैं. इसमे पाया जाना वाला कैल्शियम और फॉस्फोरस दांतो के स्वास्थय के लिए भी फायदेमंद हैं. इसमें भरपूर मात्रा में पाया जाने वाला प्रोटीन कैसिइन दांतो के लिए बहुत ही उपयोगी हैं. क्योंकि यह दांतो के इनेमल पर पतली परत बना लेता हैं. जो दांतो और मसूडो को स्वस्थय रखने में सहायक होती हैं.

3- दिमाग़ के लिए फायदेमंद

दिमाग़ को स्वस्थय और तेज़ बनाए रखने के लिए स्किम्ड मिल्क का सेवन आप रोजाना करे. दिमाग़ को चुस्त-दुरुस्त बनाने के लिए रोजाना 1 ग्लास दूध का सेवन फायदेमंद होता हैं. ऐसा करने से आपकी दिमाग़ की क्षमता तेज़ होगी. यह कई रिसर्च से साबित हो चुका हैं की दूध में ना केवल पौष्टिक तत्व होते हैं , बल्कि इससे बुद्धि पर पॉज़िटिव असर पड़ता हैं और मानसिक क्षमता बढ़ती हैं.

4- तनाव से बचाए.

वर्तमान अनियमित दिनचर्या और अस्वस्थय ख़ानपान के साथ काम की अधिकता के कारण तनाव आना लाजमी हैं. इससे बचने के लिए स्कीम मिल्क का सेवन कीजिए. रात में सोने से पहले 1 ग्लास गुनगुना दूध पीने से मांसपेशियो और नसों को आराम मिलता हैं और नींद अच्छी आती हैं. इससे टेंशन दूर होता हैं.

5- त्वचा निखारे

स्किम्ड मिल्क के सेवन से स्किन में प्राकृतिक रूप से निखार आता हैं. दरअसल स्कीम मिल्क में कैल्शियम, प्रोटीन और चिकनाई होती हैं , जिससे त्वचा पर कसाव आता हैं और झुर्रिया कम होती हैं. दूध में पाया जाने वाला Lactic Acid exfoliate और एन्ज़ाइम की तरह काम करता हैं, जो स्किन को कोमल बनाता हैं. इसमे अमीनो एसिड होता हैं , जो चेहरे को नमी प्रदान करता हैं.

6- वजन कम करता हैं

सामान्य दूध में फैट अधिक होता हैं. इसके सेवन से कोलेस्टरॉल की मात्रा बढ़ती हैं. परिणाम स्वरूप वजन भी बढ़ता हैं. जबकि स्किम्ड मिल्क में फैट ना के बराबर होता हैं और सभी पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं. ऐसे में वजन कम करने के लिए इसका सेवन करना फायदेमंद हैं. इसके अलावा कैंसर से बचाव, दिल की बीमारियो से बचाव, आँखों की रोशिनी बढ़ाने के लिए दूध का सेवन कीजिए.



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...