यूकेलिप्टस ऑयल (निलगिरी के तेल) के फायदे, खास करके बालों और फेफड़ों के लिए।

निलगिरी के तेल के फायदे

यूकेलिप्टस ऑयल यानी निलगिरी का तेल औषधीय गुणों से भरा हुआ हैं। आप सभी ने निलगिरी के पेड़ों को देखा ही हैं। यह सफ़ेद रंग के काफी विशाल होते हैं। इसके पत्ते काफी ज्यादा सुगन्धित होते हैं। यूकेलिप्टस तेल के कई सारे फायदे हैं, खास करके यह स्किन, बालों और फेफड़ो के लिये लाभदायक है। यूकेलिप्टस ऑयल के प्रयोग से फेफड़ो को स्वस्थ्य रखा जा सकता है।

प्राचीन काल से निलगिरी का तेल अपने औषधीय गुणों के कारण जाना जाता हैं। वैसे तो यह तेल एरोमेटिक नहीं होता हैं, लेकिन फिर भी इसमें से अन्य सुंगंधित तेलों की भाँती ही महक आती है। यह एंटी-इन्फ्लेमेंट्री, एंटी-सेप्टिक, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-स्पाज्मोडिक प्रॉपर्टीज से भरा हुआ हैं, जिसके कारण यह और भी ज्यादा फायदेमंद तेल बन जाता हैं।

फेफड़ो को हेल्दी रखने के लिए निलगिरी के तेल के प्रयोग करने का तरीका :-

एयर पोल्यूशन की वजह से फेफड़ों को ज्यादा नुकसान हो रहा हैं। लेकिन फेफड़ो को तंदरुस्त रखने के लिए यूकेलिप्टस का तेल आपकी मदद कर सकता हैं। आइये जानते हैं फेफड़ो को हेल्दी रखने के लिए निलगिरी के तेल का कैसे इस्तेमाल करना चाहिए?

सबसे पहले एक कटोरे में गर्म पानी ले। फिर इस गर्म पानी में निलगिरी के तेल की 4 से 5 बूंदे मिलाये। फिर हफ्ते में 2 से 3 बार इस गर्म पानी का भाप ले। इस उपाय को अजमाने से फेफड़ो की गंदगी साफ़ हो जाती हैं और म्यूक्स बाहर निकल जाते हैं। जिसके कारण फेफड़े अच्छी तरह से काम करने लगते है। निलगिरी के तेल को गर्म पानी में डाल कर भाप लेने से ब्रोंकाइटिस, सर्दी-जुकाम, फ्लू के अलावा साँस से रिलेटेड समस्याओं से भी राहत पाने में मदद मिलती हैं।

बालों के लिए निलगिरी के तेल के फायदे :-

यूकेलिप्टस ऑयल का इस्तेमाल बालों की ग्रोथ बढ़ाने और उन्हें मोटा करने के लिए भी किया जाता हैं। यह डैंड्रफ से भी निजात दिलाता हैं। कई सारे हेयर पैक्स को बनाने के लिए निलगिरी का तेल मिक्स किया जाता हैं। अगर बालों के झड़ने की समस्या हैं या फिर बाल बहुत ज्यादा पतले हो गये हैं तो बालों में यूकेलिप्टस ऑयल लगा कर मालिश करे। आइये जानते हैं बालों के लिए निलगिरी का तेल कैसे फायदेमंद होता हैं।

■ निलगिरी का तेल और बादाम का तेल

अगर बालों के गिरने की समस्या ज्यादा बढ़ गयी हैं तो बादाम के तेल में निलगिरी का तेल मिला कर गर्म करके बालों में लगाना चाहिए। इस तेल को लगाने से बाल जड़ से मजबूत बनते हैं, साथ ही इससे बाल मुलायम भी हो जाते हैं।

■ यूकेलिप्टस ऑयल और गुड़हल का फूल

गुड़हल के फूलों को पानी में उबाल कर छान कर पेस्ट बनाये। इस पेस्ट में यूकेलिप्टस ऑयल मिक्स करे। इस पेस्ट को करीब 30 मिनट तक बालों में लगाए, फिर उबले हुए गुड़हल के फूलों के पानी से बालों को धोये। फिर बालों को किसी अच्छे माइल्ड शैम्पू से धो कर साफ करले। इससे बालों की ग्रोथ बढ़ने लगती हैं और बालों का झड़ना भी बंद हो जाता हैं।

■ निलगिरी के तेल से बालों की मालिश करना

बालों को बढ़ाने के लिए और सिर की सफाई के लिए गर्म निलगिरी के तेल को रात के समय सिर में लगा कर मालिश करे। फिर अगले दिन शैम्पू से धो कर बालों को साफ़ करे। इससे बाल काफी ज्यादा सॉफ्ट हो जाते हैं।

जरूर पढ़े :- रूखे बालों को सिल्की और शाइनी बनाने के घरेलु नुस्खे और उपाय।

■ निलगिरी का तेल और मेहँदी का तेल

आप चाहे तो मेहँदी का तेल, यूकेलिप्टस ऑयल और कैस्टर ऑयल को एक साथ मिक्स करके गर्म करने के बाद बालों में लगाए। फिर बालों को गर्म टॉवल से लपेट ले। लगभग आधे घंटे तक बालों को ढक कर रखे, फिर उसके बाद बालों को शैम्पू से धो ले।

■ निम्बू और निलगिरी का तेल

निलगिरी के तेल को गुनगुना करके उसमे नींबू का रस मिक्स करे। फिर इस तेल से सिर की त्वचा की मालिश करे। इस तेल से तकरीबन 10 से 15 मिनट तक मसाज करे। इससे सिर की स्किन में ब्लड सर्कुलेशन तेज़ होता हैं। जिससे सिर की अच्छी तरह से सफाई भी हो जाती हैं। इससे नए बाल उगने लगते हैं और गंजेपन की समस्या से निजात मिलती है।

निलगिरी के तेल से सेहत को होने वाले अन्य लाभ :-

1) यह स्किन के लिए नेचुरल एलिमेंट की भाँती काम करता है। इसके प्रयोग से स्किन इन्फेक्शन को दूर करने में आसानी होती हैं।

2) यूकेलिप्टस ऑयल डायबिटीज, टी.बी. और बुखार जैसी बीमारियों को भी दूर कर सकता है। इसमें ऐसे गुण पाए जाते हैं जो सांस से सम्बंधित बिमारियों से छुटकारा दिलाते हैं। अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, खांसी और सर्दी से यह यह तेल आराम दिलाता हैं।

3) अगर मेंटली आप काफी ज्यादा थकान महसूस कर रहे हैं। या फिर आप टेंशन से गुजर रहे हैं और बहुत ज्यादा चिंता करते हैं तो यूकेलिप्टस के तेल से सिर की मालिश करे। इसकी खुशबू से आप काफी ज्यादा रिलैक्स महसूस करते है।

जरूर पढ़े :- ऐसी मनमोहक खुशबू, जिससे आप हमेशा रहते हैं स्वस्थ्य।

4) अगर दांतों में प्लेक्स, कैविटी या अन्य किसी भी तरह का इन्फेक्शन हो गया हैं तो यूकेलिप्टस ऑयल इन्हें आसानी के साथ खत्म कर सकता हैं। इसमें germicidal गुण पाए जाते हैं जो की आपके टूथपेस्ट और माउथफ्रेशनर में मौजूद होते हैं।

5) यह तेल एंटीसेप्टिक गुणों से भरा हुआ हैं। इसलिए इसे आप कटे, जले और घाव आदि को ठीक करने के लिए लगा सकते हैं। यह स्किन में इन्फेक्शन को होने से रोकता हैं।

6) अगर मांसपेशियों में दर्द हो रहा हैं तो इस तेल से मालिश करने पर मांसपेशियों में होने वाले दर्द से राहत मिलती हैं।

जरूर पढ़े :- मसल्स के दर्द को दूर करने के आसान घरेलु नुस्खे, उपाय और तरीके।

7) निलगिरी का तेल आंतो में मौजूद बैक्टीरिया को नष्ट करता हैं। इसके अलावा यह स्किन के लिए भी काफी ज्यादा लाभकारी हैं।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

डायबिटीज को रोकने के तरीके क्या हैं?
मेथी के दाने के फायदे जरूर जानिए.
अमरुद की पत्तियों के घरेलु नुस्खे और फायदे.
लो ब्लड प्रेशर को दूर करने वाले 13 उपयोगी घरेलु नुस्खे, उपाय और टिप्स.
महिलाओं का वज़न कम करने वाले बेस्ट फूड।
डिप्रेशन दूर करने में मदद करते हैं यह फूड।
उबला अंडा खाना चाहिए या फिर अंडे को फ्राई करके खाना अच्छा रहेगा?
इन घरेलु उपायों को अजमाने से घर में ही हो जाती हैं स्किन की देखभाल।
इन गलत आदतों की वजह से मेटाबोलिज्म रेट हो जाता हैं धीमा...
जानिए विदेशी लोग वजन घटाने के कौन से तरीके अपनाते हैं।
सर्दियों के मौसम में इन मसालों का सेवन जरूर करे।
सर्दी-जुकाम दूर करने के लिए अजवाइन का ऐसे करे इस्तेमाल।