ब्रेड खाने के नुकसान के बारे में जानते हैं आप?

bread khane ke nuksan. Side-effects of White bread in Hindi.

ब्रेड खाने के कई नुकसान होते हैं. Side-effects of Bread in Hindi. ब्रेड या डबल रोटी ना केवल आज से बल्कि कई सालो से दुनिया भर में खाई जाती हैं. जहा देखो घर में ब्रेकफास्ट के रूप में या फिर पिज़्ज़ा के बेस या फिर बर्गर में ही ब्रेड ही खाई जाती हैं और लोग तो इसे बड़े ही चाव के साथ खाते हैं. अगर सुबह ब्रेकफास्ट करने का टाइम नही हैं तो फ्रीज़ में से ब्रेड निकाली उसपर बटर या जैम लगाया और खा गये. ब्रेड चाहे जिस रूप में खाई जाए वह कंही ना कंही आपके दिल और दिमाग़ को नुकसान पहुचाती हैं.

चाहे ब्रेड किसी भी रंग, रूप या साइज़ में हो, यह आपके सेहत के लिए हानिकारक हैं. ना ही इसमे कोई प्रोटीन और विटामिन होता हैं और ना ही फाइबर. वाइट ब्रेड, ब्राउन ब्रेड से ज़्यादा घातक होती हैं. वाइट ब्रेड में काफ़ी मात्रा में कारबोहाईड्रेट, सोडियम और ग्लूटेन मिला होता हैं, जो कई बीमारिया पैदा करता हैं. अगर आपको ज़्यादा भूख लगे या फिर ब्रेड खाने का ज़्यादा मन करे तो कोशिश करे की आप ब्राउन ब्रेड को ही खाए, वरना आपको किसी भी तरह की कोई ब्रेड नही खानी चाहिए. आइए जानते हैं ब्रेड खाने के नुकसान के बारे में :-

नही होता हैं कोई पोषण

चाहे ब्रेड किसी भी रंग, रूप या आकार में हो, यह आपके हेल्थ के लिए नुक़सानदायक हैं. ना ही इसमे कोई प्रोटीन होता हैं और ना ही इसमे फाइबर या विटामिन पाए जाते हैं. हा सफेद ब्रेड की जगह आप ब्राउन ब्रेड खा सकते हैं.

हाई सोडियम तत्व की मात्रा अधिक

ब्रेड में हाई लेवल का सोडियम होता हैं जो ब्लड प्रेशर और हार्ट अटैक की बीमारी को बढ़ाता हैं. अगर आप सिंगल हैं और ब्रेड खा कर जिंदा हैं तो आपको नही पता होगा की आपके बॉडी में कितना सॉल्ट जमा हो चुका हैं.

मोटापा बढ़ाए

भले ही ब्रेड से थोड़ी ही कैलोरी मिलती हो, लेकिन इसे सुबह लेने से शरीर में बहुत ज़्यादा कैलोरी बढ़ जाती हैं. इसे केक या बर्गर के रूप में लेने से इसमे मौज़ूद एक्सट्रा सॉल्ट और शुगर वेट बढ़ाने में मदद करते हैं.

नही मिटती भूख

कई लोगो को जब भूख लगती हैं तो वह ब्राउन ब्रेड की जगह वाइट ब्रेड खाना पसंद करते हैं क्योंकि वह ज़्यादा मीठी होती हैं. लेकिन यह ब्रेड पेट भरने में बिल्कुल भी कारगर नही हैं. इसमे कार्ब कंटेंट ज़्यादा होता हैं और यह पेट भी नही भरता हैं.

ग्लूटेन का मामला

ब्रेड में बहुत ज़्यादा ग्लूटेन यानी की लिसलिसा पदार्थ होता हैं जो की Siliek रोग को आमंत्रित करता हैं. ब्रेड खाने से कई लोगो के पेट खराब हो जाते हैं यह ग्लूटेन के कारण होता हैं. हर किसी को ऐसी प्राब्लम नही होती हैं लेकिन इसका एक Side-effect यह भी हैं.

कारबोहाईड्रेट की ज़्यादा मात्रा

ब्रेड के कई आइटम्स में कारबोहाईड्रेट मिला होता हैं. शरीर के लिए थोड़ा कारबोहाईड्रेट फायदेमंद होता हैं लेकिन इसकी ज़्यादा मात्रा नुक़सानदायक होती हैं. ज़्यादा रिफाइंड कारबोहाईड्रेट खाने से ब्लड शुगर हाई और लो होने लगता हैं जिससे मधुमेह, हार्ट अटैक और ब्रेन डैमेज तक हो सकता हैं.

पिंपल की प्राब्लम

वाइट ब्रेड में सैचुरेटेड और ट्रांस फैट होता हैं. जो की शरीर में सीबम का अधिक मात्रा में उत्पादन करता हैं , जिससे मुहांसे होने की संभावना रहती हैं.

दाँत में सड़न करे

इसमे हाई लेवल की मात्रा में स्टार्च होता हैं जो दांतो में सड़न पैदा करता हैं.







अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *