भुट्टा (मक्की/मकई) खाने के फायदे।

भुट्टा (मक्की/मकई) खाने के फायदे। Benefits of Sweet Corn in Hindi.

भुट्टा जिसे मक्की या मकई भी कहा जाता हैं, इसे खाने के बहुत ही अधिक फायदे हैं। भुट्टे को मक्का, छल्ली और Sweet Corn के नाम से भी जाना जाता हैं। भुट्टा अपने मीठे स्वाद के चलते यह न सिर्फ बच्चों को पसंद आता हैं, बल्कि इसे बड़े भी बहुत चाव के साथ खाते हैं। इसे उबालकर, भूनकर, पका कर किसी भी तरह से आप खा सकते हैं, इससे सेहत को ढेर सारे लाभ होते हैं।

बाज़ार में आपको स्वीट कॉर्न आसानी से मिल जायेगा। इसकी आप सब्जी भी बना सकते हैं। मक्की में फाइबर, पोटैशियम, कार्बोहाइड्रेट्स और मिनरल्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। भुट्टा सेहत के लिए हर तरीके से लाभकारी होता हैं। आइये जानते हैं की भुट्टा (मक्की, मक्का, मकई, स्वीट कॉर्न) खाने के फायदे क्या हैं? Health Benefits of Sweet Corn in Hindi.

भुट्टा खाने के फायदे :-

बॉडी की इम्युनिटी पॉवर बढ़ाए

प्रोटीन दूसरा ऐसा न्यूट्रीएंट हैं, जिसकी शरीर को सबसे अधिक आवश्यकता होती हैं। इसका काम बॉडी सेल्स को बाहरी टूट-फूट से बचाना, मसल्स बनाना और बॉडी की इम्युनिटी को बढ़ाना होता हैं। मक्के में प्रोटीन प्रचुर मात्रा में पाया जाता हैं। पुरुषो को रोजाना 56 ग्राम और महिलाओं को रोजाना 46 ग्राम प्रोटीन की जरूरत होती हैं। जिसे सिर्फ आप एक कप स्वीट कॉर्न को खा कर प्राप्त कर सकते हैं।

आँखों की रोशिनी बढ़ाता हैं

मकई में zeaxanthin नाम के एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। जिसके कारण इसका रंग पीला होता हैं। इससे उम्र बढ़ने के साथ आँखों में होने वाली समस्याओं जैसे की मोतियाबिंद, आँखों का सूखापन, आँखों से पानी निकलना आदि से छुटकारा मिलता हैं। भुट्टे के सेवन से आँखों की रोशिनी भी तेज़ होती हैं

जवां बनाये रखे

मक्की में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट स्किन को लम्बे समय तक जवां बनाये रखते हैं। इसमें ऐसे गुण पाए जाते हैं जो त्वचा के कसाव को बनाये रखते हैं। अपनी डाइट में स्वीट कॉर्न को शामिल करने से असमय होने वाले बुढ़ापे को रोका जा सकता हैं। मक्की को खाने के अलावा इसका तेल भी बहुत फायदेमंद होता हैं। आप इससे निकलने वाले तेल को भी लगा सकते हैं। इसके तेल में लिनोलिक एसिड पाया जाता हैं जो त्वचा को जवां बनाये रखता हैं। इसके अतरिक्त rashes और खुजली के इलाज के लिए भी कॉर्न स्टार्च का इस्तेमाल किया जा सकता हैं, इससे स्किन बहुत ज्यादा सॉफ्ट बन जाती हैं।

यह भी पढ़े :- हमेशा जवां बने रहने के लिए जरूर खानी चाहिए यह चीज़े।

याददाश्त तेज़ बनाये

मकई में Thiamine प्रचुर मात्रा में पाया जाता हैं और उसमे उपस्तिथ न्यूट्रीएंट्स दिमाग के लिए बहुत ही जरूरी होते हैं। इसके अलावा भुट्टे के सेवन से याददाश्त भी अच्छी हो जाती हैं। मक्के को खा कर आप अल्जाइमर जैसी भूलने की बीमारी से भी बचे रहते हैं।

दिल के लिए फायदेमंद

मकई दिल के रोगों को ख़त्म करने में भी मददगार होता हैं। क्योंकि इसमें विटामिन सी, कैरोटीनोइड और Bioflavonoid पाए जाते हैं। यह कोलेस्ट्रॉल लेवल को बढ़ने नहीं देते हैं और शरीर में खून का प्रवाह भी बढ़ता हैं।

गुर्दे के लिए फायदेमंद

ताज़े भुट्टो को पानी में उबालिए, फिर आप उस पानी को छान कर उसमे मिश्री मिलाईये। इस पानी को पीने से पेशाब की जलन, गुर्दे की कमजोरी आदि को दूर किया जा सकता हैं।

मोटापा कम करे

भुट्टे को थोड़ी सी मात्रा में खाने से ही पेट भर जाता हैं। साथ ही इससे पुरे दिन के लिए जरूरी पोषण भी प्राप्त हो जाते हैं। जिससे आपको बार-बार भूख नहीं लगती हैं। इसलिए यह वज़न को कम करने में आपकी सहायता कर सकता हैं। इसका सूप बना कर पीना भी काफी फायदेमंद होता हैं।

एनर्जी देता हैं

एक व्यस्क को अपने दिन भर की एनर्जी के लिए 130 ग्राम कार्बोहायड्रेट की जरूरत पड़ती हैं। एक कप पके हुए स्वीट कॉर्न में 31 ग्राम कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा पाई जाती हैं। जो शारीरिक और मानसिक दोनों की एनर्जी के लिए जरूरी हैं। तुरंत एनर्जी प्राप्त करने के लिए आप भुट्टे को कभी भी खा सकते हैं।

कैंसर से बचाए

स्वीट कॉर्न में Beta Cryptoxanthin पाया जाता हैं जो काफी हद तक बीटा-कैरोटीन से मिलता जुलता हैं। इसे शरीर विटामिन ए में अपने आप बदल लेती हैं। Beta Cryptoxanthin का फेफड़ो के कैंसर से उल्टा ही सम्बन्ध होता हैं। यानि की मतलब साफ़ हैं की शरीर में Beta Cryptoxanthin की सही मात्रा होने पर फेफड़ो का कैंसर आपसे कोसो दूर रहता हैं।

हड्डियाँ मजबूत बनाये

मक्की में पोटैशियम की उचित मात्रा पाई जाती हैं जो हार्ट फंक्शन, मसल्स पर पड़ने वाले प्रेशर और ऐंठन को कम करके हड्डियों को मजबूत बनाता हैं। एक कप स्वीट कॉर्न में 325 Mg पोटैशियम की मात्रा पाई जाती हैं। इसे आलू, बीन्स और पालक के साथ मिला कर खाने से इसके फायदे दुगने हो जाते हैं। भुट्टे के पीले दानों में ढेर सारा आयरन, कॉपर, फॉस्फोरस और मैग्नीशियम पाया जाता हैं। जिससे हड्डियों में मजबूती आती हैं। इस पोषक तत्वों के कारण बुढापे के दौरान भी हड्डियों के टूटने की सम्भावना काफी कम हो जाती हैं। इससे किडनी भी सही तरीके से काम करती हैं।

एनीमिया में फायदेमंद

आयरन की कमी के कारण एनीमिया की समस्या हो जाती हैं। इसे दूर करने के लिए भुट्टा बहुत ही ज्यादा फायदेमंद साबित होता हैं। क्योंकि भुट्टे में विटामिन बी और फोलिक एसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं जो एनीमिया से आपको छुटकारा दिलाता हैं।

बच्चों को चलने में मदद करे

ताज़े दूधिये (सफ़ेद) भुट्टों के दाने को पीसकर खुली शीशी में भरकर धूप रखे। जिससे यह दूध जैसा बन जायेगा। इसे धूप में रखने से दूध सूख कर उड़ जायेगा और शीशी में सिर्फ तेल ही रह जायेगा। आप इसे छान कर तेल को दूसरी शीशी में भर ले और इससे छोटे बच्चों की मालिश करे। कमजोर बच्चों की पैरों पर मालिश करने से बच्चा जल्दी से चलने लगता हैं।

Cardiovascular के लिए लाभकारी

स्वीट कॉर्न को फोलेट का बहुत ही बढ़िया स्रोत माना जाता हैं। जिसे विटामिन बी9 के नाम से भी जाना जाता हैं। इसकी सही मात्रा शरीर में Homocysteine Level को बैलेंस करने का काम करती हैं। जो ब्लड वेसल्स को क्षति पहुचाती हैं जिससे आपको हार्ट अटैक होने का खतरा काफी कम हो जाता हैं। रोजाना फोलेट की सही मात्रा लेकर 10% तक हार्ट अटैक के खतरे को कम किया जा सकता हैं।

पाचन क्रिया सही रखता हैं

पाचन क्रिया को बेहतर बनाने के लिए खाने में फाइबर का होना बहुत ही जरूरी माना जाता हैं। मक्का में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं। यह सिर्फ पाचन के लिए ही नहीं, बल्कि ब्लड शुगर लेवल को भी कण्ट्रोल करता हैं। इससे कब्ज़ की समस्या से भी राहत मिलती हैं, साथ ही कोलेस्ट्रॉल की बढती मात्रा को भी कण्ट्रोल में रखा जा सकता हैं। यह फाइबर से भरा हुआ हैं, इसलिए इसे खाने से पेट का पाचन सही बना रहता हैं। इससे कब्ज़, बवासीर और पेट में कैंसर होने का खतरा काफी कम हो जाता हैं।

गर्भावस्था में लाभकारी

इसे गर्भावस्था के दिनों में खाना बहुत ही ज्यादा लाभकारी माना जाता हैं। इसलिए गर्भवती महिलाओं को अपने आहार में मक्की को जरूर शामिल करना चाहिए। इसमें फोलिक एसिड पाया जाता हैं। फोलिक एसिड की कमी के कारण होने वाला बच्चे का वज़न काफी कम हो सकता हैं और उसे और भी कई दूसरी बीमारियाँ अपना शिकार बना सकती हैं। इसलिए प्रेगनेंसी के समय शरीर में फोलिक एसिड की कमी नहीं होने देना चाहिए।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

तिलक लगाने के फायदे, इसके प्रकार और इसे लगाने के तरीके जानिए।
आम पन्ना बनाने की विधि
छाछ (लस्सी) पीने के फायदे जानिए..
हींग खाने के फायदे, उपाय और घरेलु नुस्खे जानिए।
डायबिटीज के बारे में पूरी जानकारी।
इन हरी सब्जियों और फलों का जूस जरूर पीजिये, क्योंकि इनसे होते हैं गजब के फायदे।
सर्दियों के मौसम में मेटाबोलिज्म बढ़ाने के लिए जरूर खाए यह 5 चीज़े।
जानिए डिस्पोजल गिलास में गर्म पेय या चाय क्यों नहीं पीना चाहिए?
दूध से होने वाली एलर्जी को दूर करने घरेलु उपाय और नुस्खे।
डायबिटीज को कण्ट्रोल करने के उपयोगी टिप्स जानिए।
लाल रंग की फल और सब्जियां खाने से सेहत को होते हैं ढेर सारे फायदे।
यूकेलिप्टस ऑयल (निलगिरी के तेल) के फायदे, खास करके बालों और फेफड़ों के लिए।