मछली पकाते समय न करे यह गलतियां।

मछली पकाते समय न करे यह गलतियां।

क्या आपको भी मछली खाना बहुत अच्छा लगता हैं? क्या मछली को खाने के साथ उसे पकाते भी हैं? अगर इसका जवाब हाँ हैं तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसी गलतियाँ जिन्हें आपको मछली पकाते समय नहीं करनी चाहिए।

मछली सेहत के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होती हैं। लेकिन मछली को पकाने का एक सही तरीका होता हैं। अगर मछली पकाते वक़्त सही तरीके न अजमाए जाये तो इसे खाने से सेहत को कोई लाभ नहीं मिल पाते हैं। फिश से पूरा पोषण प्राप्त करने के लिए आपको इसे पकाते वक़्त निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना होगा।

यह बात तो सही हैं की कुकिंग करने के लिए किसी डिग्री की जरूरत नहीं हैं, लेकिन मछली पकाने के लिए कुछ बातों और टिप्स को जरूर फॉलो करना चाहिए। तो चलिए जानते हैं मछली पकाते समय कौन सी गलतियाँ नहीं करनी चाहिए? इसे पकाने का सही तरीका क्या हैं?

मछली पकाते समय न करे यह गलतियां :-

ताज़ी मछलियों को पकाए

कई बार हम मछलियों को खरीद कर जब घर लाते हैं तो उसे फ्रीज़ में रख देते हैं। इस मछली को हम एक हफ्ते बाद पकाते हैं, जिससे इसे स्वाद में काफी बदलाव आ जाता हैं। इसलिए मछलियों को जब भी बाज़ार से खरीद कर लाये, इसे तुरंत ही बना ले। इससे आपको काफी ढेर सारा पोषण मिलेगा। इसी प्रकार ताज़ी और जिन्दी मछलियों का सेवन करना चाहिए। बासी मछलियाँ सेहत के लिए नुकसानदायक होती हैं। ताज़े पानी वाली मछलियाँ दिल और दिमाग के लिए बहुत ही अच्छी मानी जाती हैं। कभी भी सड़ी-गली मछली को नहीं पकाना चाहिए, वर्ना आपको पेट में इन्फेक्शन हो सकता हैं।

पकाने से पहले मछलियों को अच्छे से साफ़ करे

कई लोग ऐसे हैं जो मछलियों को पकाने से पहले उसे सिर्फ 1 बार पानी से धो लेते हैं। लेकिन मछली के टुकड़ो को आप पानी में 3 से 4 बार धोये, पानी में आप हल्दी और नमक भी मिला ले। उससे मछली को अच्छी तरह से मल कर धोये। क्योंकि नमक और हल्दी में एंटीबैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं जो मछली के अन्दर बैक्टीरिया को ख़त्म करके उसके अन्दर की गंदगी को दूर करता हैं। इसके अलावा एक तरीका यह भी हैं की जब आप मछली को धोने जा रहे हैं तो उसके ऊपर आटा डाल ले और उसे आटे से अच्छी तरह मल कर पानी से धोये। आटा मलकर मछली को धोने से मछली से आने वाली बदबू ख़त्म हो जाती हैं।

निम्बू का रस मिलाये

मछली में मरकरी जैसे ज़हरीले केमिकल पाए जाते हैं। विशेष करके समुन्द्र में पाए जाने वाली मछलियों में यह खतरनाक रसायन ज्यादा होता हैं। अगर आप मछली को पकाते समय इसमें निम्बू की कुछ बूंदे मिला दे तो मरकरी के असर को कुछ हद तक कम किया जा सकता हैं।

ज्यादा न तले

मछली से सही पोषण प्राप्त करने के लिए इसे ज्यादा नहीं तलना चाहिए। इसके अलावा इसे ज्यादा नमक के साथ भी नहीं खाना चाहिए। बेक की हुई आर्सेनिक से भरी दूषित मछली, आपको कई सारे स्वास्थ्य समस्याएं दे सकती हैं, तो दूसरी ओर फ्राई की हुई मछली से आपको लीवर कैंसर हो सकता हैं। इसलिए मछली को ज्यादा तलने से बचना चाहिए।

कम तेल में पकाए

मछली को कभी भी कच्चा नहीं खाना चाहिए, यह सेहत के लिए नुकसानदायक होता हैं। इसे बहुत पकाने के लिए बहुत कम पानी की भाप का इस्तेमाल करे। इसे पकाने के लिए ज्यादा तेल और मसालों का इस्तेमाल न करे। अगर आप इसे ज्यादा पानी में पका रहे हैं तो उस पानी को सूप की तरह इस्तेमाल करे।

माइक्रोवेव में पकाए

जैसा की पहले ही बताया जा चूका हैं की फिश को ज्यादा तेल में तलने से उसके न्यूट्रीशन नष्ट हो जाते हैं। मछली को हेल्दी और लाभकारी बनाने के लिए यह जरूरी हैं की आप उसे माइक्रोवेव में पकाए। इससे कई सारे लाभ होंगे। सबसे पहला फायदा यह होगा की यह कम समय में पक जाएगी, इससे मछली ज्यादा सूखती भी नहीं हैं। और इसे बनाना भी काफी आसान हैं।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

बेल (बिल्व) का रस (जूस/शरबत) पीने के फायदे जानिए।
कच्ची हल्दी के होते यह फायदे.
दांतों को सफेद बनाने से पहले याद रखे यह बातें।
करी पत्ता (मीठी नीम) के फायदे.
टोफू (सोया पनीर) खाने के फायदे.
अगर आप चाइनीज़ फूड के दीवाने हैं तो आपको सावधान हो जाने की जरूरत हैं।
धुम्रपान (Smoking) करने के 17 नुकसान जानने के बाद आप सिगरेट पीना छोड़ देंगे।
रामदाना यानि राजगिरा खाने के फायदे जानिए
बैंगन के पानी का चमत्कारी घरेलु नुस्खा, जो जमी हुई चर्बी और कोलेस्ट्रॉल को कर देगा गायब।
यह फूल देखने में सुंदर होने के साथ सेहत के लिए भी लाभकारी हैं।
लकवे के उपचार में मददगार हैं यह उपयोगी घरेलु नुस्खे और उपाय।
क्या बेकिंग सोडा और बेकिंग पाउडर एक ही चीज़ हैं?