महीनो के नाम कैसे पड़े?

Mahino ke naam kaise pade. rochak jankari about months in Hindi.

क्या आपको बता हैं की अंग्रेजी महीनो के नाम कैसे पड़े? यानी की महीनो का नामकरण कैसे हुआ? वैसे तो छोटा सा बच्चा भी साल भर के महीनो का नाम आसानी के साथ बता सकता हैं। लेकिन बहुत कम लोग ही महीनो के नामकरण के बारे में जानते हैं। बहुत ही कम लोगो को पता हैं की आखिर महीनो के नाम के पीछे क्या हकीकत छुपी हैं और इसका क्या मतलब होता हैं, यानी की हर महिना अपने आपमें कुछ सन्देश देता हैं।

महीने के नाम ऐसे पड़े :-

1. जनवरी :- जनवरी महीने का नाम रोमन देवता ‘जेनस’ के नाम पर रखा गया। यह साल का पहला महिना हैं। मान्यता हैं की जेनस देवता के दो चेहरे हैं, एक चेहरा आगे की ओर देखता हैं तो दूसरा चेहरा पीछे की ओर देखता हैं। इसी प्रकार जनवरी के भी दो चेहरे हैं, जो एक तो बीते हुए साल को देखता हैं और दुसरा अगले साल को। जेनस को लैटिन भाषा में जैनअरिस कहा जाता हैं। जेनस के बाद जेनुअरी बना जो हिंदी भाषा में आकर जनवरी बन गया।

2. फरवरी :- इस महीने का ताल्लुक लैटिन के फेबरा से हैं। जिसका मतलब हैं “शुद्धि की दावत” । पहले लोग इस महीने की 15 तारीख को शुद्धि की दावत देते थे। कुछ लोगो का यह मानना हैं की फरवरी का संबंध रोम की देवी फेबरुएरिया से हैं। जो संतान देने वाली देवी हैं, इसलिए इस महीने में स्त्रियाँ इस देवी की पूजा करती हैं, ताकि देवी प्रसन्न हो कर उन्हें सन्तान होने का वरदान दे सके।

3. मार्च :- मार्च महीने का नाम रोमन देवता मार्स के नाम से पड़ा हैं। रोमन कैलंडर की शुरुवात इसी महीने से होती हैं। मार्स मार्टिअस का अपभ्रंश है जो आगे बढ़ते रहने की प्रेणना देता हैं। सर्दियों के ख़त्म होने के बाद लोग अपने दुश्मनों पर हमला करते थे। इसलिए इस महीने को मार्च के नाम से बुलाया जाने लगा।

4. अप्रैल :- इस महीने का नामकरण लैटिन शब्द ‘एस्पेरायर’ से हुआ हैं। जिसका मतलब खुलना होता हैं। रोम में इसी महीने में कलियाँ खिलकर फूल बनने लगती हैं। यानी की बसंत ऋतू का आगमन होता हैं, इसलिए शुरुवात में इस महीने को एप्रिलिस पुकारा गया। लेकिन वर्ष के दस महीने होने के कारण यह बसंत से काफी दूर होता चला गया। साइंटिस्टों ने पृथ्वी का सही भ्रमण की जानकारी दुनिया के सामने पेश की, तब साल में 2 महीने और जोड़ दिए गये और फिर से एप्रीलिस को पुनः सार्थक कर दिया गया।

5. मई :- मई महीने का नाम रोमन देवता मरकरी की माता मइया के नाम पर रखा गया हैं। मई का मतलब हैं बड़े-बुज़ुर्ग रईस हैं। इसके अलावा यह भी माना जाता हैं की मई शब्द की उत्पत्ति लैटिन के मेजोरेस से हुई हैं।

6. जून :- इस माह में लोग विवाह करके घर बसाते थे। इसलिए परिवार के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले लैटिन शब्द जेन्स के आधार पर इसका नाम जून पड़ गया। एक अन्य मान्यता के अनुसार जिस तरह हमारे धर्म में इंद्र को देवताओं का राजा माना गया हैं, उसी तरह रोम में सबसे बड़े देवता जीयस हैं। जीयस की पत्नी का नाम जूनो हैं। इन्ही देवी के नाम से जून महीने का नामकरण माना जाता हैं।

7. जुलाई :- राजा जुलिअस सीजर का जन्म और मरण दोनों ही जुलाई महीने में हुआ था। इसलिए राजा जुलिअस के नाम पर इस महीने का नाम जुलाई हो गया।

8. अगस्त :- राजा जुलिअस सीजर के भतीजे आगस्टस सीजर ने अपने नाम को दुनिया में अमर बनाने के लिए सेक्सटिलिस महीने का नाम बदल कर अगस्टस कर दिया। जो बाद में आगे चलकर सिर्फ अगस्त ही रह गया।

9. सितम्बर :- रोम में सितम्बर को सैप्टेम्बर कहा जाता हैं। सेप्टैंबर में सेप्टै लेटिन वर्ड हैं, जिसका मतलब सात हैं और बर का मतलब हैं वां। यानी की सेप्टैंबर का अर्थ होता हैं सातवाँ लेकिन बाद में यह नौवा महिना बन गया।

10. अक्टूबर :- यह लैटिन के शब्द “ओक्ट” यानी आठ पर आधारित हैं, जिसका मतलब होता हैं आँठवा। लेकिन बाद में जब 2 महीने और जोड़ दिए गये तो यह दसवां महिना बन गया, लेकिन इसका नाम अक्टूबर ही रहा।

11. नवंबर :- नवम्बर को लैटिन भाषा में पहले ‘नोवेम्बर’ यानी नौवां कहा गया। लेकिन ग्यारहवां महिना बनने के बावजूद भी इसका नाम नहीं चेंज हुआ हैं और यह साल बीतने के बाद नोवेम्बर से नवंबर के नाम से जाना जाने लगा।

12. दिसम्बर :- यह लैटिन के डेसेम के शब्द से पड़ा हैं, इसे डेसेंबर कहा जाता था। जिसका मतलब 10वां होता हैं। लेकिन बाद में यह बारहवां महिना बन गया, लेकिन इसके नाम में कोई परिवर्तन नहीं आया।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

तेजस ट्रेन की स्पीड ऐसी होगी की बाकी ट्रेन कछुआ बन जाएँगी.
सांप से जुड़े हुए अंधविश्वास के बारे में जानिए? क्या आप भी इन्हें मानते हैं?
ATM पिन में 4 डिजिट ही क्यों होते हैं? जानिए ऐसे ही कुछ मजेदार सवालों के जवाब.
कैंसर थेरेपी के बारे में पूरी जानकारी जानिए।
महान सम्राट अशोक के रहस्यमय नवरत्न के बारे में जानिए.
रुपये के नोटों के बारे में रोचक जानकारी.
जानिए न्युटन के बारे में रोचक तथ्य.
सूरज के बारे में 21 रोचक जानकारी जरूर पढ़े.
किस ग्रह पर कितनी लम्बी रात होती हैं?
ओलिंपिक में स्वर्ण पदक या मेडल जितने वाले खिलाड़ी मैडल को दांतों से क्यों काटते हैं?
सुखी जीवन जीने के 10 सूत्र।
हाइड्रोजन पेरोक्साइड के उपयोगी घरेलु नुस्खे और उपाय।