शतावरी के टॉप 10 फायदे जानिए।

शतावरी के टॉप 10 फायदे जानिए।

शतावरी का वर्णन आयुर्वेद में भी मिलता हैं। शतावरी औषधीय गुणों से भरपूर हैं। इसमें ऐसे गुण पाए जाते हैं जो कई सारी बिमारियों को दूर करते हैं। आज के लेख में हम शतावरी के 10 बेहतरीन फायदे बताएँगे। Top 10 Benefits of Asparagus in Hindi.

शतावरी वैसे तो स्त्रियों के रोग जैसे की गर्भपात, बांझपन या फिर नयी बनी माँ में दूध न बनने की समस्या आदि को दूर करता हैं। इसे महिलाओं के लिए विशेष करके लाभकारी जड़ी-बूटी माना जाता हैं। लेकिन यह पौधा पुरुषो के लिए भी फायदेमंद होता हैं। इसका सेवन करने से पुरुषो का हॉर्मोन लेवल बढ़ जाता हैं और उनकी कामुकता में भी वृद्धि होती हैं। आयुर्वेद के अनुसार शतावरी की पत्तियां और जड़ शुक्रजनन, मधुर, शीतल और दिव्य गुणों से भरी हुई हैं। आइये जानते हैं शतावरी के फायदे क्या-क्या हैं?

शतावरी के फायदे :-

1. पेशाब में अगर खून आने की प्रॉब्लम हैं तो शतावरी का सेवन करना चाहिए। इससे मूत्र से खून आने की समस्या से छुटकारा मिलता हैं।

2. शतावरी के सेवन से गर्भ को पूरी तरह से पोषण मिलता हैं, जिससे स्त्रियों की प्रजनन क्षमता बढ़ती हैं। स्त्रियाँ शतावरी का सेवन करके बांझपन की समस्या से मुक्ति पा सकती हैं।

3. पीरियड्स के दौरान महिलाओं में फालतू पानी की वजह से उनका वजन बढ़ जाता हैं। ऐसे में शतावरी को खाने से मासिक धर्म के दौरान वजन बढ़ने की समस्या नहीं होती हैं।

4. शतावरी की ताज़ी जड़ को मोटा-मोटा कूट कर इसका रस निकाले और इसमें बराबर मात्रा में तिल का तेल मिला कर आग में पकाए। इस तेल को लगाने से माइग्रेन की वजह से होने वाले सिरदर्द को दूर करने में मदद मिलती हैं।

5. नयी बनी माँ का दूध बढ़ाने के लिए या फिर प्रसव के बाद नयी बनी माँ के स्तनों में दूध नहीं बन पा रहा हैं तो शतावरी के जड़ों का चूर्ण दिनभर में कम से कम 4 बार जरूर खाना चाहिए। इससे स्तनों में दूध बनने लगता हैं और अगर किसी माँ का दूध कम बन रहा हैं तो उसके ब्रेस्ट में दूध ज्यादा मात्रा में बनने लगता हैं।

6. शतावरी ऐसी जड़ी-बूटी हैं जो कई सारी बीमारियों का नाश करती हैं। यह जड़ी-बूटी टाइफाइड बुखार, हैजा, ई. कोलाई जैसी बिमारियों से लड़ने में आपकी मदद करती हैं। इन बिमारियों के बैक्टीरिया शरीर में मतली और डायरिया की समस्या पैदा करते हैं। जिन्हें शतावरी का सेवन करके नष्ट किया जा सकता हैं।

7. शतावरी की जड़ों के चूर्ण को दूध के साथ मिला कर नियमित रूप से लिया जाये तो डायबिटीज की बीमारी को दूर करने में काफी ज्यादा मदद मिलती है।

8. इसमें विटामिन ए पाया जाता हैं जो स्किन को सुंदर बनाता हैं। इसके सेवन से चेहरे का रंग निखरता हैं और चेहरे की झुर्रियां गायब होने लगती हैं।

9. शतावरी की तासीर ठंडी होती हैं। इसलिए यह बुखार, जलन और पेट के अल्सर को ख़त्म कर सकती हैं।

10. शतावरी के पत्तियों के रस में 2 चम्मच दूध मिला कर दिन भर में 2 बार पीने से शरीर में ताकत आती हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *