शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या में काले कपड़ो का दान करे.

Shani Saadhe Sati

शनि एक ऐसा ग्रह या देवता है जिसके कुप्रभाव से सभी भली भांति परिचित हैं। शनि देव को प्रसन्न करने के लिए सामान्यत: सभी कई प्रकार के प्रयत्न करते हैं। मूल रूप से ऐसा माना जाता है शनिवार के लिए शनिदेव को तेल चढ़ाने से वे प्रसन्न होते हैं। इसके अलावा ज्योतिष में कई और उपाय भी बताए गए हैं शनि को मनाने के। शनि को प्रसन्न करने के लिए काले कपड़ों का दान भी किया जाता है।

ज्योतिष के अनुसार शनि को न्याय का देवता माना जाता है। जाने-अनजाने में हमारे द्वारा किए गए सभी पापों का फल शनि देव हमें अवश्य देते हैं, इसमें कोई संदेह नहीं है। बुरे कर्मों का फल शनि द्वारा साढ़े साती और ढैय्या में दिया जाता है। जिसके प्रभाव से व्यक्ति को कई दुख और कष्ट भोगने पड़ते हैं। इन कष्टों और दुखों के प्रभाव को कम करने के लिए शनि देव की पूजा की करने के साथ ही कई प्रकार के दान करने होते हैं।

शनि को प्रसन्न करने के लिए काले कपड़ों का दान किसी जरूरतमंद गरीब व्यक्ति को किया जाता है। शनि श्याम वर्ण हैं और उन्हें काला रंग अति प्रिय है। उनका वेश भी काला ही है। उन्हें काले रंग की हर वस्तु विशेष प्रिय है। अत: उनके निमित्त काले वस्त्रों का दान किया जाता है। शनि देव गरीब लोगों का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसलिए किसी गरीब व्यक्ति को ही काले कपड़ों का दान दिया जाता है।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में इन टूटी-फूटी चीजों को रखने से होते हैं कई नुकसान।
साईं बाबा के 4 अनमोल विचार जो आपकी जिंदगी को बदल सकते हैं।
भीष्म पितामह इस वजह से असंख्य बाणों की शय्या पर लेटे रहे।
रुद्राक्ष के बारे में महत्पूर्ण जानकारी।
नदी में सिक्के क्यों डाले जाते हैं? इसकी शुरुवात कैसे हुई?
लोहड़ी के त्यौहार के बारे में जानकारी और इसकी कथा।
महाशिवरात्रि की व्रत कथा और इसका महत्व और कैसे मनाना चाहिए?
शंख बजाने के फायदे और शंख के प्रकार जानिए।
जानिए 10 ऐसी परम्पराएं जिनके पीछे छुपा हैं वैज्ञानिक कारण।
आत्मविश्वास (self-confidence) बढ़ाने के कारगर ज्योतिष उपाय।
जानिए 12 राशियों के गुण, राशी के अनुसार व्यक्ति का स्वभाव कैसा होता हैं?
जानिए शिवलिंग पर जल या दूध चढ़ाने के पीछे क्या कारण हैं?