सावन के महीने में भगवान शिव को यह चीज़े चढ़ानी चाहिए।

सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा ऐसे करनी चाहिए? इससे भगवान शंकर होते हैं प्रसन्न

सावन का महिना हिन्दू धर्म में सबसे पवित्र महिना हैं। श्रावण मास खास करके भगवान शंकर जी का प्रिय मास हैं। इस महीने में सभी शिवालयों में शिवभक्तों की भीड़ इकट्ठा होने लगती हैं। सभी शिव भक्त भगवान शंकर जी को जल चढ़ा कर प्रसन्न करना चाहते हैं। सोमवार के दिन तो शिवलिंग पर विशेष रूप से जल चढ़ाया जाता हैं। भगवान शिव महाकाल हैं, इसलिए इनकी आराधना करने से गंभीर से गंभीर रोग दूर हो जाते हैं।

सावन के महीने में भगवान शंकर अपने भक्तों पर विशेष कृपा बरसाते हैं। आज के लेख में हम जानेंगे की सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा कैसे करनी चाहिए? अर्थात विभिन्न मनोकामनाओं को पूर्ण करने के लिए शिवलिंग कर कौन सी चीज़े चढ़ानी चाहिए। यह भी जानेंगे की कौन सी चीजों को अर्पण करने से भगवान शंकर जल्दी प्रसन्न को जाते हैं और भक्तों के संकट दूर करते हैं।

शिवलिंग पर यह चीज़े चढ़ाने से प्राप्त होते हैं विभिन्न फल :-

■ संतान प्राप्ति के लिए

अगर आपकी कोई संतान नहीं हैं या फिर संतान सूख में बाधा हो रही हो। तो सावन के महीने में प्रतिदिन शिवलिंग पर धतुरा चढ़ाना चाहिए। इससे भगवान शंकर जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं और घर में शीघ्र ही बच्चे की किलकारी गूंजने लगती हैं। यानि की यह उपाय सावन में अपनाने से संतान पक्ष मजबूत बनता हैं। संतान होने के योग प्रबल बनते हैं।

■ वैवाहिक जीवन सुखमय बनाने के लिए

अगर आपका वैवाहिक जीवन परेशानियों से भरा हुआ हैं या फिर आपकी शादी नहीं हो रही हैं। तो आपको पुरे सावन के महीने में रोजाना शिवलिंग पर केसर मिश्रित जल चढ़ाना चाहिए। इससे विवाह से जुड़ी हुई सभी रुकावटें दूर हो जाती हैं। अगर आपका विवाह हो गया हैं तो इससे वैवाहिक जीवन की समस्याएं दूर होती हैं और वैवाहिक जीवन सुखमय और शांतिमय बनता हैं।

■ पैसों की कमी दूर करने के लिए

अगर घर की आर्थिक स्तिथि खराब हैं यानि घर में पैसों की कमी हो गयी हैं। तो सावन में प्रतिदिन शिवलिंग पर अखंडित चावल अर्पित करने चाहिए। इससे भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती ही हैं, साथ में धन की देवी लक्ष्मी जी अपनी कृपा बरसाने लगती हैं। इससे आपके घर में पैसों की तंगी दूर होने लगेगी। आपके घर की आर्थिक स्तिथि में तेज़ी के साथ सुधार होने लगता हैं।

जरूर पढ़े :- गरीबी दूर करना चाहते हैं तो शुक्रवार को करे यह उपाय।

■ टी.बी. रोग दूर करने के लिए

शिवपुराण के अनुसार अगर कोई मनुष्य क्षय (टी.बी.) की बीमारी से पीड़ित हैं तो उसे शिव चतुर्दशी के दिन भगवान शिव का अभिषेक शहद से करना चाहिए। इस उपाय को अगर सोमवार के दिन किया जाये तो व्यक्ति को बहुत जल्दी फायदा होता हैं। शिवजी का अभिषेक शहद से करने के बाद मरीज़ को भगवान शिव से जल्दी ठीक करने की प्राथना करनी चाहिए। इस उपाय को करने के साथ डॉक्टर के परामर्श से दवाइयों का सेवन भी जरूर करना चाहिए। मतलब की आपको मेडिकल जांच और दवाइयां भी खानी हैं।

■ मनोबल मजबूत बनाने के लिए

अगर आप स्वयं को अकेला और कमजोर महसूस करते हैं। तो आपको शिवलिंग पर बेलपत्र अर्पित करने के बाद जल चढ़ाना चाहिए। फिर उसी समय उस बिल्वपत्र को उठा कर अपनी शर्ट की उपरवाली जेब में रख लेना चाहिए। इस बेलपत्र को पूरा दिन अपने साथ रखना चाहिए और शाम होने पर इस बेलपत्र को किसी पेड़ के नीचे या गमले में रख देना चाहिए। ऐसी मान्यता हैं की इस उपाय को करने से भगवान शिव खुद व्यक्ति के साथ रहते हैं और उसका मनोबल बढ़ाते हैं। इससे व्यक्ति के मन में जीवन के प्रति होने वाली निराशा दूर हो जाती हैं।

■ शनि और मंगल ग्रह को शांत करने के लिए

जिन जातकों की कुंडली में शनि दोष या फिर किसी तरह से शनि देव उन्हें पीड़ा पंहुचा रहे हैं। तो ऐसे जातकों को शनि ग्रह दोष के निवारण हेतु जल में काले तिल मिला कर शिवलिंग पर चढ़ाना चाहिए। इससे शनि देव शांत होते हैं। इसके अलावा कुंडली में मंगल दोष हैं तो घर में पके हुए चावलों से भगवान भोलेनाथ का श्रृंगार करके पूजा करनी चाहिए। इससे मंगल दोष का निवारण होने लगता हैं।

जरूर पढ़े :- शनि देव को प्रसन्न करने के सरल उपाय।

■ बुखार ठीक करने के लिए

अगर लगातार दवाइयों के सेवन के बाद भी बुखार खत्म न हो रहा हैं तो दवाई तो लेते ही रहना हैं। साथ ही त्रयोदशी या शिव चतुर्दशी को शिवलिंग पर जल अर्पित करना चाहिए। साथ ही देवों के देव महादेव से जल्दी ठीक करने की प्राथना करनी चाहिए। ऐसा करने से बुखार जल्दी ठीक होने लगता हैं।

■ मेहनत का फल न प्राप्त हो पाए तो

अगर कठोर परिश्रम करने के बावजूद आपको आपकी मेहनत का फल नहीं मिल पा रहा हैं। तो सावन के महीने में हर दिन शिवलिंग की पूजा पारे से करनी चाहिए। इससे आपके द्वारा की गयी मेहनत का फल जल्दी प्राप्त होने लगता हैं।

■ कमजोर दिमाग वाले बच्चे के लिए

अगर किसी बच्चे का दिमाग कमजोर हैं तो ऐसे बच्चे के हाथों दूध में शक्कर मिला कर शिवलिंग का अभिषेक करवाना चाहिए। शिवपुराण में यह वर्णन हैं की इस उपाय को करने से दिमाग तेज़ बनने लगता हैं।

■ बिमारियों से मुक्ति पाने के लिए

अगर आप आरोग्य रहना चाहते हैं और बार-बार दवाइयों का सेवन करने के बावजूद बीमारी से छुटकारा नहीं मिल पा रहा हैं। तो पानी में दूध और काले तिल मिला कर शिवलिंग पर अर्पित करे। इससे आपकी बीमारी दूर होने लगती हैं। लेकिन नियमित रूप से डॉक्टर से परामर्श भी लेते रहे और ठीक समय पर डॉक्टर द्वारा दी गयी दवाइयों को भी जरूर खाए।

शिवलिंग की पूजा करते समय ऐसा जरूर करे

सावन के महीने में शिवलिंग पर जब भी आप जल अर्पित करते हैं। यानी शिवलिंग पर जल चढ़ाते समय दोनों हथेलियों से शिवलिंग को रगड़ना चाहिए। इससे  भाग्य आपका साथ देने लगता हैं। ऐसा करने से आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होने लगती हैं।

ॐ नमः शिवाय मंत्र का जाप करे

अगर आपके पास गाड़ी यानि वाहन नहीं हैं तो प्रतिदिन शिवलिंग पर चमेली का फूल अर्पित करे। और उसके बाद भगवान शिव के पंचाक्षरी मंत्र ॐ नमः शिवाय का जाप 108 बार करे। इससे न सिर्फ आपको वाहन सुख जल्दी प्राप्त होगा। बल्कि इस तरीके से शिव जी की पूजा करने से आपके सभी कार्य भी बनने लगते है।

सावन के महीने में भगवान शिव पर कौन से फूल चढ़ाने चाहिए?

श्रावण माह भगवान शिव का अति प्रिय माह हैं। आइये जानते हैं की इस महीने में शिवजी की पूजा किन फूलों का इस्तेमाल करने से क्या-क्या लाभ होते हैं? यानी की शिवलिंग पर कौन से फूल अर्पण करने से शिव जी जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं। आप भी निचे बताये गये फूलों को शिवलिंग पर अर्पित करे और भगवान रूद्र की कृपा प्राप्त करे।

सावन के महीने में शिवलिंग पर यह फूल चढ़ाना चाहिए

भगवान भोलेनाथ को निम्नलिखित फूल चढ़ाने से प्राप्त होने वाले फल :-

1. शिवलिंग पर हरसिंगार के फूलों को अर्पित करने से सुख-सम्पति में बढ़ोतरी होती हैं।

2. मदार यानि आक के फूलों को अर्पण करने से मनुष्य की आयु लम्बी होती हैं।

3. अगर शिवलिंग पर सच्चे मन से एक लाख बेलपत्र चढ़ाए जाये तो भक्त की हर इच्छा भगवान शिव पूरी करते हैं।

4. गुड़हल यानि जपाकुसुम (अड़हुल) के फूल को शिवलिंग पर चढ़ाने से शत्रुओं का नाश हो जाता हैं।

5. पुत्र प्राप्ति हेतु शिवलिंग पर धतूरे के पुष्प चढ़ाने चाहिए।

6. शमी, आक, अलसी और बेलपत्र को शिवलिंग पर चढ़ाने से मोक्ष प्राप्ति में आसानी होती हैं।

7. दुपाहरिया के फूलों से शिवजी की पूजा करने से सोने के गहने (आभूषण) प्राप्त होते हैं।

8. बेला के फूल शिवलिंग पर अर्पित करने से अविवाहितों को सुंदर पत्नी की प्राप्ति होती हैं।

9. धन की प्राप्ति हेतु भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करना चाहते हैं तो शिवलिंग पर शंखपुष्प के फूल अर्पित करे।

ध्यान रहे :- भगवान शंकर की पूजा में केवड़ा और चम्पा के फूल कभी नहीं चढ़ाने चाहिए। इसके अलावा तुलसी के पत्ते भी नहीं अर्पित करने चाहिए। यह तीनो शिवजी की पूजा में वर्जित माने गये हैं। केतकी के फूल भी शिवजी की पूजा में निषेध हैं। इसे भी शिवलिंग पर अर्पित नहीं करना चाहिए। जो मनुष्य इन चारों चीज़ों को भगवान शिव पर अर्पित करता है, उसे भगवान शिव के कोप का भागी बनना पड़ता हैं। ऐसा करने से भगवान शिव उस पर पर क्रोधित हो जाते हैं और उसे काफी बुरे फल देते हैं।








इन्हें भी जरूर पढ़े...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *