सुबह उठकर इन चीजों को नहीं देखना चाहिए।

सुबह उठकर इन चीजों को नहीं देखना चाहिए।

शास्त्रों के अनुसार दिन की शुरुवात अगर सही रहे तो पूरा दिन अच्छे से बीतता हैं। अगर आप सुबह उठते ही कुछ गलत चीजों के दर्शन कर लेते हैं तो आपका सारा दिन बहुत ही खराब बीतेगा। इसलिए आपको यह जानना जरूरी हैं की सुबह उठते ही किन किन चीजों को नहीं देखना चाहिए, ताकि पूरा दिन अच्छे से बीत पाए। आइये जानते हैं सुबह के समय कौन सी चीजों को देखना अशुभ माना जाता हैं।

सुबह के समय उठकर यह चीज़े सबसे पहले नहीं देखनी चाहिए :-

1. सुबह के समय नाश्ता करने से पहले किसी भी जानवर या गाँव का नाम नहीं लेना चाहिए। इससे दिन अच्छा नहीं बीतता हैं।

2. अपने दिन की शुरुवात अपने इष्टदेव का ध्यान करके करना चाहिए। इससे आपके जीवन पर पॉजिटिव असर पड़ता हैं। इसके अलावा किसी राक्षस आदि का नाम भी अपनी जुबान से नहीं लेना चाहिए।

3. सुबह उठकर कभी ही दर्पण नहीं देखना चाहिए। अगर आपने ऐसा किया तो आपका सारा दिन बेकार गुजरेगा। यह नाकरात्मक चीज़े होती हैं जो आपको दुखी करेंगी।

4. अगर संभव हो सके तो ऐसे चित्र लगाए जिससे पॉजिटिव एनर्जी प्राप्त हो सके। जैसे की नारियल, शंख, मोर, हँस या फूल के चित्र।

5. सुबह उठते ही किसी भी व्यक्ति का चेहरा न देखे। क्योंकि कब किसका चेहरा आपके लिए अशुभ साबित हो जाये, यह कहा नहीं जा सकता हैं।

6. बिस्तर पर उठने के बाद सबसे पहले अपने दोनों हाथों की हथेलियों को देखना चाहिए। यह अति शुभ माना जाता हैं और कुछ लोग इस नियम का पालन भी करते हैं। सबसे पहले उठकर अपने इष्टदेव के मंत्र का उच्चारण करे और फिर हाथो को खोल कर अपनी हथेलियों को ध्यान से देखे और फिर इन्हें अपने आँखों पर लगाये। क्योंकि आपकी हाथों की हथेलियों में ब्रह्मा, माँ लक्ष्मी और माँ सरस्वती का वास होता हैं। इसके अलावा इन प्रमुख देवी-देवताओं के साथ ही हमारे दोनों हाथों में कुछ तीर्थ भी होते हैं।

7. सुबह उठते ही शंख या मंदिर की घंटियाँ सुनाई दे तो यह आपके अंदर पॉजिटिव एनर्जी का संचार करती हैं।



अगर लेख अच्छा लगा हो तो निचे सोशल मीडिया बटन से अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले, क्योंकि आपका एक शेयर इस वेबसाइट को आगे जारी रखने के लिए हमें प्रेणना देगा...

इन्हें भी जरूर पढ़े...

जानिए रुद्राक्ष कितनी तरह के होते हैं और इनके क्या लाभ हैं?
जानिए सीता जी के बारे में रोचक तथ्य.
सत्यनारायण व्रत करने का महत्व क्या हैं?
क्या वाकई में अश्वत्थामा जीवित हैं?
नरक और स्वर्ग में भेजने के लिए यमराज का फैसला.
मकर संक्रांति के दिन दान क्यों किया जाता हैं और जानिए राशि अनुसार क्या दान करना चाहिए?
समुद्र मंथन में बाली ने लिया था देवो की ओर से भाग, उसी में से निकली थी पत्नी तारा!
जीवित्पुत्रिका व्रत (जिउतिया) की कथा और इसे कैसे मनाया जाता हैं।
जानिए मोहिनी एकादशी व्रत के बारे में...
फायदे की जगह पैसे का नुकसान भी करवा सकता हैं मनी प्लांट।
घर की नेगेटिव एनर्जी और पैसों की कमी को दूर करने के जरूर करे यह 5 उपाय।
विभिन्न मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए इन विभिन्न भगवान को दिपक जलाकर प्रसन्न करे।